Saturday, October 16, 2021
Homeसोशल ट्रेंड'अल्लाह-हू-अकबर, कश्मीर बनेगा पाकिस्तान'- तारिक फ़तेह ने शेयर किया वीडियो, लोगों ने कहा- 'इन्हें...

‘अल्लाह-हू-अकबर, कश्मीर बनेगा पाकिस्तान’- तारिक फ़तेह ने शेयर किया वीडियो, लोगों ने कहा- ‘इन्हें खालिस्तानी मत कहना’

सोशल मीडिया पर एक ऐसा वीडियो सामने आया है जिसमें विदेशों में रहने वालो कुछ सिखों को खालिस्तान-पाकिस्तान के समर्थन में और मजहबी नारे लगाते हुए देखा जा सकता है।

नए कृषि कानून के विरोध में चल रहे कथित किसान आन्दोलन पर खालिस्तानी सम्बन्धों का भी आरोप लगता आया है। एक ओर जहाँ कल ही किसान नेताओं ने असम को भारत से अलग कर देने की बात कहने वाले शरजील इमाम से लेकर दिल्ली में हिन्दू विरोधी दंगों के जिम्मेदारों की रिहाई की बात की, तो वहीं दूसरी ओर सोशल मीडिया पर एक ऐसा पुराना वीडियो सामने आया है जिसमें विदेश में सड़कों पर सिख समुदाय के कुछ लोगों को खालिस्तान-पाकिस्तान के समर्थन में और मजहबी नारे लगाते हुए देखा जा सकता है।

पाकिस्तानी मूल के कनाडाई लेखक तारिक फतेह ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “लन्दन में सिख गा रहे हैं – ‘अल्लाह-हू-अकबर, कश्मीर बनेगा पाकिस्तान, पंजाब बनेगा खालिस्तान, इमरान खान जिंदाबाद’। ISI के सहयोग से जिहादी खालिस्तानी भी आपके पड़ोस में आते ही होंगे।”

इस वीडियो में पीले झंडे हाथों में लिए हुए कुछ सिख लोग एक जगह पर इकट्ठे होकर ‘वजीर ए आजम इमरान खान जिंदाबाद’ से लेकर मजहबी नारे तक ऊँची आवाज में दोहरा रहे हैं।

शीला शर्मा नाम की एक ट्विटर यूजर ने यह वीडियो शेयर करते हुए लिखा है, “यह देखना शर्मनाक है कि ये खालिस्तानी उन लोगों के नारे लगा रहे हैं जिन्होंने हमारे गुरुओं की निर्मम हत्या की।”

एक अन्य ट्विटर यूजर ‘मिस्टर सिन्हा’ ने ये वीडियो रीट्वीट करते हुए लिखा है, “लंदन में अल्लाह-हू-अकबर – पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगाने वाले किसान समर्थक सिख। ना भाई कोई इनको खालिस्तानी मत कहना, अन्नदाता हैं ये।”

गौरतलब है कि किसान आँदोलन गैर-राजनीतिक होने का दावा करते आ रहे हैं। बावजूद इसके, इन प्रदर्शनों में ही भारत-विरोधी षड्यंत्र भी लोगों के बीच बहस का विषय हैं। हालाँकि, अभी तक इस प्रकार के खालिस्तान के समर्थन में भारत में खुलेआम नारेबाजी नहीं देखी गई हैं लेकिन विभिन्न कयासों के बीच तारिक फ़तेह द्वारा शेयर किया गया यह पुराना वायरल वीडियो कहीं ना कहीं इन आंदोलनों के भयावह रूप लेने की ओर जरुर इशारा करता है।

भारत में 12 दिसंबर को किसानों ने जयपुर-दिल्ली और आगरा-दिल्ली रास्ता बंद करने की चेतावनी दी है। फिलहाल 26 नवंबर से चंडीगढ़ और रोहतक हाईवे पर हजारों की संख्या में हरियाणा और पंजाब के किसान डेरा डाले हुए हैं। जबकि पश्चिम यपी के किसान मेरठ-दिल्ली के रास्ते पर मोर्चा संभाले हैं। बताया जा रहा है कि हरियाणा के सोनीपत में किसानों ने रिलायंस मॉल ही बंद करवाकर उस पर ताला लगवा दिया। आंदोलन कर रहे किसानों ने अंबानी और अडानी का बॉयकाट करने का भी ऐलान किया है।


राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने बुधवार (दिसंबर 09, 2020) को ही 16 खालिस्तान समर्थकों के खिलाफ आतंक निरोधी कानून यूएपीए के तहत आरोप पत्र दाखिल किया है। इनके खिलाफ भड़काऊ गतिविधियों में शामिल रहने और देश में क्षेत्र व धर्म के आधार पर आपसी बैर को बढ़ावा देने का आरोप लगाया गया है। इनमें से सात आरोपित फिलहाल अमेरिका में रहे हैं, जबकि तीन आरोपी कनाडा और छह आरोपी ब्रिटेन में रह रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

निहंगों ने की दलित युवक की हत्या, शव और हाथ काट कर लटका दिए: ‘द टेलीग्राफ’ सहित कई अंग्रेजी अख़बारों के लिए ये ‘सामान्य...

उन्होंने (निहंगों ) दलित युवक की नृशंस हत्या करने के बाद दलित युवक के शव, कटे हुए दाहिने हाथ को किसानों के मंच से थोड़ी ही दूर लटका दिया गया।

मुस्लिम भीड़ ने पार्थ दास के शरीर से नोचे अंग, हिंदू परिवार में माँ-बेटी-भतीजी सब से रेप: नमाज के बाद बांग्लादेश में इस्लामी आतंक

इस्‍कॉन से जुड़े राधारमण दास ने ट्वीट कर बताया कि पार्थ को बुरी तरह से पीटा गया था कि जब उनका शव मिला तो शरीर के अंदर के हिस्से गायब थे। 

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
128,877FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe