Saturday, December 4, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक'मस्जिद में बैठ कर कुरान पढ़ रहे क्रिस्टियानो रोनाल्डो, इस्लाम में रखते हैं श्रद्धा':...

‘मस्जिद में बैठ कर कुरान पढ़ रहे क्रिस्टियानो रोनाल्डो, इस्लाम में रखते हैं श्रद्धा’: वायरल वीडियो का फैक्ट-चेक

इसी वीडियो के आधार पर कहा जा रहा है कि क्रिस्टियानो रोनाल्डो इस्लाम में श्रद्धा रखते हैं। वीडियो पर TikTok का मार्क लगा है।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि दुनिया के सबसे के सबसे लोकप्रिय फुटबॉलरों में से क्रिस्टियानो रोनाल्डो एक मस्जिद में बैठ कर इस्लाम की पवित्र पुस्तक कुरान का पाठ कर रहे हैं। इसी वीडियो के आधार पर कहा जा रहा है कि क्रिस्टियानो रोनाल्डो इस्लाम में श्रद्धा रखते हैं। वीडियो पर TikTok का मार्क लगा है। कुरान पढ़ रहा व्यक्ति देखने में रोनाल्डो ही लग रहा।

फेसबुक पर इस वीडियो को खास कर के कई लोगों ने शेयर किया, जिसे लाखों बार देखा गया।

अब हम आपको बताते हैं कि इस वीडियो की सच्चाई क्या है। असल में ये वीडियो क्रिस्टियानो रोनाल्डो के एक हमशक्ल की है, जिसके TikTok अकाउंट पर 6.72 लाख से भी अधिक फॉलोवर्स हैं। इस व्यक्ति का नाम बेवर अब्दुल्लाह है और वो पहले से ही मुस्लिम है। मूल रूप से ईराक के अब्दुल्लाह इंग्लैंड के बर्मिंघम में रहते हैं। @bewarabdullah यूजरनेम से TikTok चलाने वाले अब्दुल्लाह पहले से ही ईराक में जाना-पहचाना नाम हैं।

अब्दुल्लाह के बारे में खास बात ये है कि वो रोनाल्डो की तरह न सिर्फ ड्रेसिंग स्टाइल और हेयर स्टाइल रखते हैं, बल्कि फुटबॉल के भी शौक़ीन हैं। इसीलिए, इंग्लैंड में भी कई लोग उन्हें जानने लगे हैं। अब्दुल्लाह रोनाल्डो की तरह ही 7 नंबर की जर्सी पहन कर फील्ड में उन्हीं की पोजीशन पर खेलते हैं। रोनाल्डो से मिलने का उनका सपना है। वो 2019 में एक कंट्रक्शन वर्कर के रूप में यूके आए थे।

हाल ही में क्रिस्टियानो रोनाल्डो तब चर्चा में आए थे, जब उन्होंने यूरो 2020 प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अपने सामने रखी कोका कॉल की बोतल को वहाँ से हटा दिया था और पानी की माँग की थी। कोका कोला उस कार्यक्रम का आधिकारिक स्पॉन्सर था। कॉन्फ्रेंस खत्म होते-होते कोका कोला कंपनी के शेयर के दाम 1.6% गिर गए और उसे 29.79 हजार करोड़ रुपयों का बड़ा घाटा हुआ था। बता दें कि दुनिया भर में इंस्टाग्राम पर सबसे ज्यादा फैन फॉलोविंग उनकी ही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आतंक का कोई मजहब नहीं होता’ – एक आदमी जिंदा जला कर मार डाला गया और मीडिया खेलने लगी ‘खेल’

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फैलाया जा रहा प्रोपगेंडा जिन स्थानीय खबरों पर चल रहा है उनमें बताया जा रहा है कि ये सब अराजक तत्वों ने किया था, इस्लामी भीड़ ने नहीं।

‘महिला-पुरुष की मालिश का मतलब यौन संबंध नहीं होता, इस पर कार्रवाई से परहेज करें’: HC ने दिल्ली सरकार को फटकारा

दिल्ली सरकार स्पा में क्रॉस-जेंडर मसाज पर रोक लगा चुकी है। इसके अलावा रिहायशी इलाकों में नए मसाज सेंटर खोलने पर भी रोक लगा दी गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,510FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe