Wednesday, May 27, 2020
होम फ़ैक्ट चेक 'भारत के लिए ईरान, तालिबान पर अपने ‘प्रभाव’ का इस्तेमाल कर सकता है'

‘भारत के लिए ईरान, तालिबान पर अपने ‘प्रभाव’ का इस्तेमाल कर सकता है’

उन्होंने कहा, "तालिबान पर हमारा कुछ प्रभाव है, लेकिन हम आमतौर पर अफ़ग़ान सरकार की तरफ से इसका इस्तेमाल करते हैं। हमें भारत के लिए भी इसका इस्तेमाल करके खुशी मिलेगी।"

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ईरान के सूत्रों के मुताबिक़, तेहरान अफ़गान सरकार की ओर से तालिबान पर अपने प्रभाव का इस्तेमाल करने के लिए तैयार है। अगर भारत आतंकवादी संगठन के साथ बातचीत के लिए तेहरान की मदद का इस्तेमाल करना चाहता है तो वो हमेशा इसके लिए तैयार हैं।

ईरानी विदेश मंत्री जावेद ज़रीफ़ ने द्विपक्षीय वार्ता के लिए भारतीय नेताओं से मुलाक़ात की, और साथ ही ‘रायसीना डायलॉग’ को संबोधित भी किया। इस द्विपक्षीय वार्ता के मद्देनज़र तेहरान के तालिबान के साथ संबंध होने की बात का ख़ुलासा हुआ।

तालिबान पर अपने प्रभाव के इस्तेमाल को ईरान ने स्वीकारा

हाल ही में, एक ईरानी प्रतिनिधिमंडल तेहरान में तालिबान से मिला, हालाँकि उच्च-स्तरीय ईरानी सूत्रों का कहना है कि पहली बैठक मॉस्को में हुई थी। उन्होंने कहा, “तालिबान पर हमारा कुछ प्रभाव है, लेकिन हम आमतौर पर अफ़ग़ान सरकार की तरफ से इसका इस्तेमाल करते हैं। हमें भारत के लिए भी इसका इस्तेमाल करके खुशी मिलेगी।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

फ़िलहाल, भारत द्वारा ऐसे किसी भी प्रकार के प्रस्ताव को स्वीकारने की बात सामने नहीं आई है। अनुमान के तौर पर पिछले 17 वर्षों में भारत ने कुछ संपर्क बनाए हैं, हालाँकि इस बात की कोई पुष्टि नहीं है कि ये संपर्क कितने व्यापक और गहरे हैं।

किसी भी मामले में, भारत की स्थिति काबुल सरकार की तरफ से चारो तरफ से घिरी है। सूत्रों की मानें तो तालिबान के साथ किसी तरह का संपर्क आवश्यक रूप से इस स्थिति पर प्रभाव डालेगा।

अफ़ग़ानिस्तान में अपने क़दम पीछे ले सकता है ट्रम्प प्रशासन

वाशिंगटन से ‘लीक’ हुई एक रिपोर्ट के अनुसार, ट्रम्प प्रशासन अफ़ग़ानिस्तान में अपने क़दम पीछे ले सकता है, क्योंकि अमेरिका को ऐसा लगता है कि 7,000 अफ़ग़ानी सेनानियों ने तालिबान के साथ मिलकर क्षेत्रीय युद्धाभ्यास को फिर से शुरू कर दिया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, अमरीका ने तालिबान के साथ सीधी बातचीत की थी, जिसका चौथा दौर बुधवार को क़तर में होगा। ख़बरों के अनुसार, अमेरिका ने क़तर में वार्ता आयोजित करने की तालिबानी माँग के आधार पर रियाद जाने से इनकार कर दिया, जिसकी योजना पहले निर्धारित थी।

अमेरिका बना पड़ोसी देशों के उपहास का पात्र

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

रिपोर्टों के मुताबिक़, समझौते के मसौदे में देश के नागरिकों के हस्तक्षेप के चलते अमेरिकी सैनिकों की वापसी शामिल थी। अन्य लोगों के मुताबिक़ मुख्य शहरी केंद्रों को तालिबान से दूर रखते हुए, अमेरिका आतंकवाद-विरोधी भूमिका के लिए ख़ुद पर प्रतिबंध लगा सकता है। लेकिन, अभी तक इस मुद्दे पर किसी भी प्रकार की स्थिति साफ़ नहीं हो सकी है, इस कारण से अमेरिका पड़ोसी देशों के उपहास का पात्र बन गया है।

दूसरी ओर, ईरानी सूत्रों के मुताबिक़ यह ‘समझौता’ देशों के पुराने समूह – सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और पाकिस्तान को एक साथ एक ही मंच पर वापस लाया है, ये वो देश हैं जिन्होंने तालिबान सरकार का समर्थन किया था।

संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब ने की थी पाकिस्तान की आर्थिक मदद

1990 के दशक में, अमरीकी विशेष दूत जलमय ख़लीलज़ाद का भी तालिबान के साथ बातचीत करने का एक लंबा इतिहास रहा है, जो तब अमेरिकी तेल हितों के लिए काम कर रहा था। पाकिस्तान की मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़, संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब ने पाकिस्तान की आर्थिक मदद भी की थी जिससे वो तालिबानी वार्ता के लिए इस्लामाबाद को आगे ला सके।

वार्ता के लिए अफ़ग़ान के साथ मंच साझा करने से तालिबान का इनकार

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA), हमदुल्ला मोहिब, जो पिछले सप्ताह भारतीय अधिकारियों के साथ बातचीत के लिए दिल्ली आए थे, उनसे किसी भी तरह की बातचीत के लिए मना कर दिया गया था, जिसमें प्रभावकारिता संबंधी शांति वार्ता शामिल थी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसके बाद हमदुल्ला मोहिब ने दिसम्बर के अंत में यूएई, सऊदी अरब और अमेरिका के साथ हुई बैठक में अफ़ग़ान सरकार का प्रतिनिधित्व किया। लेकिन अफ़ग़ान सरकार द्वारा वार्ता में शामिल होने की माँग के बावजूद, तालिबान ने उसे एक मंच पर आने से दूर रखा।

अफ़ग़ान सरकार के लिए, तालिबान वार्ता एक ‘जल्दबाज़ी’ का मामला है, इसकी वजह अमेरिका के भीतर अलग-अवग विचारधारा का होना है।

तालिबान का बढ़ता क़द, देशों पर मँडराता ख़तरा

ईरान और अफ़ग़ानिस्तान सरकार ने एक विश्वास पत्र आपस में साझा किया है जो उन्होंने भारत सरकार के साथ भी साझा किया, कि तालिबान अफ़ग़ानिस्तान और भारत दोनों देशों की सुरक्षा के लिए तो ख़तरा साबित होगा ही, लेकिन ‘पाकिस्तान के लिए तो उसके अस्तित्व को नष्ट करने के समान होगा’।

अब यह पाकिस्तान पर निर्भर करता है कि वो इस स्थिति को किस नज़रिये से देखता है। लेकिन इस कटु सत्य से भी मुँह नहीं मोड़ा जा सकता कि तालिबान एक अन्य महाशक्ति के रूप में तेजी से उभर रहा है, जिसका आकार दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है।

इस बाबत, भारत सरकार ने रूस के विशेष दूत ज़मीर काबुलोव के साथ बातचीत की और आने वाले दिनों में इस मुद्दे पर अमेरिकी दूत जलमय ख़लीलज़ाद के शामिल होने की भी उम्मीद है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

‘उत्तराखंड जल रहा है… जंगलों में फैल गई है आग’ – वायरल तस्वीरों की सच्चाई का Fact Check

क्या उत्तराखंड के जंगल इस साल की गर्मियों में वास्तव में आग में झुलस रहे हैं? जवाब है- नहीं।

ईद का जश्न मनाने के लिए दी विशेष छूट: उद्धव के तुष्टिकरण की शिवसेना के मुखपत्र सामना ने ही खोली पोल

शिवसेना के मुखपत्र सामना में प्रकाशित एक लेख के मुताबिक मुंब्रा में समुदाय विशेष के लोगों को ईद मनाने के लिए विशेष रियायत दी गई थी।

वियतनाम: ASI को खुदाई में मिला 1100 साल पुराना शिवलिंग, बलुआ पत्थर से है निर्मित

ASI को एक संरक्षण परियोजना की खुदाई के दौरान 9वीं शताब्दी का शिवलिंग मिला है। इसकी जानकारी विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट कर दी है।

‘मोदी मंदिर’ बनाने की खबर फर्जी: MLA गणेश जोशी ने कॉन्ग्रेस को बताया ‘मोदीफोबिया’ से ग्रसित

"मोदी मंदिर' बनाने की खबर पूरी तरह फर्जी है। जबकि मोदी-आरती लिखने वाली डॉ. रेनू पंत का भाजपा से कोई लेना-देना नहीं है और वो सिर्फ..."

चुनाव से पहले फिर ‘विशेष राज्य’ के दर्जे का शिगूफा, आखिर इस राजनीतिक जुमले से कब बाहर निकलेगा बिहार

बिहार के नेता और राजनीतिक दल कब तक विशेष राज्य का दर्जा माँगते रहेंगे, जबकि वे जानते हैं कि यह मिलना नहीं है और इसके बिना भी विकास संभव है।

‘पूरी डायन हो, तुझे आत्महत्या कर लेनी चाहिए’: रुबिका लियाकत की ईद वाली फोटो पर टूट पड़े इस्लामी कट्टरपंथी

रुबिका लियाकत ने पीले परिधान वाली अपनी फोटो ट्वीट करते हुए ईद की मुबारकबाद दी। इसके बाद कट्टरपंथियों की पूरी फौज उन पर टूट पड़ी।

प्रचलित ख़बरें

‘चीन, पाक, इस्लामिक जिहादी ताकतें हो या नक्सली कम्युनिस्ट गैंग, सबको एहसास है भारत को अभी न रोक पाए, तो नहीं रोक पाएँगे’

मोदी 2.0 का प्रथम वर्ष पूरा हुआ। क्या शानदार एक साल, शायद स्वतंत्र भारत के इतिहास का सबसे ज्यादा अदभुत और ऐतिहासिक साल। इस शानदार एक वर्ष की बधाई, अगले चार साल अद्भुत होंगे। आइए इस यात्रा में उत्साह और संकल्प के साथ बढ़ते रहें।

लगातार 3 फेक न्यूज शेयर कर रवीश कुमार ने लगाई हैट्रिक: रेलवे पहले ही बता चुका है फर्जी

रवीश कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर ‘दैनिक भास्कर’ अखबार की एक ऐसी ही भावुक किन्तु फ़ेक तस्वीर शेयर की है जिसे कि भारतीय रेलवे एकदम बेबुनियाद बताते हुए पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि ये पूरी की पूरी रिपोर्ट अर्धसत्य और गलत सूचनाओं से भरी हुई है।

मोदी-योगी को बताया ‘नपुंसक’, स्मृति ईरानी को कहा ‘दोगली’: अलका लाम्बा की गिरफ्तारी की उठी माँग

अलका लाम्बा PM मोदी और CM योगी के मुँह पर थूकने की बात करते हुए उन्हें नपुंसक बता रहीं। उन्होंने स्मृति ईरानी को 'दोगली' तक कहा और...

‘राम मंदिर की जगह बौद्ध विहार, सुप्रीम कोर्ट ने माना’ – शुभ कार्य में विघ्न डालने को वामपंथन ने शेयर की पुरानी खबर

पहले ये कहते थे कि अयोध्या में मस्जिद था। अब कह रहे हैं कि बौद्ध विहार था। सुभाषिनी अली पुरानी ख़बर शेयर कर के राम मंदिर के खिलाफ...

38 लाख फॉलोवर वाले आमिर सिद्दीकी का TikTok अकॉउंट सस्पेंड, दे रहा था कास्टिंग डायरेक्टर को धमकी

जब आमिर सिद्दीकी का अकॉउंट सस्पेंड हुआ, उस समय तक उसके 3.8 मिलियन फॉलोवर्स थे। आमिर पर ये कार्रवाई कास्टिंग डायरेक्टर को धमकी...

हमसे जुड़ें

207,939FansLike
60,325FollowersFollow
242,000SubscribersSubscribe
Advertisements