Tuesday, March 2, 2021
Home देश-समाज ख़ामोश बाबू से ही ख़ामोश ना रहा गया…

ख़ामोश बाबू से ही ख़ामोश ना रहा गया…

ख़ामोश बाबू को उन महिलाओं ने क्षमा दान दे ही दिया जिसकी बदौलत वो मंच पर सरेआम अपनी हरक़तों का बखान भी कर गए और वहाँ मौजूद लोगों की वाह-वाही भी लूट गए। इसे कहते हैं एक तीर से दो निशाने।

फ़िल्म इंडस्ट्री में अच्छा ख़ासा नाम कमा चुके अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा (ख़ामोश बाबू) के सुर आजकल कुछ अलग ही लय पकड़ते नज़र आ रहे हैं। आजकल सार्वजनिक तौर पर महिलाओं को पुरुषों के पतन तक के लिए ज़िम्मेदार ठहरा देने जैसी बेतुकी बात भी कह बैठते हैं। ये बात और है कि बाद में उस बात को ज़बरदस्ती हँसी-ठिठोली का ज़रिया मात्र बना दिया गया।

मौक़ा था मुंबई में नवोदित लेखक ध्रुव सोमानी की किताब ‘A Touch of Evil’ के विमोचन का जहाँ ख़ामोश बाबू से ख़ामोश नहीं रहा गया और महिलाओं पर ही बोल बैठे कि किसी आदमी के पतन, बदनामी और नाक़ामयाबी का कारण महिलाएँ ही होती हैं। माने ये कि अगर पुरुष समाज कोई ग़लती करें और उसकी सज़ा उन्हें दी जाए तो उसकी ज़िम्मेदार केवल और केवल महिलाएँ ही होंगी। हाँ… अगर महिलाएँ चुप्पी साधे रहें तो उनकी सफलता के द्वार कभी बंद ही नहीं होंगे।

इसके बाद वो #MeeToo पर भी बोले कि तमाम हरक़तों के बावजूद अब तक किसी महिला ने उन पर केस नहीं किया है। भई क्या बात है… वाह-वाह… ये तो बड़ी ही बहादुरी का काम कर दिखाया शत्रुग्न सिन्हा ने, अपने इक़बाल-ए-जुर्म को हँसी-हंँसी में ही बयाँ कर गए जनाब। अब इन्हें अपने इस क़ारनामे पर वाकई घमंड होना चाहिए क्योंकि उन्हें उन महिलाओं ने क्षमा दान दे दिया जिनकी बदौलत आज वो मंच पर सरेआम अपनी हरक़तों का बखान भी कर गए और वहाँ मौजूद लोगों की वाह-वाही भी लूट गए। इसे कहते हैं एक तीर से दो निशाने।

हैरानी तो इस बात पर है कि शत्रुघ्न की यह पूरी गतिविधि कई मेनस्ट्रीम मीडिया की सुर्ख़ी बना जहाँ उनके द्वारा महिलाओं के प्रति इस विचार को नदारद रखा गया, जहाँ वो हँस-हँस कर अपने कृत्यों का बखान बड़े ही निराले अंदाज़ में कर रहे थे।

उदाहरण के तौर पर ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की ही बात करें तो उनकी भावनाओं को कुछ इस तरह पेश किया, जिसमें उन्हें बड़ा ही सौभाग्यशाली दर्शाया गया कि उनका नाम #MeToo  में शामिल नहीं है। हैरानी होती है कि इतने बड़े मीडिया हाउस ने भी इस तरह के वक्तव्य को हँसी-ठिठोली का जामा पहनाया।

बढ़ते हैं आगे, और बताते हैं कि ‘द क्विंट’ ने भी शत्रुघ्न सिन्हा के भाग्यशाली होने को ही अपनी सुर्ख़ी बनाया।

इसके बाद बात एनडीटीवी की, जिसने अपनी इंग्लिश और हिंदी वेबसाइट पर भाग्यशाली वाली लाइन को अपनी हेडलानन बनाया।


ये तो कहना पड़ेगा कि वाकई शत्रुघ्न सिन्हा बहुत भाग्यशाली हैं और इसकी वजह यह है कि ये उनका भाग्य ही है जो मज़ाक में किए गए इक़रार को बड़े स्तर के मीडिया हाउस हल्के में ले रहे हैं। क्योंकि न तो कहीं कोई हल्ला-गुल्ला होता दिख रहा है और न ही कोई #MeeToo पर उनके द्वारा बोली बातों पर कहीं कोई आपत्ति ही दर्ज हुई। ऐसा सौभाग्य बड़ा ही विरलय होता है, जो यदा-कदा ही किसी-किसी की झोली में गिरता है।

पंजाब केसरी ने भी ख़ामोश बाबू को सौभाग्यशाली हेडलाइन से ही संबोधित किया है।

बता दें कि शत्रुघ्न सिन्हा, ख़ुद एक बेटी (सोनाक्षी सिन्हा) के पिता हैं, ऐसे में इस तरह का मज़ाक तो उन्हें बिल्कुल भी शोभा नहीं देता। उन्हेंं तो शुक्रगुज़ार होना चाहिए अपनी देवी स्वरूपा पत्नी का, जो उनकी ग़लत हरक़तों और उसके इक़रार पर भी चुप्पी साधे हैं। अब ये तो भगवान जाने उनकी देवी स्वरूपा पत्नी ने अपनी चुप्पी को कब से साधे रखा होगा। शायद अपनी पत्नी की इसी अनोखी और दिव्य शक्ति के बलबूते ही वे इस तरह का साहसिक कार्य करने में सक्षम हो जाते होंगे।

क़िस्मत हो तो ऐसी जहाँ इक़बाल-ए-जुर्म भी हो और उसका आनंद भी हो इस पर उनका आत्मविश्वास तो देखते ही बनता था। अपनी पत्नी को अपना कवच बताने वाले सोनाक्षी के पिता उन महिलाओं के योगदान को भुला बैठे जिनके साथ उन्होंने ग़लत हरक़तें करने का दंभ भरा। क्या होता अगर वो महिलाएँ जाग उठतीं और और उनकी हरक़तों से पर्दा उठा देतीं तो, आज वो या तो कहीं मुँह छिपा रहे होते या अपने बचाव के लिए अपनी कवचरूपी पत्नी को आगे कर रहे होते।

हद है भई, जब सांसद स्तर के लोग ही इस तरह का मखौल सरेआम उड़ाएंगे तो #MeeToo जैसा अभियान तो धरा का धरा ही रह जाएगा और ऐसे अभियान तो कभी रफ़्तार पकड़ ही नहीं पाएँगे। ख़ैर, तमाम बातों का लब्बोलुआब फ़िलहाल तो यही रहा कि कैसे भी सही लेकिन शत्रुघ्न सिन्हा ने अपनी ग़लत हरक़तों को एक मंच पर खुलेआम स्वीकारा तो सही, वो बात अलग है कि लोगों ने इसे हँसी का रास्ता दिखा दिया, जो एक गंभीर प्रश्न है?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिंदू अराध्य स्थल पर क्रिश्चियन क्रॉस, माँ सीता के पद​ चिह्नों को नुकसान: ईसाई प्रचारकों की करतूत से बीजेपी बिफरी

मंदिरों को निशाना बनाए जाने के बाद अब आंध्र प्रदेश में हिंदू पवित्र स्थल के पास अतिक्रमण कर विशालकाय क्रॉस लगाए जाने का मामला सामने आया है।

भगवान श्रीकृष्ण को व्यभिचारी और पागल F#ckboi कहने वाली सृष्टि को न्यूजलॉन्ड्री ने दिया प्लेटफॉर्म

भगवान श्रीकृष्ण पर अपमानजनक टिप्पणी के बाद HT से निकाली गई सृष्टि जसवाल न्यूजलॉन्ड्री के साथ जुड़ गई है।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

काम पर लग गए ‘कॉन्ग्रेसी’ पत्रकार: पश्चिम बंगाल में ‘मौत’ वाले मौलाना से गठबंधन और कलह से दूर कर रहे असम की बातें

बंगाल में कॉन्ग्रेस ने कट्टरवादी मौलाना के साथ गठबंधन किया, रोहिणी सिंह जैसे पत्रकारों ने ध्यान भटका कर असम की बातें करनी शुरू कर दी।

योगी के पहुँचते ही ‘जय श्रीराम’ से गूँज उठा बंगाल, लव जिहाद और गोहत्या पर ममता को घेरा

मिशन बंगाल पर निकले यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मालदा में रैली की। इस दौरान उन्होंने कहा कि जो राम द्रोही हैं, उनका बंगाल में कोई काम नहीं है।

PM मोदी को हिंदू नर्सों पर नहीं भरोसा, ईसाई से लिया कोरोना का टीका: आंबेडकर के पौत्र का दावा

डॉ. भीमराव आंबेडकर के पौत्र प्रकाश आंबेडकर ने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी को हिंदू नर्सों पर भरोसा नहीं है, इसलिए उन्होंने ईसाई नर्स से कोरोना का टीका लिया।

प्रचलित ख़बरें

गोधरा में जलाए गए हिंदू स्वरा भास्कर को याद नहीं, अंसारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा- कभी नहीं भूलना

स्वरा भास्कर ने अंसारी की तस्वीर शेयर करते हुए इस बात को छिपा लिया कि यह आक्रोश गोधरा में कार सेवकों को जिंदा जलाए जाने से भड़का था।

‘प्राइवेट पार्ट में हाथ घुसाया, कहा पेड़ रोप रही हूँ… 6 घंटे तक बंधक बना कर रेप’: LGBTQ एक्टिविस्ट महिला पर आरोप

LGBTQ+ एक्टिविस्ट और TEDx स्पीकर दिव्या दुरेजा पर पर होटल में यौन शोषण के आरोप लगे हैं। एक योग शिक्षिका Elodie ने उनके ऊपर ये आरोप लगाए।

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

नमाज पढ़ाने वालों को ₹15000, अजान देने वालों को ₹10000 प्रतिमाह सैलरी: बिहार की 1057 मस्जिदों को तोहफा

बिहार स्टेट सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड में पंजीकृत मस्जिदों के पेशइमामों (नमाज पढ़ाने वाला मौलवी) और मोअज्जिनों (अजान देने वालों) के लिए मानदेय का ऐलान।

आस मोहम्मद पर 50+ महिलाओं से रेप का आरोप, एक के पति ने तलवार से काट डाला: ‘आज तक’ ने ‘तांत्रिक’ बताया

गाजियाबाद के मुरादनगर थाना क्षेत्र स्थित गाँव जलालपुर में एक फ़क़ीर की हत्या के मामले में पुलिस ने नया खुलासा किया है।

सपा नेता छेड़खानी भी करता है, हत्या भी… और अखिलेश घेर रहे योगी सरकार को! आरोपित के खिलाफ लगेगा NSA

मृतक ने गौरव शर्मा नाम के आरोपित (जो सपा नेता भी है) के खिलाफ अपनी बेटी के साथ छेड़छाड़ की शिकायत पुलिस थाने में दर्ज कराई थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,208FansLike
81,879FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe