Tuesday, March 9, 2021

विषय

Indian Independence

भारत में टेस्टिंग फेज में कोरोना की 3 वैक्सीन, रिकॉर्ड समय में 1400 लैब्स तैयार: लाल किला से PM मोदी

"नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, भारत के हेल्थ सेक्टर में नई क्रांति लेकर आएगा। हर टेस्ट, हर बीमारी, आपको किस डॉक्टर ने कौन सी दवा दी, कब दी, उनकी रिपोर्ट्स क्या थीं, ये सारी जानकारी एक Health ID में समाहित होगी।"

‘मैंने अपनी माँ और भाई को जिंदा जलते देखा’: विभाजन की वो कहानी जिससे आज भी काँपते हैं बेअंत सिंह

स्वतंत्रता विभाजन का दंश भी लेकर आया था। मेरठ के बेअंत सिंह तब केवल 11 साल के थे जब राव​लपिंडी में उनकी मॉं और भाई को जिंदा जला दिया गया था।

ऑप्टिकल फाइबर से जुड़ी 1.5 लाख पंचायतें, कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए ₹1 लाख करोड़: PM मोदी का ‘आत्मनिर्भर भारत’ पर जोर

पीएम मोदी ने बताया कि देश के किसानों को आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर देने के लिए कुछ दिन पहले ही एक लाख करोड़ रुपए का ‘एग्रीकल्चर इनफ्रास्ट्रक्चर फंड’ बनाया गया है।

Live Video: घर बैठे देखें भारत का 74वाँ स्वतंत्रता दिवस समारोह, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लाल किले से सम्बोधन

74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले पर होने वाले समारोह को यहाँ लाइव देखें। पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्र को सम्बोधन का लाइव वीडियो।

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति ने देश को किया संबोधित, गलवान के बलिदानियों को किया याद

74वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को देशवासियों को संबोधित किया।

मणिपुर का शेर बीर टिकेंद्रजीत सिंह: अंग्रेजों ने जिन्हें कहा था ‘खतरनाक बाघ’, दी थी खुली जगह पर फाँसी

बीर टिकेंद्रजीत सिंह को 13 अगस्त 1891 को आम जनता के सामने एक खुली जगह पर फाँसी लगाई ताकि लोगों में डर पैदा किया जा सके।

5 अगस्त के बाद अब 15 अगस्त को भी टाइम्स स्क्वायर पर दिखेगी भारत की छवि: स्वतंत्रता दिवस पर पहली बार नजर आएगा तिरंगा

राम मंदिर के भूमिपूजन के बाद एक बार दोबारा वह अवसर आया है जब भारत की छवि फिर अमेरिका की प्रसिद्ध इमारत टाइम्स स्क्वायर पर नजर आएगी।

1857 का स्वतंत्रता संग्राम, मुस्लिम तुष्टिकरण और साम्प्रदायिकता… बाद में अलीगढ़ वाले सैयद अहमद की भूमिका

1857 का संग्राम अंग्रेजों के लिए 'भयभीत' करने वाला अनुभव था। इसलिए यहाँ के बाद साम्प्रदायिकता के बीज को पाला-पोसा गया, उसके लिए...

4 दिन का वह विद्रोह जिससे हिल गए अंग्रेज, लेकिन हमने भुला दिया…

साल 1976। ​ब्रिटेन के प्रधानमंत्री क्लीमेंट एटली से एक इंटरव्यू में पूछा गया- भारत की आजादी में 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन की क्या भूमिका थी? एटली ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया- बहुत मामूली। एटली ने भारत छोड़ने की जो प्रमुख वजह बताई वह एक बिसरा दिया गया विद्रोह है।

जब कॉन्ग्रेस की भरी सभा में हुआ बीमार सुभाष चंद्र बोस का अपमान, नेहरू-गाँधी ने छोड़ दिया था साथ

नेताजी को 1580 वोट, गाँधी के पट्टाभि को 1377 मत... फिर भी बीमार बोस जब स्ट्रेचर पर कॉन्ग्रेस के त्रिपुर सेशन में पहुँचे, तब 2 लाख लोगों के सामने उनके राजनैतिक जीवन को सबसे बड़ा झटका लगा। अध्यक्ष चुने जाने के बाद भी उन्हें इस्तीफ़ा देना पड़ा।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

292,354FansLike
81,960FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe