Monday, June 17, 2024
Homeराजनीतिराहुल गाँधी का विलाप और प्रलाप दोनों शुरू हो चुका है, चिदु ने भी...

राहुल गाँधी का विलाप और प्रलाप दोनों शुरू हो चुका है, चिदु ने भी कोरस में दिया साथ

श्री गाँधी की इस प्रतिक्रिया से आम लोग यही मान रहे हैं कि कॉन्ग्रेस अपनी हार के कारण बनाने में व्यस्त है। ये इनका पैटर्न है कि इनको ज्योंहि भीतर से खबर आनी शुरू होती है कि कॉन्ग्रेस की हालत ख़राब है, ये तमाम अजीबोगरीब कारण, बिना पूछे ही बताने लगते हैं। श्री चिदंबरम ने भी मालिक की बातों का मान रखते हुए, कोरस में पार्श्व गायन किया है।

एग्जिट पोल्स आने शुरू ही हुए हैं, और जैसा कि लोगों को अपेक्षा थी, कॉन्ग्रेस के चिराग और लिबरल गिरोह के चहेते ‘कॉनज़ूमेट पॉलिटिशियन’ (पूर्ण राजनेता) श्री राहुल गाँधी ने अपने ट्विटर से प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी है।

राहुल गाँधी ने ट्वीट करते हुए कहा है, “इलेक्टोरल बॉन्ड्स से लेकर, EVM और चुनाव की तारीखों से छेड़छाड़, NaMo टीवी, ‘मोदी की सेना’, केदारनाथ में हुई नौटंकी, चुनाव आयोग का मोदी और उनके गैंग के सामने घुटने टेकने की बात सबके सामने है। एक समय में चुनाव आयोग एक सम्मानित संस्था हुआ करती थी, अब नहीं!”

श्री चिदंबरम ने भी मालिक की बातों का मान रखते हुए, कोरस में पार्श्व गायन किया है। उन्होंने भी ट्वीट करते हुए लिखा है, “हमारा आरोप यही रहा है कि चुनाव आयोग नींद में था। अब हम आगे बढ़ कर कह सकते हैं कि चुनाव आयोग नेअपनी स्वतंत्रता और अधिकारों को सरेंडर कर दिया है। ये शर्म की बात है।”

श्री गाँधी की इस प्रतिक्रिया से आम लोग यही मान रहे हैं कि कॉन्ग्रेस अपनी हार के कारण बनाने में व्यस्त है। ये इनका पैटर्न है कि इनको ज्योंहि भीतर से खबर आनी शुरू होती है कि कॉन्ग्रेस की हालत ख़राब है, ये तमाम अजीबोगरीब कारण, बिना पूछे ही बताने लगते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -