Monday, July 15, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेकअब लक्षद्वीप पर पकड़ा गया PTI का झूठ, कहा था- केरल की जगह कर्नाटक...

अब लक्षद्वीप पर पकड़ा गया PTI का झूठ, कहा था- केरल की जगह कर्नाटक हाईकोर्ट के अधिकार क्षेत्र में आने का प्रस्ताव

पीटीआई का झूठी और भ्रामक खबरें फैलाने लंबा इतिहास रहा है। भारत-चीन​ तनाव के बीच वह चीनी राजदूत को अपना प्रोपेगेंडा फैलाने के लिए प्लेटफॉर्म भी मुहैया करा चुका है।

न्यूज एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (PTI) की एक और फेक न्यूज पकड़ी गई है। उसने दावा किया था कि लक्षद्वीप प्रशासन ने केरल हाईकोर्ट की जगह कर्नाटक हाईकोर्ट के अधिकार क्षेत्र में शामिल करने का प्रस्ताव रखा है। लक्षद्वीप के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर अस्कर अली ने इसे ‘निराधार और गलत’ बताया है।

पीटीआई ने रविवार (20 जून 2021) को दावा किया कि लोगों के विरोध को देखते हुए लक्षद्वीप प्रशासन ने हाईकोर्ट का अधिकार क्षेत्र कर्नाटक शिफ्ट करने का प्रस्ताव रखा है। अपने दावे को पुख्ता करने के लिए उसने ‘अधिकारियों’ का हवाला दिया। समाचार एजेंसी ने बताया कि केरल उच्च न्यायालय में लक्षद्वीप के प्रशासक प्रफुल्ल पटेल के खिलाफ कई याचिकाएँ दाखिल की गई है। रिपोर्ट के अनुसार, पटेल और पुलिस तथा स्थानीय प्रशासन की कथित मनमानी के खिलाफ 11 रिट याचिका सहित 23 आवेदन दायर किए गए हैं।

हालाँकि, पीटीआई का यह फेक दावा ज्यादा देर तक टिक नहीं पाया। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के वरिष्ठ सलाहकार कंचन गुप्ता ने इसका खंडन किया। उन्होंने लक्षद्वीप के कलेक्टर एस अक्सर अली का हवाला दिया, जिन्होंने पीटीआई की कहानी को पूरी तरह से निराधार और सच्चाई से कोसों दूर बताया है।

फेक न्यूज और पीटीआई

समाचार एजेंसी पीटीआई का झूठी और भ्रामक खबरें फैलाने लंबा इतिहास रहा है। इस साल अप्रैल, 2021 में महामारी के बीच पीटीआई ने दावा किया था कि दिल्ली के सर गंगा राम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के कारण 25 लोगों की मौत हो गई। एक ट्वीट में, पीटीआई ने कहा कि सूत्रों ने उसे बताया था कि 25 ‘बीमार’ मरीजों की मौत ‘लो प्रेशर ऑक्सीजन’ के कारण हुई थी। उसका यह दावा झूठा निकला। अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक ने स्पष्ट किया कि ऑक्सीजन की कमी के कारण कोई मौत नहीं हुई थी।

इससे पहले अगस्त 2020 में पीटीआई को भारत में चीनी कोरोना वायरस के प्रसार पर प्रधानमंत्री मोदी को गलत तरीके से कोट करते हुए पकड़ा गया था। इस गलत ट्वीट का इस्तेमाल कॉन्ग्रेस ने पीएम मोदी के बारे में झूठ फैलाने के लिए किया था। इसके फेक निकलने पर कॉन्ग्रेस ने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया था।

अक्टूबर 2020 में पीटीआई के साथ चीनी राजदूत के इंटरव्यू के बाद पब्लिक ब्रॉडकास्टर प्रसार भारती ने भी सख्त रुख दिखाया था। उस दौरान पीटीआई पर चीनी प्रोपेगेंडा को आगे बढ़ाने के लिए प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराने का आरोप लगा था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -