Tuesday, September 28, 2021
Homeसोशल ट्रेंडप्रियंका चोपड़ा के गले में 'मंगलसूत्र' देख भड़के नारीवादी, पूछा- क्रांति आएगी तो कहाँ...

प्रियंका चोपड़ा के गले में ‘मंगलसूत्र’ देख भड़के नारीवादी, पूछा- क्रांति आएगी तो कहाँ छुपोगी

एक फेमिनिस्ट लिखती है, " 'मंगलसूत्र उन महिलाओं के लिए जो अपने जीवन की गाड़ी खुद चलाती हैं' जब क्रांति आएगी, प्रियंका चोपड़ा तुम कहाँ छिपोगी।"

अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा ने वोग मैग्जीन के साथ अपने हालिया फोटोशूट में डिजाइनर ब्रांड Bvlgari का मंगलसूत्र पहना और इसकी एक झलक अपने इंस्टाग्राम पर भी शेयर की। इस तस्वीर को देखने के बाद कई नारीवादी भड़क उठे और अभिनेत्री पर ‘पितृसत्तात्मक उत्पीड़न’ का प्रतीक पहनने का आरोप लगाया। उन्होंने मंगलसूत्र को निशाना बनाते हुए अपनी घृणा व्यक्त की। साथ ही प्रियंका को आर्थिक लाभ के लिए ऐसे चिह्नों का प्रमोशन करने वाला बताया।

एक 19 साल की ट्विटर यूजर जो खुद के बायो में मार्क्सवादी फेमिनिस्ट लिखती हैं। वो प्रियंका की यह तस्वीर देख कर उन पर आर्थिक फायदे के लिए फेमिनिज्म को बर्बाद करने का आरोप लगाती हैं। वह कहती हैं, ” ‘मंगलसूत्र उन महिलाओं के लिए जो अपने जीवन की गाड़ी खुद चलाती हैं’ जब क्रांति आएगी, प्रियंका चोपड़ा तुम कहाँ छुपोगी।”

एक अन्य फेमिनिस्ट प्रियंका चोपड़ा से इसी बात पर नाराज दिखती हैं कि आखिर वह डिजाइनर ब्रांड के साथ जुड़कर बहुत पैसे कमा रही हैं। यूजर ने अपनी कुंठा निकालने के लिए शादी जैसे पवित्र बंधन की दहेज जैसी सामाजिक कुरीति से तुलना की और इसी आधार पर शादी का मजाक उड़ाया।

सोशल मीडिया फेमिनिस्टों के अलावा इंडिया टुडे की पत्रकार ऐश्वर्य सुब्रमण्यम ने भी प्रियंका के इस फोटोशूट पर नाराजगी व्यक्त की। ये वही पत्रकार हैं जो ‘जेनऊ’ जैसे हिंदू प्रतीकों का भी मजाक उड़ाती रही हैं।

इसके अलावा वह एक क्लब हाउस चर्चा का भी हिस्सा रही थीं, जहाँ सुब्रमण्यम को ‘वोक लिबरलों’ के रेप कल्चर को सही ठहराते हुए पाया गया था। उस समय क्लब हाउस में बलात्कार की संस्कृति को सामान्य करने वाली बातचीत सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी।

ऐसे ही उन्होंने एक और क्लबहाउस चर्चा में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी जिसमें कुशा कपिला जैसे अन्य सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर ‘hate sex’ with Sanghis’ पर चर्चा कर रहे थे।

बता दें कि अपने फोटोशूट में प्रियंका चोपड़ा ने जो Bvlgari का मंगलसूत्र पहना है, उसकी कीमत ₹3, 49,000 है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe