Friday, June 14, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'4 हिंदू बेटियों का मुस्लिम लड़कों से करवा चुका निकाह' : सोहेल अंसारी को...

‘4 हिंदू बेटियों का मुस्लिम लड़कों से करवा चुका निकाह’ : सोहेल अंसारी को लेकर बाबा बागेश्वर का दावा, ‘अश्लील वीडियोज’ वाले योगा टीचर ने गिड़गिड़ाकर माफी माँगी

सोहेल अंसारी की वीडियो पर बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि एक योग करने वाला है उसका नाम सोहेल है। उसने 4 हिंदू बेटियों का निकाह मुस्लिमों से करवा दिया है।

योग के नाम पर लड़कियों के साथ अश्लील वीडियो बनाने वाले सोहेल अंसारी की हरकत अब हर जगह वायरल है। सवाल किया जा रहा है कि आखिर सोहेल कैसा योग सिखाता है जिसे लोगों को देखकर प्रेरणा मिलने की जगह उससे घृणा होने लगी है। अब इसी सोहेल अंसारी की वीडियो पर बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने भी प्रतिक्रिया दी है। उनकी प्रतिक्रिया की वीडियो भी जमकर शेयर हो रही है। अपनी वीडियो में उन्होंने सोहेल अंसारी को लेकर एक चौंकाने वाला दावा भी किया है।

उन्होंने कहा कि एक योग करने वाला है उसका नाम सोहेल है। वो हिंदू बेटियों के साथ योग करके वीडियो बनाता है। और ऐसा कर करके उसने 4 हिंदू बेटियों का निकाह मुस्लिमों से करवा दिया है। पंडित धीरेंद्र शास्त्री कहते हैं- “इतनी गंदी राजनीति है इन धर्म विरोधियों की इन आस्तीन के साँपों की। वो योग के जरिए युवा लड़कियों को फँसाता है मुस्लिमों के लड़कों से चक्कर चलवाता है।” पंडित धीरेंद्र शास्त्री ऐसी हरकत पर कहते हैं- “जब भारत में ऐसी चीजें होती हैं तो मेरा खून खौल जाता है।”

गौरतलब है कि बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र शास्त्री की इस वीडियो के अलावा इस मामले में जागरूरता फैलाने के लिए सोहेल अंसारी के मुद्दे से जुड़ी एक वीडियो बागेश्वर धाम सरकार के आधिकारिक अकॉउंट से भी शेयर की गई है।

इसमें कहा गया था कि दिल्ली के लोधी गार्डन में योगा की नहीं बल्कि अश्लीलता की क्लासेस चलाता है। दो दिन पहले हमने एक वीडियो जारी कर अपील की थी कि ये योगा क्लासेस बंद होनी चाहिए। इसके बाद सोहेल ने माफी माँगी है।

बता दें कि सोहेल अंसारी अपने आपको योग टीचर बताता है और ऐसी वीडियोज इंस्टाग्राम पर डालता है। शुरू में ऐसी वीडियोज के चलते उसके फॉलोवर्स भी बढ़े लेकिन बाद में हिंदू कार्यकर्ताओं तक जब ये वीडियो पहुँची तो उन्होंने इसका विरोध किया।

नतीजा ये हुआ कि सोहेल अंसारी को अपनी हरकतों की माफी माँगनी पड़ी। उसने अपने इंस्टा पर एक वीडियो को पोस्ट करते हुए बताया कि वो एक एडवांस योगा टीचर हैं और 2010 में कॉमन वेल्थ गेम में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुका है।

सोहेल ने अपने बारे में जानकारी देते हुए कहा कि वो पिछले 15 साल से योग सिखा रहा है और उसके पास बच्चे एडवांस योगा सीखने आते हैं। उसने सफाई देते हुए कहा, “मैं कोशिश करता हूँ कि योग के माध्यम से सबका भला हो। किसी की भावानाओं को आहत पहुँचाने की इरादा नहीं रखता हूँ। योग सीखाने के दौरान न तो मैं जाति देखता हूँ और न ही धर्म देखता हूँ। मैं लड़का लड़की में भी फर्क नहीं करता, क्योंकि मैं एक शिक्षक हूँ और शिक्षक भेदभाव नहीं करता है। मैं एक कुम्हार की तरह घड़े को आकार देता हूँ। मेरे पास एडवांस योगा सीखने ही लोग आते हैं और अधिकतर सभी शिक्षक ही होते हैं। लेकिन मुझे काफी दुख हुआ, क्योंकि मेरे कुछ वीडियो से लोगों की भावनाएँ आहत हुई है। जबकि मेरा ऐसा कोई भी इरादा नहीं था। दुख हुआ कि किसी की भावना को मेरे वीडियो की वजह से आहत हुई। अगर आपको किसी वीडियो से आपत्ति है तो मुझे बताएँ मैं वो वीडियो हटा दूँगा। मैं आपसे माफी माँगता हूँ।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -