Thursday, May 23, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'शांतिदूतों' के रडार पर जावेद अख्तर: कहा- हिजाब खुदा का आदेश, जिसे हराम और...

‘शांतिदूतों’ के रडार पर जावेद अख्तर: कहा- हिजाब खुदा का आदेश, जिसे हराम और हलाल का पता नहीं वो क्या जाने पर्दे की अहमियत

"कुछ लोग होते हैं जो अपने हिसाब से इस्लाम को फॉलो करते हैं। उन्हें कुुरान और हदीस से सिर्फ वो बातें चाहिए होती है तो उनके मतलब की हो। लेकिन इमान वाला वही है जो पूरे इस्लाम को माने।"

विवादास्पद गीतकार जावेद अख्तर ने कर्नाटक के कॉलेजों में हिजाब को लेकर छिड़े विवाद पर गुरुवार (10 फरवरी 2022) को प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कर्नाटक से हाल ही में सामने आई घटनाओं पर नाराजगी जताई। इसके बाद वह एक बार फिर आलोचनाओं का शिकार हो गए। इस बार इस्लामवादी उन्हें इस्लाम की ‘मूल’ बातें सिखा रहे हैं।

जावेद अख्तर ने लिखा, “मैं कभी भी हिजाब या बुर्का के पक्ष में नहीं रहा। मैं अब भी उस पर कायम हूँ, लेकिन साथ ही मुझे गुंडों की इन भीड़ पर गुस्सा आता है जो लड़कियों के एक छोटे समूह को डराने की कोशिश कर रहे हैं और वह भी असफल रूप से। क्या ये मर्दानगी है। कितने अफ़सोस की बात है।” 

इस ट्वीट के करते ही जावेद अख्तर मिनटों में इस्लामवादियों के रडार पर आ गए। हर एक इस्लामवादी उन्हें इस्लाम की शिक्षा देते देखा गया। aamadmi29 के एक ट्विटर हैंडल ने कहा, “हिजाब महिलाओं के लिए खुदा का आदेश है और उन्हें इसका पालन करना होगा।”

‘Pakisdani’ नाम के एक अन्य ट्विटर यूजर ने जावेद अख्तर के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, “हिजाब और बुर्का को आपकी मँजूरी की जरूरत नहीं है। यह एक च्वाइस है, बस इसे स्वीकार करें। यह एक सार्वभौमिक अधिकार है। भारत में कुछ लोगों को और अधिक परिपक्व और सहनशील बनने की आवश्यकता है। दूसरों को जीने दो और अपनी विचारधारा उन पर मत थोपो!”

आकिब अंसारी ने लिखा, “इस्लाम में बुर्का या हिजाब सबसे महत्वपूर्ण प्रथा है।”

एक अन्य इस्लामवादी ट्विटर हैंडल @Zraar640 ने लिखा, “अल्लाह आप पर रहम करे। मुस्लिम हो कर हज़रत मुहम्मद के फ़रमान से इनकार कर रहे हो।”

नईम खान ने पोस्ट करते हुए लिखा, “कुछ लोग होते हैं जो अपने हिसाब से इस्लाम को फॉलो करते हैं। उन्हें कुुरान और हदीस से सिर्फ वो बातें चाहिए होती है तो उनके मतलब की हो। लेकिन इमान वाला वही है जो पूरे इस्लाम को माने। अगर एक भी बात कुरान और हदीस की नहीं मानोगे तो तुम मुसलमान नहीं हो।”

आयशा सिकंदर ने जावेद अख्तर को जवाब देते हुए कहा, “आप एक प्रसिद्ध लेखक हैं, कवि हैं और न जाने क्या-क्या… लेकिन आप कुरान में जो लिखा है, उसे पढ़ने और समझने में विफल रहे हैं। विडंबना… कभी-कभी इतना ज्ञान प्राप्त करने के बाद आपको कुछ भी नहीं मिलता है।”

एम इदरीस खत्री ने कहा, “जिसे हराम और हलाल का पता नहीं वो क्या जाने इस्लाम में पर्दे की अहमियत को।”

जावेद अख्तर की ट्विटर टाइमलाइन पर इस्लामवादियों के ऐसे ट्वीट्स की बाढ़ आ गई है, जिनमें हिजाब का समर्थन नहीं करने के लिए उनकी आलोचना की गई है और इस्लाम के बारे में ‘उनके ज्ञान की कमी’ को लेकर शिक्षा दी गई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस नेता को ED से राहत, खालिस्तानियों को जमानत… जानिए कौन हैं हिन्दुओं पर हमले के 18 इस्लामी आरोपितों को छोड़ने वाले HC जज...

नवंबर 2023 में जब राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी चरम पर थी, जब जस्टिस फरजंद अली ने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार मेवाराम जैन को ED से राहत दी थी।

रोहिणी आचार्य के पहुँचने के बाद शुरू हुई हिंसा, पूर्व CM का बॉडीगार्ड लेकर घूम रही थीं: बिहार पुलिस ने दर्ज की 7 FIR,...

राबड़ी आवास पर उपस्थित बॉडीगार्ड और पुलिसकर्मियों से पूरे मामले में पूछताछ की इस दौरान विशेष अधिकारी मौजूद रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -