Sunday, July 12, 2020
Home फ़ैक्ट चेक मीडिया फ़ैक्ट चेक 'द-हिन्दू' के साथ मिलकर प्रधानमंत्री मातृत्व योजना के खिलाफ 'फेक न्यूज' फैला रहे हैं...

‘द-हिन्दू’ के साथ मिलकर प्रधानमंत्री मातृत्व योजना के खिलाफ ‘फेक न्यूज’ फैला रहे हैं ज्याँ द्रेज़: झूठ उजागर

अपने इस लेख में द्रेज़ ने सरकार की एक योजना को गलत ढंग से पेश किया है ताकि नरेंद्र मोदी सरकार को बदनाम किया जा सके। हैरानी इस बात पर होती है कि द हिन्दू अखबार ने झूठ और संदिग्ध तथ्यों से भरे इस लेख को.....

ये भी पढ़ें

S. Sudhir Kumar
Obsessive eater, Compulsive sleeper, Repulsive Writer

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मातृ वंदना योजना को लेकर द हिन्दू अख़बार में आज एक ओपेड ‘द मदर ऑफ़ ऑल इश्यूज’ छपा। इस आर्टिकल में बताई गई जानकारी, ग्राफ से लेकर इसकी हेडलाइन तक संदिग्ध है। जब द हिन्दू में छपे इस लेख की जाँच विस्तार से की गई तो मालूम चला कि इसमें बहुत कुछ भ्रामक कहा गया है, इनके द्वारा दी गई जानकारी पर नज़र डालें तो भारत में बच्चों के पैदा होने की सालाना दर 270 लाख है, जिनमें आधे से भी कम केस वह हैं जहाँ कोई स्त्री पहली बार माँ बनी है। इस तरह के लोगों की तादाद 123 लाख यानी 1.2 करोड़ बताई गई है। इसका मतलब यह है कि आर्टिकल के अनुसार इस साल देश में करीब 1.2 करोड़ महिलाएँ पहली बार माँ बनी हैं। इस लिहाज़ से उन सभी को पीएम की मातृ वंदना योजना यानी पीएमएमवीवाई से लाभ पहुँचना चाहिए।

मगर इन 1.2 करोड़ महिलाओं के बीच सिर्फ 60 लाख ही ऐसी हैं जिन तक यह मदद पहुँच सकी है, रिपोर्ट के मुताबिक इन 60 लाख में भी सिर्फ 38 लाख ऐसी महिलाएँ हैं जिन्हें इस स्कीम के तहत पूरा पैसा मिल सका है। यह संख्या कुल महिलाओं की सिर्फ 31 फीसदी हैं।

दरअसल इस लेख को लिखने वाले और कोई नहीं बल्कि सोनिया गाँधी के करीबी ज्यां द्रेज़ हैं। ज्यां 2010 से लेकर 2014 तक मनमोहन सिंह के नेतृत्त्व वाली यूपीए सरकार में एनएसी के सदस्य भी रह चुके हैं।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इन भ्रामक तथ्यों का खंडन किया जाना इसलिए ज़रूरी है क्योंकि इस आर्टिकल को लिखने वाले से लेकर एडिट कर छपने भेजने वाले तक के पास यह ज्ञान भी नहीं था कि इस स्कीम का लाभ उठाने के लिए सभी 1.2 करोड़ महिलाओं में नियमानुसार सब इसका फायदा उठाने के लिए अधिकृत नहीं हैं। इस बात को जानकर एक बड़ा सवाल भी खड़ा होता है कि ज्यां द्रेज़ और उनकी बात पर हामी भरने वाले लोग आखिर क्यों चाहते हैं कि भारत सरकार उन महिलाओं को 6000 रूपए दे जो अपने बल पर अच्छी स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ उठाने में सक्षम हैं।

इससे यह साफ हो जाता है कि इस लेख को लिखने वाले द्रेज़ को इस योजना के बारे में ज्यादा कुछ जानकारी नहीं है। दरअसल यह स्कीम गरीब और निर्धन परिवारों के लिए ही केन्द्रित है। इसके तहत सरकार उन्हें 6000 रुपए की मदद मुहैय्या कराती है। इस दौरान उन्हें 2000 रूपए की तीन इनस्टॉलमेंट दी जाती है।

यह रकम माँ बनने वाली स्त्री के लिए यह उस समय हुए नुकसान की भरपाई होती है जब वह गर्भवती होती है। इस अवस्था में उसे आराम की सख्त ज़रूरत होती है। यही वजह है कि इस दौरान गरीब परिवार की कामकाजी महिलाएँ घर से बाहर निकलकर पैसा कमाने के लिए शारीरिक रूप से सक्षम नहीं होतीं। इसके नियमानुसार महिला बच्चे को जन्म देने के पहले और बाद में आराम कर सकती है। इस योजना के लिए जिन 90 फीसदी महिलाओं ने आवेदन किया उन्हें पहली इनस्टॉलमेंट दी जा चुकी है। वहीं आवेदन करने वाली 60 फीसद महिलाएँ ऐसी हैं जिन्हें सारी तीन इनस्टॉलमेंट मिल चुकी हैं।

इससे साफ़ पता चलता है कि ज्यां द्रेज़ ने इन सभी बिन्दुओं पर ध्यान ही नहीं दिया है। अपने इस लेख में द्रेज़ ने सरकार की एक योजना को गलत ढंग से पेश किया है ताकि नरेंद्र मोदी सरकार को बदनाम किया जा सके। हैरानी इस बात पर होती है कि द हिन्दू अखबार ने झूठ और संदिग्ध तथ्यों से भरे इस लेख को लिखने वाले ज्यां द्रेज़ को रिसर्चर और डेवलपमेंट इकोनॉमिस्ट यानी विकासशील अर्थशास्त्री की संज्ञा तक दे डाली।

पीएम की मातृ वंदना योजना के प्रावधान को सुनकर कई लोगों के मन में यह सवाल उठाना वाजिब है कि क्या 6000 रुपए की धनराशि एक गर्भवती स्त्री के लिए पर्याप्त मदद है। बता दें कि गर्भवती स्त्रियों की मदद के लिए सिर्फ इतना ही प्रावधान भर नहीं है। इस सम्बन्ध में भारत सरकार की एक अन्य योजना संचालित होती है। इस योजना का नाम ‘प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान’ है। इस योजना के तहत नियमित रूपसे हर महीने की 9 तारीख को गर्भवती महिला की देखभाल की जाती है। सबसे ख़ास बात तो यह है कि इस योजना के तहत गर्भवती स्त्री को मिलने वाली सभी सुविधाओं के लिए कोई पैसा नहीं खर्चा करना पड़ता।

ज्यां द्रेज़ को इस बात से शिकायत है कि इस योजना के लिए लाभार्थी को फॉर्म भरने से लेकर आधार डिटेल जैसी फॉर्मेलिटी को पूरी करना पड़ता है। यह सब कहते वक़्त ज्यां इस बात को भूल गए कि आधार को लिंक कर देने के बाद से किसी भी योजना में अब घपले की गुंजाईश नहीं बची है। सरकार के इस कदम के बाद ज़रुरतमंद का हक मारकर अपनी दुकान चलाने वाले बिचौलियों का भी सफाया हो चुका है। बता दें कि आधार के लागू होने के बाद से किसी भी सरकारी योजना से मिलने वाला लाभ सीधे लाभार्थी तक पहुँचता है। यही वजह कि सरकार ने आधार को लगभग हर क्षेत्र में अनिवार्य कर दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

S. Sudhir Kumar
Obsessive eater, Compulsive sleeper, Repulsive Writer

ख़ास ख़बरें

माना, ठाकुर के हाथ नजर नहीं आते, पर ये हाथ न होता तो जय-वीरू आजाद न होते

मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेस जब सरकार बनाई थी, तब से ही सिंधिया, पायलट और सिंहदेव को लेकर कयास लगने शुरू हो गए थे।

गहलोत सरकार पर बढ़ा संकट: दिल्ली में पायलट-सिंधिया की मुलाकात, राहुल गाँधी से बातचीत अभी तय नहीं

अशोक गहलोत सरकार पर संकट गहराता जा रहा है। अपने गुट के विधायकों सहित बागी सुर लेकर दिल्ली पहुँचे उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने...

22 लोगों के लिए नौकरी, सब सीट पर मुस्लिमों की भर्ती: पश्चिम बंगाल या पाकिस्तान का ऑफिस? – Fact Check

22 के 22 सीटों पर जिन लोगों का चयन हुआ है, वो सब मुस्लिम हैं। पश्चिम बंगाल के नाडिया जिले में हुई चयन प्रक्रिया को लेकर सोशल मीडिया में...

‘BJP के संपर्क में सचिन पायलट’ और कपिल सिब्बल ने की ‘घोड़े’ की बात: कॉन्ग्रेस में भारी नुकसान की आशंका

गहलोत सरकार पर संकट मंडराते देख कपिल सिब्बल ने चिंता जाहिर की है। उन्होंने ट्विटर पर राजस्थान सरकार का जिक्र किए बगैर...

क्या अमिताभ अपने घर को साफ़ नहीं कर सकते: बिना प्रोटोकॉल समझे पत्रकार ने केंद्र पर लगाए आरोप, रोया टैक्स का रोना

अमिताभ बच्चन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार का देश के लिए उठाए गए हर क़दम के बाद समर्थन किया था। इसीलिए वामपंथी गैंग उनसे नाराज़ रहता है।

जब नेहरू-इंदिरा खुद ले रहे थे भारत-रत्न… तब उनके शोध से बची थी लाखों जिंदगियाँ, जो मर गए गुमनामी में

1955 ही वो साल था, जब नेहरू ने ख़ुद को भारत रत्न दिया और इसी दौर में शम्भूनाथ डे ने पाया कि हैजा से शरीर में एक टॉक्सिन बन जाता है, जिसे...

प्रचलित ख़बरें

मैं हिंदुओं को सबक सिखाना चाहता था, दंगों से पहले तुड़वा दिए थे सारे कैमरे: ताहिर हुसैन का कबूलनामा

8वीं तक पढ़ा ताहिर हुसैन 1993 में अपने पिता के साथ दिल्ली आया था और दोनों पिता-पुत्र बढ़ई का काम करते थे। पढ़ें दिल्ली दंगों पर उसका कबूलनामा।

कॉन्ग्रेस नेता उदित राज के संगठन ने किया ब्राह्मणों और न्यायपालिका का अपमान: जनेऊधारी ‘सूअर’ से की तुलना

उदित राज के इस परिसंघ ने न केवल ब्राह्मणो के खिलाफ घृणित टिप्पणी की बल्कि उनकी तुलना सूअर से कर डाली। इसके साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में देश की न्यायपालिका के खिलाफ भी अपमानजनक टिप्पणी की।

व्यंग्य: विकास दुबे एनकाउंटर पर बकैत कुमार की प्राइमटाइम स्क्रिप्ट हुई लीक

आज सुबह खबर आई कि एनकाउंटर हो गया। स्क्रिप्ट बदलनी पड़ी। जज्बात बदल गए, हालात बदल गए, दिन बदल गया, शाम बदल गई!

टीवी और मिक्सर ग्राइंडर के कचरे से ‘ड्रोन बॉय’ प्रताप एनएम ने बनाए 600 ड्रोन: फैक्ट चेक में खुली पोल

इन्टरनेट यूजर्स ऐसी कहानियाँ साझा कर रहे हैं कि कैसे प्रताप ने दुनिया भर के विभिन्न ड्रोन एक्सपो में कई स्वर्ण पदक जीते हैं, 87 देशों द्वारा उसे आमंत्रित किया गया है, और अब पीएम मोदी के साथ ही डीआरडीपी से उन्हें काम पर रखने के लिए कहा गया है।

कांगड़ा में रातोरात अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने तोड़ा मंदिर, हिन्दुओं में भड़का आक्रोश: तनाव को देखते हुए जाँच में जुटी पुलिस

इंदौरा थाना क्षेत्र में समुदाय विशेष के कुछ लोगों ने मंदिर को तहस-नहस कर दिया। जिसके चलते हिन्दू समुदाय के लोग भड़क गए और माहौल तनावपूर्ण हो गया।

‘पाकिस्तान और बांग्लादेश का राष्ट्रगान याद करो’ – शिक्षिका शैला परवीन ने LKG और UKG के बच्चों को दिया टास्क

व्हाट्सप्प ग्रुप में पाकिस्तान और बांग्लादेश का राष्ट्रगान पोस्ट किया गया। बच्चों के लिए उन मुल्कों के राष्ट्रगान का यूट्यूब वीडियो डाला गया।

अब आकार पटेल ने अभिताभ बच्चन और सचिन तेंदुलकर के लिए दिखाई घृणा

अमिताभ बच्चन के कोरोना संक्रमित होने के बाद हर कोई उनकी सलामती की दुआ कर रहा है। पर आकार पटेल जैसों की न तो मानसिकता आम है और न तौर-तरीके।

माना, ठाकुर के हाथ नजर नहीं आते, पर ये हाथ न होता तो जय-वीरू आजाद न होते

मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेस जब सरकार बनाई थी, तब से ही सिंधिया, पायलट और सिंहदेव को लेकर कयास लगने शुरू हो गए थे।

गहलोत सरकार पर बढ़ा संकट: दिल्ली में पायलट-सिंधिया की मुलाकात, राहुल गाँधी से बातचीत अभी तय नहीं

अशोक गहलोत सरकार पर संकट गहराता जा रहा है। अपने गुट के विधायकों सहित बागी सुर लेकर दिल्ली पहुँचे उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने...

गाड़ी से नहीं, प्लेन से भेजा जाए कानपुर: विकास दुबे के साथी गुड्डन त्रिवेदी ने लगाई गुहार

विकास दुबे के एनकाउंटर से उसके साथी दहशत में हैं। अरविंद उर्फ़ गुड्डन त्रिवेदी ने मुंबई से कानपुर प्लेन से भेजने की गुहार कोर्ट से लगाई है।

मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस MLA प्रद्युम्न लोधी ने पार्टी से दिया इस्तीफा, थामा BJP का हाथ

कॉन्ग्रेस को यह झटका ऐसे समय में लगा है जब उप-चुनाव होने ही वाले हैं। मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस विधायक प्रद्युम्न लोधी ने शिवराज सिंह से मिलकर...

ऐश्वर्या और आराध्या को भी कोरोना, जया बच्चन नेगेटिव, हेमा मालिनी ने खुद को बताया फिट

"ऐश्वर्या राय बच्चन और उनकी बेटी आराध्या बच्चन भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जया बच्चन की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई है। हम बच्चन परिवार के जल्द ठीक होने की कामना करते हैं।"

22 लोगों के लिए नौकरी, सब सीट पर मुस्लिमों की भर्ती: पश्चिम बंगाल या पाकिस्तान का ऑफिस? – Fact Check

22 के 22 सीटों पर जिन लोगों का चयन हुआ है, वो सब मुस्लिम हैं। पश्चिम बंगाल के नाडिया जिले में हुई चयन प्रक्रिया को लेकर सोशल मीडिया में...

यूपी में शनिवार-रविवार लॉकडाउन, रोज 50000 टेस्ट: कोरोना पर काबू पाने का योगी सरकार का प्लान

कोरोना संक्रमण को बढ़ते मामलों को देखते हुए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य में हर हफ्ते राज्य में दो दिन का लॉकडाउन रखने का फैसला किया है।

‘BJP के संपर्क में सचिन पायलट’ और कपिल सिब्बल ने की ‘घोड़े’ की बात: कॉन्ग्रेस में भारी नुकसान की आशंका

गहलोत सरकार पर संकट मंडराते देख कपिल सिब्बल ने चिंता जाहिर की है। उन्होंने ट्विटर पर राजस्थान सरकार का जिक्र किए बगैर...

क्या अमिताभ अपने घर को साफ़ नहीं कर सकते: बिना प्रोटोकॉल समझे पत्रकार ने केंद्र पर लगाए आरोप, रोया टैक्स का रोना

अमिताभ बच्चन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार का देश के लिए उठाए गए हर क़दम के बाद समर्थन किया था। इसीलिए वामपंथी गैंग उनसे नाराज़ रहता है।

हमसे जुड़ें

238,717FansLike
63,428FollowersFollow
273,000SubscribersSubscribe