विषय: जस्टिस काटजू

काटजू की सलाह लोगों की समझ में आएगी, या काटजू ने बर्र के छत्ते में हाथ मार दिया है?

हिंदी पहले ही राष्ट्रभाषा बन चुकी है, बहुत स्कोप है: जस्टिस काटजू

हिंदी-ज्ञान अपने प्रदेश के बाहर निकल कर रोजगार की आकाँक्षा रखने वाले वर्ग की आवश्यकता है। हिंदी को 'एक प्रकार की' राष्ट्रीय भाषा का दर्जा मिल ही चुका है।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,675फैंसलाइक करें
35,732फॉलोवर्सफॉलो करें
163,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements