फैक्ट चेक: ‘मोदी को वोट नहीं देंगी मुसलमान औरतें’ – आजतक का फर्जीवाड़ा पकड़ा गया

चार में से तीन महिलाओं से पूछा ही नहीं कि आप मोदी को वोट देंगी या नहीं, वे मोदी के काम से खुश हैं, और जिस एक से पूछा उसने भी मोदी को वोट देने से इंकार नहीं किया, तो किस आधार पर आज तक ग्रुप के इस चैनल ने लिख दिया कि विकास कार्य होने के बावजूद देवबंद की मुसलमान महिलाएँ मोदी को वोट नहीं देंगी?

आज तक ग्रुप का यूट्यूब चैनल ‘UP तक’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में खुलेआम फेक न्यूज़ फैलाता पकड़ा गया है।

उत्तर प्रदेश के देवबंद में मुस्लिम महिलाओं और पुरुषों के इस इंटरव्यू का शीर्षक है, ‘मोदी ने काम तो बहुत किया पर वोट नहीं दे सकते!, क्यों ऐसा बोल रहीं हैं देवबंद की मुस्लिम महिलाएँ?: UP Tak

वीडियो का यह शीर्षक वीडियो की सामग्री के लिहाज से पूरी तरह झूठ है। वीडियो के अन्दर मुसलमान महिलाएँ न केवल मोदी के द्वारा कराए गए विकास कार्यों की तारीफ़ करतीं हैं और कई योजनाओं का लाभार्थी खुद होने की बात स्वीकारतीं हैं, बल्कि उनमें से एक महिला साफ-साफ कहतीं हैं कि अगर मोदी से उन्हें फायदा हो रहा है तो बिलकुल उन्हें ही वोट देंगी। उनके खुद के शब्दों में, ‘देखो… हम तो बाहर निकलते नहीं हैं… हमें कोई मालूम नहीं है… जहाँ जैसा कोई कहेगा कर देंगे…  भाई, जहाँ से हमें कोई फायदा होगा (परिप्रेक्ष्य में यह विकास कार्यों के फायदे की ओर इंगित करता है), वहाँ अपना लगा देंगे (निशान, मत चिह्न), (अस्पष्ट) भेज देंगे।’ इस कथन को वीडियो में 1:51 के आस-पास से सुना जा सकता है।

चार से की बात, एक ने भी नहीं की मोदी की बुराई  

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

यूपी तक के वीडियो में चार मुसलमान महिलाओं से बात की गई है, जिनमें से तीन से मोदी को वोट देने को लेकर सवाल ही नहीं पूछा गया है। एक से सवाल पूछा गया तो उन्होंने उपरोक्त उत्तर दिया। बाकी तीनों का भी मोदी को लेकर नजरिया सकारात्मक ही रहा। यही नहीं, एक मुस्लिम महिला ने तो मोदी ही नहीं, प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भी बात अपनी तरफ से जोड़ कर उनकी तारीफ़ कर दी।

अब जबकि तीन महिलाओं से पूछा ही नहीं कि आप मोदी को वोट देंगी या नहीं, वे मोदी के काम से खुश हैं, और जिस एक से पूछा उसने भी मोदी को वोट देने से इंकार नहीं किया, तो किस आधार पर आज तक ग्रुप के इस चैनल ने लिख दिया कि विकास कार्य होने के बावजूद देवबंद की मुसलमान महिलाएँ मोदी को वोट नहीं देंगी?  

फेक न्यूज़ फ़ैलाने के खुद में गंभीर कृत्य के साथ ही जगह का चुनाव भी महत्वपूर्ण है। देवबंद का इस्लामी जगत में बहुत प्रभाव है। यहाँ के रुढ़िवादी-से-रुढ़िवादी फतवे तक अंतरराष्ट्रीय धमक रखते हैं। ऐसे में यदि यह सन्देश देवबंद के मुसलमानों ‘की ओर से’ प्रसारित हो कि मोदी चाहे जो विकास कर ले, उसे वोट नहीं देना है तो देश का कोई ऐसा हिस्सा नहीं, जहाँ का मुस्लिम वोट नहीं प्रभावित होगा। और वीडियो देख कर यह साफ़ पता चलता है कि यह सन्देश फर्जी होगा।

क्या यह फ़ेक न्यूज़ फ़ैलाने के साथ-साथ धारा 171[G] के अंतर्गत चुनावों को अवैध रूप से (चुनावों के सम्बन्ध में झूठ बोलकर) प्रभावित करने का अपराध नहीं है ?

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

हत्यकाण्ड के वक्त प्रदेश के गृह सचिव रहे गुप्ता ने तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के पीएमओ को जवाब देते हुए ममता बनर्जी के आरोपों को तथ्यहीन बताया था।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

गाय, दुष्कर्म, मोहम्मद अंसारी, गिरफ्तार

गाय के पैर बाँध मो. अंसारी ने किया दुष्कर्म, नारियल तेल के साथ गाँव वालों ने रंगे हाथ पकड़ा: देखें Video

गुस्साए गाँव वालों ने अंसारी से गाय के पाँव छूकर माफी माँगने को कहा, लेकिन जैसे ही अंसारी वहाँ पहुँचा, गाय उसे देखकर डर गई और वहाँ से भाग गई। गाय की व्यथा देखकर गाँव वाले उससे बोले, "ये भाग रही है क्योंकि ये तुमसे डर गई। उसे लग रहा है कि तुम वही सब करने दोबारा आए हो।"
मोहम्मद अंसारी

गाय से दुष्कर्म के आरोपित को पकड़वाने वाले कार्यकर्त्ता गिरफ्तार, ‘धार्मिक भावना आहत करने’ का आरोप

अभि, सुशांत और प्रज्वल के खिलाफ 'धार्मिक भावनाओं को आहत' करने के साथ ही अन्य मामलों में केस दर्ज किया गया है। इन तीनों ने ही गाँव के लोगों के साथ मिलकर अंसारी को गाय से दुष्कर्म करते हुए रंगे हाथ पकड़ा था।
हरीश जाटव

दलित युवक की बाइक से मुस्लिम महिला को लगी टक्कर, उमर ने इतना मारा कि हो गई मौत

हरीश जाटव मंगलवार को अलवर जिले के चौपांकी थाना इलाके में फसला गाँव से गुजर रहा था। इसी दौरान उसकी बाइक से हकीमन नाम की महिला को टक्कर लग गई। जिसके बाद वहाँ मौजूद भीड़ ने उसे पकड़कर बुरी तरह पीटा।
प्रेम विवाह

मुस्लिम युवती से शादी करने वाले हिन्दू लड़के पर धर्म परिवर्तन का दबाव, जिंदा जलाने की धमकी

आरजू अपने पति अमित के साथ एसपी से मिलने पहुँची थी। उसने बताया कि उन दोनों ने पिछले दिनों भागकर शादी की थी। कुछ दिन बाद जब इसकी भनक ग्रामीणों को लगी तो उन्होंने लड़के और उसके परिवार को मारपीट करके गाँव से निकाल दिया।
मुजफ्फरनगर दंगा

मुजफ्फरनगर दंगा: अखिलेश ने किए थे हिंदुओं पर 40 केस, मुस्लिमों पर 1, सारे हिंदू बरी

हत्या से जुड़े 10, सामूहिक बलात्कार के 4 और दंगों के 26 मामलों के आरोपितों को अदालत ने बेगुनाह माना। सरकारी वकील के हवाले से बताया गया है कि अदालत में गवाहों के मुकरने के बाद अब राज्य सरकार रिहा आरोपितों के संबंध में कोई अपील नहीं करेगी।
निर्भया गैंगरेप

जागरुकता कार्यक्रम के पोस्टर में निर्भया गैंगरेप के दोषी की फोटो, मंत्री ने दिए जाँच के आदेश

इस पोस्टर पर पंजाब के मंत्री का कहना है कि यह मामला ग़लत पहचान का है। श्याम अरोड़ा ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि इस मामले की जाँच कराई जाएगी। उन्होंने यह तर्क भी दिया कि जिस शख़्स की फोटो पर विवाद हो रहा है, उस पर भी संशय बना हुआ है कि वो उसी आरोपित की है भी कि नहीं!
ऋचा भारती, सुरक्षाकर्मी

ऋचा भारती पर अभद्र टिप्पणी करने वाले अबु आजमी वसीम खान के ख़िलाफ़ FIR दर्ज, अभी है फरार

ऋचा भारती उर्फ़ ऋचा पटेल के ख़िलाफ़ अभद्र टिप्पणी करने के मामले में अबु आजमी वसीम खान के ख़िलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। फिलहाल अबु आजमी वसीम खान फरार है और पुलिस ने उसकी धड़-पकड़ की कोशिशें तेज कर दी हैं।
सारा हलीमी

गाँजा फूँक कर की हत्या, लगाए अल्लाहु अकबर के नारे, फिर भी जज ने नहीं माना दोषी

फ्रांसीसी न्यायिक व्यवस्था में जज ऑफ इन्क्वायरी को यह फैसला करना होता है कि आरोपी पर अभियोग चलाया जा सकता है या नहीं। जज ऑफ इन्क्वायरी के फैसले को यहूदियों के संगठन सीआरआइएफ के अध्यक्ष फ्रांसिस खालिफत ने आश्चर्यजनक और अनुचित बताया है।
जानवरों का बलात्कार

बछड़े से लेकर गर्भवती बकरी तक का रेप करने वाला अज़हर, ज़फर और छोटे ख़ान: लिस्ट लंबी है

हरियाणा के मेवात में एक गर्भवती बकरी का इस दरिंदगी से बलात्कार किया गया कि उस निरीह पशु की मौत हो गई। हारून और जफ़र सहित कुल 8 लोगों ने मिल कर उस बकरी का गैंगरेप किया था। बकरी के मरने की वजह उसके प्राइवेट पार्ट्स में अत्यधिक ब्लीडिंग और शॉक को बताया गया।

सोनभद्र: हत्याकांड की बुनियाद आजादी से भी पुरानी, भ्रष्ट अधिकारियों ने रखी नींव

आईएएस अधिकारी प्रभात मिश्र ने तहसीलदार के माध्यम से 17 दिसम्बर 1955 में जमीन को आदर्श कॉपरेटिव सोसायटी के नाम करा ली। जबकि उस समय तहसीलदार को नामान्तरण का अधिकार नहीं था।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

57,732फैंसलाइक करें
9,840फॉलोवर्सफॉलो करें
74,901सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: