Saturday, October 23, 2021

विषय

WHO

वैक्सीन ‘हलाल’, ‘शरिया कानून’ के हिसाब से है इस्तेमाल की अनुमति: Covid-19 वैक्सीन पर WHO का स्पष्टीकरण

WHO ने ट्वीट में बताया कि Covid-19 वैक्सीन 'हलाल' हैं और WHO ने यह भी बताया कि मेडिकल फ़िक (Fiqh) सिम्पोसियम द्वारा यह आदेशित किया गया है कि वैक्सीन की 'इस्लामिक शरिया कानून' के मुताबिक उपयोग की अनुमति है।

‘कोरोना सीजनल बीमारी, सिर्फ खाँसी-जुकाम है’: महिला प्रोफेसर के दावों से उठे WHO पर सवाल, जानें क्या है सच्चाई

वायरल होते संदेशों के मुताबिक WHO के हवाले से ये भी कहा जा रहा है कि कोरोना रोगी को न तो अलग रहने की है और न ही जनता को सोशल डिस्टेंसिंग की जरूरत है।

विदेशी वैक्सीनों के आयात नियमों में ढील, DGCI ने कहा- WHO समेत वैश्विक संस्थाओं से अप्रूव्ड कंपनियों को ब्रिज ट्रायल से छूट

DGCI के नोटिस में आगे कहा गया है कि बड़ी आबादी के लिए वैक्सीन के रोलआउट से पहले सात दिनों के लिए 100 लाभार्थियों पर सुरक्षा परिणामों का आकलन अभी भी जारी रहेगा।

चीन के वैज्ञानिकों ने ही वुहान लैब में तैयार किया कोरोना वायरस, वैज्ञानिकों को सैंपल पर मिले फिंगरप्रिंट से सनसनीखेज खुलासा

चीन के वैज्ञानिकों ने वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (Wuhan Institute of Virology) में कोविड-19 वायरस को तैयार किया है। वैज्ञानिकों को कोविड-19 सैंपल पर फिंगरप्रिंट मिले हैं।

WHO ने कहा- हम देशों के नाम पर नहीं रखते वायरस का नाम, स्वास्थ्य मंत्रालय ने मीडिया समूहों को चेताया

भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने उन मीडिया रिपोर्ट्स को बिना आधार का बताया है, जिन्होंने B.1.617 म्यूटेंट स्ट्रेन के लिए इंडियन वेरिएंट शब्द का उपयोग किया है।

97941 गाँव, 141610 टीम: कोरोना से लड़ाई में योगी सरकार का डोर-टू-डोर कैम्पेन असरदार, WHO ने भी माना लोहा

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए योगी सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों का पूरा ब्यौरा।

योगी सरकार की प्लानिंग की WHO भी मुरीद, 10 दिन में कम हुए कोरोना के 85000 से अधिक केस

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण से निपटने में 'अर्ली, अग्रेसिव, ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट' अभियान के सकारात्मक परिणाम मिले हैं। WHO ने भी तारीफ की है।

‘2015 से ही कोरोना वायरस को हथियार बनाना चाहता था चीन’, चीनी रिसर्च पेपर के हवाले से ‘द वीकेंड’ ने किया खुलासा: रिपोर्ट

इस रिसर्च पेपर के 18 राइटर्स में पीएलए से जुड़े वैज्ञानिक और हथियार विशेषज्ञ शामिल हैं। मैग्जीन ने 6 साल पहले 2015 के चीनी वैज्ञानिकों के रिसर्च पेपर के जरिए दावा किया है कि SARS कोरोना वायरस के जरिए चीन दुनिया के खिलाफ जैविक हथियार बना रहा था।

चीन ने WHO की जाँच टीम को नहीं दी देश में एंट्री: कोरोना वायरस पर पोल खुलने का सता रहा डर

“हम चीन के वरिष्ठ अधिकारियों के संपर्क में हैं और हमने एक बार फिर स्पष्ट किया है कि यह मिशन डब्ल्यूएचओ और अंतर्राष्ट्रीय टीम की प्राथमिकता में है।”

इंग्लैंड के बाद अब दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस का नया वैरिएंट, 501Y.V2 फैल चुका है 4 देशों में

WHO ने कहा कि SARS-CoV-2 का एक वेरिएंट D614G के सब्स्टीट्यूशन के साथ जीन स्पाइक प्रोटीन में मिला, जो जनवरी के अंत या फरवरी...

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
131,033FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe