Monday, October 25, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक'दिल्ली पुलिस की वर्दी पहन पहुँचे BJP विधायक, किसानों पर किया लाठीचार्ज': वायरल वीडियो...

‘दिल्ली पुलिस की वर्दी पहन पहुँचे BJP विधायक, किसानों पर किया लाठीचार्ज’: वायरल वीडियो का फैक्टचेक

अशोक डोगरा राजस्थान के बूँदी विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। वो वहाँ से लगातार दूसरी बार चुने गए हैं। वायरल वीडियो में एक तरफ ये वीडियो चल रहा है, वहीं दूसरी तरफ अशोक डोगरा का एक पोस्टर है, जिसमें कमल निशान बना हुआ है।

सोशल मीडिया में ‘किसान आंदोलन’ के समर्थन में तरह-तरह के दावे किए जा रहे हैं। गणतंत्र दिवस के दिन मंगलवार (जनवरी 26, 2021) को ट्रैक्टर रैली के नाम पर पूरी दिल्ली में जम कर हिंसा हुई और लाल किला पर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे का अपमान हुआ। अब सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि भाजपा विधायक ने दिल्ली पुलिस की वर्दी पहन कर किसानों पर जमकर लाठीचार्ज किया।

जो वीडियो और तस्वीरें वायरल की जा रही हैं, उनमें एक व्यक्ति को पुलिस की वर्दी में देखा जा सकता है। लेकिन पुलिस अधिकारी का कोई नाम या बैच नहीं दिखाई दे रहा है। वीडियो में एक व्यक्ति उससे पूछता है कि उसका बैच कहाँ है? जिसके जवाब में उक्त पुलिसकर्मी कहता है कि बैच कहीं गिर गया है। अब लोग दावा कर रहे हैं कि वो पुलिस अधिकारी नहीं, बल्कि भाजपा विधायक अशोक डोगरा हैं।

अशोक डोगरा राजस्थान के बूँदी विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। वो वहाँ से लगातार दूसरी बार चुने गए हैं। वायरल वीडियो में एक तरफ ये वीडियो चल रहा है, वहीं दूसरी तरफ अशोक डोगरा का एक पोस्टर है, जिसमें कमल निशान बना हुआ है और उनके साथ-साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूर्व भाजपा अध्यक्ष अमित शाह व राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे की भी तस्वीर लगी हुई है।

अब आपको बताते हैं कि भाजपा विधायक द्वारा दिल्ली पुलिस की वर्दी में किसानों पर लाठीचार्ज किए जाने के दावे का सच क्या है। ‘न्यूज़ इंडिया’ नामक वेबसाइट पर ये वीडियो उपलब्ध है, जिसमें बताया गया है कि दिल्ली पुलिस के इस अधिकारी का नाम विनोद नारंग हैं। वो कनॉट प्लेस थाने में बतौर SHO पदस्थापित हैं। ये वीडियो 2020 में CAA,NRC के खिलाफ आंदोलन के दौरान भी वायरल हुआ था। दोनों अलग-अलग व्यक्ति हैं।

बता दें कि दिल्ली पुलिस के सभी वर्तमान और रिटायर्ड जवानों के परिजनों ने हिंसा के खिलाफ 30 जनवरी को विरोध-प्रदर्शन किया था। हिंसा में 400 के करीब पुलिसकर्मी घायल हुए थे। विरोध-प्रदर्शन में इन सभी घायल जवानों के परिजन शामिल थे। उन्होंने बताया कि प्रदर्शनकारियों के हाथ में तलवारें और डंडे थे। परिजनों ने कहा कि प्रदर्शनकारी इस दौरान महिला पुलिसकर्मियों को भी नहीं छोड़ रहे थे। 

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केरल में नॉन-हलाल रेस्तराँ खोलने वाली महिला को बेरहमी से पीटा, दूसरी ब्रांच खोलने के खिलाफ इस्लामवादी दे रहे थे धमकी

ट्विटर यूजर के अनुसार, बदमाशों के खिलाफ आत्मरक्षा में रेस्तराँ कर्मचारियों द्वारा जवाबी कार्रवाई के बाद केरल पुलिस तुशारा की तलाश कर रही है।

असम: CM सरमा ने किनारे किया दीवाली पर पटाखों पर प्रतिबंध का आदेश, कहा – जनभावनाओं के हिसाब से होगा फैसला

असम में दीवाली के मौके पर पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध का ऐलान किया गया था। अब मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा है कि ये आदेश बदलेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
131,783FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe