Friday, April 19, 2024
Homeव्हाट दी फ*14 कंडोम हर खिलाड़ी को... लेकिन छूने से बचना है, शारीरिक संपर्क कम रखना...

14 कंडोम हर खिलाड़ी को… लेकिन छूने से बचना है, शारीरिक संपर्क कम रखना है: टोक्यो ओलंपिक 2021 में अजब-गजब

14-14 कंडोम सबको दिया जाएगा लेकिन एक-दूसरे को टच नहीं करना है। खेल गाँव में कंडोम का इस्तेमाल कोई भी खिलाड़ी नहीं कर सकता है। तो कहाँ करेगा? इसके लिए टोक्यो ओलंपिक ने 33 पन्नों की प्लेबुक जारी की है।

जापान के टोक्यो में इस साल जुलाई में होने वाले ओलंपिक को लेकर तैयारियाँ जोरों पर हैं। इस दौरान परंपरा के अनुसार टोक्यो ओलंपिक आयोजकों द्वारा खेलों में भाग लेने वाले एथलिटों को 160000 से अधिक मुफ्त कंडोम दिए जाएँगे। यानी इसमें शामिल होने वाले 11000 एथलीटों में से प्रत्येक को लगभग 14 कंडोम देने की व्यवस्था की गई है। लेकिन रुकिए… पिक्चर अभी बाकी है।

दरअसल, यह परंपरा दुनिया भर में कोरोना वायरस फैलने से पहले से ही अपनाई जाती रही है, लेकिन कोरोना काल में ओलंपिक का सफल आयोजन कराना आयोजकों के लिए बेहद चुनौतीपूर्ण है। यही कारण है कि आयोजकों ने एथलीट्स को खेल गाँव में कंडोम के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है। समिति ने घोषणा की है कि एथलीट्स इन कंडोम को याद के तौर पर अपने घर ले जा सकते हैं। उन्हें अपने देश में कदम रखने के बाद ही कंडोम का इस्तेमाल करना होगा।

कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए आयोजकों ने यह निर्णय लिया है, ताकि एथलीट्स एक-दूसरे के संपर्क में ना आएँ। इसके अलावा आयोजक एक वैश्विक स्वास्थ्य अभियान के हिस्से के रूप में एथलीटों को एक-दूसरे को छूने से बचने के लिए भी कह रहे हैं। समिति ने अपने कंडोम कार्यक्रम की घोषणा करते हुए 33 पन्नों की एक प्लेबुक भी जारी की है, जिसमें एथलीटों को शारीरिक संपर्क को कम करने के लिए प्रोत्साहित किया गया है। 

समिति ने मंगलवार (1 जून 2021) को कहा कि उनका इरादा और लक्ष्य यह है कि एथलीट खेल गाँव में कंडोम का इस्तेमाल नहीं करें, बल्कि वह अपने देश वापस जाकर इसका उपयोग करें।

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने सुरक्षित यौन संबंध और एचआईवी (HIV) की रोकथाम को बढ़ावा देने के उद्देश्य से साल 1988 में खेलों में कंडोम देने की अपनी परंपरा शुरू की थी। रियो ओलंपिक के दौरान समिति ने एथलिट्स को 450000 कंडोम दिए थे। उसकी तुलना में इस बार ओलंपिक 2021 में बेहद कम 160000 कंडोम वितरित किए जाएँगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत विरोधी और इस्लामी प्रोपगेंडा से भरी है पाकिस्तानी ‘पत्रकार’ की डॉक्यूमेंट्री… मोहम्मद जुबैर और कॉन्ग्रेसी इकोसिस्टम प्रचार में जुटा

फेसबुक पर शहजाद हमीद अहमद भारतीय क्रिकेट टीम को 'Pussy Cat) कहते हुए देखा जा चुका है, तो साल 2022 में ब्रिटेन के लीचेस्टर में हुए हिंदू विरोधी दंगों को ये इस्लामिक नजरिए से आगे बढ़ाते हुए भी दिख चुका है।

EVM से भाजपा को अतिरिक्त वोट: मीडिया ने इस झूठ को फैलाया, प्रशांत भूषण ने SC में दोहराया, चुनाव आयोग ने नकारा… मशीन बनाने...

लोकसभा चुनाव से पहले इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (EVM) को बदनाम करने और मतदाताओं में शंका पैदा करने की कोशिश की जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe