Saturday, July 20, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेक'मोरारी बापू ने मोदी सरकार को बताया फेल, दिए 100 में से 30 नंबर':...

‘मोरारी बापू ने मोदी सरकार को बताया फेल, दिए 100 में से 30 नंबर’: गुजराती अखबार ने छापी खबर, जानिए पूरी सच्चाई

पत्रकार ने पूछा कि मौजूदा हालत में आप 100 में से 30 नंबर देंगे या 35? इसके जवाब में मोरारी बापू ने कहा, "मैंने जो आकलन किया है, उसके हिसाब से मैं 30 नंबर दे सकता हूँ।" - इस इंटरव्यू के बाद ही फैला फेक न्यूज। सच कुछ और है लेकिन।

प्रसिद्ध कथावाचक मोरारी बापू फिलहाल अपने 1008 शिष्यों के साथ देश के 12 ज्योतिर्लिंगों की यात्रा पर हैं। यह यात्रा वो एक ट्रेन से कर रहे हैं। 22 जुलाई से हरिद्वार से शुरू हुई इस यात्रा के हर पड़ाव पर रामकथा का आयोजन किया गया है। अंत में यह यात्रा गुजरात के तलगाजर्दा में खत्म होगी। इसी यात्रा में पिछले सप्ताह मोरारी बापू ने मीडिया से बात की। इसमें ABP न्यूज़ भी शामिल है। अब ABP न्यूज़ के इसी इंटरव्यू के आधार पर दावा किया जा रहा है कि मोरारी बापू ने मोदी सरकार को असफल करार दिया है।

मोरारी बापू, मोदी सरकार और ‘खबर’

गुजरात में राजकोट के सांध्य दैनिक ‘हेडलाइन’ के शुक्रवार (28 जुलाई 2023) के संस्करण के पहले पन्ने पर इस बावत खबर छपी। इस खबर की हेडलाइन थी, “‘हे राम! मोरारी बापू के मुताबिक मोदी सरकार विफल।” इसी खबर के अंदर ABP न्यूज़ के इंटरव्यू का हवाला देते हुए कहा गया था कि मोरारी बापू ने मोदी सरकार को 100 में से 30 नंबर दिए हैं। कुल मिला कर खबर का मकसद यह बताना था कि मोरारी बापू ने अपने आकलन में मोदी सरकार को पासिंग मार्क भी नहीं दिए।

अखबार की कटिंग वायरल

इसी रिपोर्ट में मोरारी बापू के साथ PM मोदी की फोटो भी लगाई गई थी। फोटो में प्रधानमंत्री मोदी चिंतित नजर आ रहे हैं। एबीपी न्यूज के इंटरव्यू का हवाला देते हुए रिपोर्ट में मोरारी बापू के हवाले से कहा गया, “पहले मैं एक टीचर था। 100 में से 35 अंक पासिंग मार्क थे। तब इम्तिहान में जिसे भी 30 अंक मिलते थे, वह 5 नंबर जोड़ कर पास हो जाता था।” दावा किया जा रहा है कि मोदी सरकार के मूल्याँकन पर उन्होंने कहा कि वो मोदी सरकार को 30 नंबर देते हैं। अख़बार के प्रिंट की कटिंग सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।

ये है असलियत

असल में मोरारी बापू का यह इंटरव्यू गुरुवार (27 जुलाई 2023) को एबीपी न्यूज पर प्रसारित हुआ था। इस साक्षात्कार में पत्रकार ने मोरारी बापू से धर्म, राजनीति सहित कई अन्य मुद्दों पर चर्चा की थी। इसी इंटरव्यू में मोरारी बापू ने पासिंग मार्क का जिक्र किया था लेकिन इस दौरान उन्होंने कहीं भी PM मोदी या भाजपा सरकार का नाम नहीं लिया। हाँ, उन्होंने देश के वर्तमान राजनैतिक हालात पर जरूर बात की। इस इंटरव्यू को ABP न्यूज़ पर प्रकाशित भी किया गया है।

इसी इंटरव्यू में रिपोर्टर ने मोरारी बापू से भारत की वर्तमान राजनैतिक दशा पर सवाल किया। पत्रकार ने मोरारी बापू से पूछा कि वो वर्तमान हालातों से संतुष्ट हैं या इसमें बदलाव की जरूरत है। सवाल के जवाब पर मोरारी बापू ने कहा, “मैं दूसरों के बारे में या इस दिशा में कुछ नहीं कहूँगा लेकिन युवाओं के बीच एक राजधर्म स्थापित करने की जरूरत है।”

मोरारी बापू ने राजधर्म को प्रेम, सत्य और करुणा के रूप में बताया। इसी इंटरव्यू में उन्होंने आगे कहा, ”मैं प्राइमरी स्कूल का शिक्षक था। 100 अंकों का पेपर 35 अंकों के साथ पास किया जाता था। कभी-कभी 30 नंबर पाने वाले कमजोर छात्र को हम 5 ग्रेस अंक दे देते थे।”

इस जवाब के बाद पत्रकार ने पूछा कि मौजूदा हालत में आप 100 में से 30 नंबर देंगे या 35? इसके जवाब में मोरारी बापू ने कहा, ”मैंने जो आकलन किया है, उसके हिसाब से मैं 30 नंबर दे सकता हूँ। अगर भगवान 5 अंक की कृपा करें तो यह पास हो जाएगी।”

यहाँ पत्रकार और मोरारी बापू में से किसी ने भी सरकार का जिक्र नहीं किया। दोनों मौजूदा राजनीतिक हालात पर चर्चा कर रहे थे। हालाँकि इंटरव्यू की हेडलाइन में लिखा गया है – “मोरारी बापू ने मोदी को कितने नंबर दिए” लेकिन उन्होंने इंटरव्यू में कहीं भी प्रधानमंत्री या मोदी सरकार का जिक्र नहीं किया।

खुद ABP न्यूज़ ने बाद में यह स्पष्ट किया कि मोरारी बापू ने इंटरव्यू के दौरान किसी राजनीतिक दल या प्रधानमंत्री मोदी का नाम नहीं लिया। ABP ने यह भी माना कि पहले प्रकाशित इंटरव्यू में अंक दिए जाने वाला प्रकाशन गलती से छपा था। कुल मिला कर यह कहा जा सकता है कि मोदी सरकार को 100 में से 35 अंक देने वाले सोशल मीडिया पर वायरल प्रिंट कटिंग असलियत से परे है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -