Monday, August 15, 2022
Homeव्हाट दी फ*पाकिस्तानी ने खरीदा 14 मंजिला जहाज, वहाँ के सबसे बड़े बंदरगाह पर भी इतनी...

पाकिस्तानी ने खरीदा 14 मंजिला जहाज, वहाँ के सबसे बड़े बंदरगाह पर भी इतनी बड़ी फैसिलिटी नहीं… अब तोड़ डालेगा

पाकिस्तानी बिजनेसमैन ने इस जहाज को शानदार होटल बनाना चाहा। पाकिस्तान नेशनल शिपिंग कॉरपोरेशन के पास गया - 14 मंजिला जहाज की पार्किंग के लिए। बोला गया - इतने बड़े क्रूज जहाज के लिए कोई जगह नहीं।

पाकिस्तान के एक बिजनेसमैन ने 14 मंजिला क्रूज जहाज खरीद लिया। अब वो बिजनेसमैन अहमदुल्ला खान परेशान है। थक-हार कर पानी वाले इतने बड़े जहाज को अब वो तोड़वा देगा।

कराची में पाकिस्तान का सबसे बड़ा बंदरगाह है। लेकिन यह इतना बड़ा नहीं है कि 14 मंजिला क्रूज जहाज यहाँ पर पार्क किया जा सके। मतलब कुछ पाकिस्तानियों के पास पैसा तो है लेकिन देश की गरीबी के कारण वो इन पैसों से अमीरी का फील नहीं ले पाते हैं!

न्यू चॉइस एंटरप्राइजेज नाम का एक कंपनी है पाकिस्तान में। इसी के मालिक हैं अहमदुल्ला खान। वही जिन्होंने 14 मंजिला क्रूज जहाज Antares Experience (पहले नाम था – Celestyal Experience और उससे पहले Costa Romantica) खरीद तो लिया लेकिन अब इसे तोड़ डालेंगे। खड़ा करने की जगह ही नहीं है!

अहमदुल्ला खान की कंपनी मूल तौर पर पानी वाले जहाजों को काटने-तोड़ने का बिजनेस ही करती है। शुरुआत में वो 14 मंजिला जहाज को खरीदे थे काटने-तोड़ने के लिए ही। फिर इरादा बदल गया, जब उस जहाज का शानदार कंडीशन देखा तो। मन में लड्डू फूटे कि उसे शानदार होटल (एकदम पर्यटक आकर्षण माफिक) बनाया जाए।

बिजनेस मन से चलता नहीं, इसलिए पहुँच गए पाकिस्तान नेशनल शिपिंग कॉरपोरेशन के पास। बंदरगाह पर 14 मंजिला जहाज की पार्किंग के लिए। लेकिन देश के सबसे बड़े बंदरगाह में इतने बड़े क्रूज जहाज के लिए कोई जगह आवंटित नहीं की जा सकी।

फोटो साभार: न्यू चॉइस एंटरप्राइजेज

अहमदुल्ला खान का दिल टूट गया। अब इटली से खरीदे गए इस शानदार पानी वाले जहाज को काटने-तोड़ने के लिए गदानी शिप-ब्रेकिंग यार्ड में ले जाया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वतंत्रता के हुए 75 साल, फिर भी बाँटी जा रही मुफ्त की रेवड़ी: स्वावलंबन और स्वदेशी से ही आएगी आर्थिक आत्मनिर्भरता

जब हम यह मानते हैं कि सत्य की ही जय होती है तब ईमानदार सत्यवादी देशभक्त नेताओं और उनके समर्थकों को ईडी आदि से भयभीत नहीं होना चाहिए।

जालौर में इंद्र मेघवाल की मौत: मृतक की जाति वाले टीचर ने नकारा भेदभाव, स्कूल में 8 में से 5 स्टाफ SC/ST

जालौर में इंद्र मेघवाल की मौत पर दावा कि आरोपित हेडमास्टर ने मटकी से पानी पीने पर मारा, जबकि अन्य लोगों का कहना है कि वहाँ कोई मटकी नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,900FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe