Wednesday, August 5, 2020
Home विविध विषय कला-साहित्य 'काशी' पर लिखा गया साहित्य: काशीनाथ सिंह के अलावा भी है बहुत कुछ

‘काशी’ पर लिखा गया साहित्य: काशीनाथ सिंह के अलावा भी है बहुत कुछ

1996 में प्रकाशित उपन्यास वैश्वानर कम चर्चा में क्यों है, हमें मालूम नहीं। बाकी काशी के बारे में कथेतर के बदले कथा ढूँढने निकलें तो इसे भी देखिएगा। ऐतिहासिक उपन्यासों में रुचि के लिए तो देखा ही जा सकता है।

अभी चुनावों के कुछ चरण बाकी हैं, और रह-रह के वाराणसी का ज़िक्र आ जाता है। जब भी ऐसा ज़िक्र होता है तो मुझे लगता है कि बनारस बड़ी अजीब जगह होगी। अजीब इसलिए कि जब यहाँ से चुनाव लड़ने की बात चली तो मैदान में एक तो भगोड़ा सिपाही उतरा। दाल के मनमोहनी दौर के बाद से ही हम कहते हैं कि दाल फ्राई के लिए रोने वाली कौमें जंग नहीं लड़ा करती मियाँ! और ये भगोड़ा दाल के लिए ही भागा था! दूसरी जो घोषित सूरमा थी वो पहले भगोड़ी नहीं थी, लेकिन वाराणसी जैसे पुराने शहर और विपक्षी जैसे पुराने राजनीतिज्ञ के लिए शायद उन्हें अपनी नई नाक दाँव पर लगाना उचित नहीं लगा। वो बाद में भगोड़ी हो गईं।

किताबों में रुचि होने की वजह से हमें वाराणसी के साथ-साथ ‘काशी का अस्सी’ भी याद आ जाती है। एक वामी मजहब के लेखक की इस किताब को पढ़ने के बाद शायद ही कोई उर्दू भाषा से प्रेरित गाली होगी, जिसे सीखना बाकी रह जाता होगा। जी हाँ उर्दू गालियों की ज़बान है, उसके इस्तेमाल के बिना गालियाँ देना मुश्किल होगा। यकीन ना हो तो सोचकर देख लीजिये कि ‘मादर’ लफ़्ज कौन सी जबान का लगता है। वैसे तो बिहार-यूपी के इलाकों में ये अनकहा सा नियम चलता है कि स्त्रियाँ या बच्चे-बुजुर्ग अगर आसपास से गुजरते दिख जाएँ तो भाषा तुरंत संयमित हो जाती है। पता नहीं क्यों, वामी मजहब के लेखक ने ‘काशी का अस्सी’ में इस सांस्कृतिक पक्ष पर ध्यान नहीं दिया और सबको भाषाई तौर पर उच्छृंखल ही दर्शाया है।

वाराणसी के ज़िक्र पर और कौन सी किताबें याद आती हैं? हिन्दी में भी वाराणसी को पृष्ठभूमि बनाकर लिखी गई किताबों की कमी नहीं है। समस्या है हिन्दी साहित्य की गिरोहबाजी। साहित्यिक गिरोहों ने कभी अपने विरोधी विचारों को पनपने नहीं दिया। उन्हें अच्छा या बुरा कहना तो दूर, उनके जिक्र तक से परहेज रखा। अछूत घोषित कर दिए गए ऐसे साहित्यकारों की कृतियाँ हैं तो, मगर आमतौर पर उनके बारे में कुछ भी कहा-सुना नहीं जाता। उदाहरण के तौर पर अगर आप शिवप्रसाद शर्मा की ‘वैश्वानर’ को इन्टरनेट पर ढूंढें तो शायद ही आपको कोई समीक्षा मिल पाएगी। कुछ लोग सोच सकते हैं कि 1928 में जन्मे और 1998 में दिवंगत हो गए लेखक की कृतियों पर समीक्षा का इन्टरनेट पर न होना आश्चर्य का विषय क्यों होगा?

अब आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी के बारे में सोचिये। ‘बाणभट्ट की आत्मकथा’ जैसी कृतियों के रचनाकार आचार्य खासे प्रसिद्ध भी थे और काफी पुराने दौर के भी थे। वो शिक्षक भी थे और उनके दो शिष्य काफी प्रसिद्ध रहे हैं। उनके एक शिष्य थे वामी नामवर सिंह। उनकी समीक्षाओं ने कई लेखक बनाए और बिगाड़े। निर्मल वर्मा को कथाकार और गजानन माधव मुक्तिबोध को कवि के तौर पर स्थापित करने वाले भी नामवर सिंह ही थे। उसी आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी के दूसरे प्रसिद्ध शिष्य थे शिवप्रसाद सिंह। संभवतः ‘गली आगे मुड़ती है’ और ‘नीला चाँद’ जैसी रचनाओं के लिए आपने इनका नाम सुना होगा। ये दोनों उपन्यास भी वाराणसी की पृष्ठभूमि पर ही लिखे हुए उपन्यास हैं।

कभी-कभी उनकी ‘अलग अलग वैतरणी’ की तुलना आंचलिक उपन्यासों के कीर्तिमान ‘रागदरबारी’ से भी होती है। हरिवंश राय बच्चन मानते थे कि ‘रागदरबारी’ का शिवपालगंज और ‘अलग-अलग वैतरणी’ का करैता दोनों एक ही हैं। शिवप्रसाद सिंह ने काशी या वाराणसी पर दो नहीं बल्कि तीन किताबें लिखी थीं, जिन्हें वो काशी-त्रयी भी कहते थे। इस त्रयी का पहला उपन्यास है ‘वैश्वानर’, जिसका शाब्दिक अर्थ अग्नि या आग होता है। वो आग जिसे वैदिक मान्यताओं में स्वयं भी पवित्र माना जाता है, और ये भी माना जाता है कि ये जिसे छुएगी उसे भी पवित्र कर देती है। ये मुख्यतः धन्वन्तरि नाम के एक वैद्य की कहानी के साथ-साथ चलता उपन्यास है।

उपन्यास की कथा के मुताबिक सरस्वती नदी के सूखने के काल में कुछ आर्यजन गंगा और वरुणा नदी के संगम के क्षेत्र में आकर बस जाते हैं। इस शाखा के लोगों के प्रमुख धन्वन्तरि हैं और अग्नि यानी वैश्वानर इस शाखा के कुलदेवता हैं। यहीं वाराणसी में एक महामारी फैल जाती है और वैद्य धन्वन्तरि इस रोग का निदान ढूँढने में जुटे होते हैं। जब तक वो बीमारी से निदान पाते, तब तक हैहयवंशी सहस्त्रार्जुन काशी पर कब्जा जमाने की सोचने लगता है। यहाँ से बूढ़े धन्वन्तरि के परपोते की भूमिका शुरू हो जाती है। अपनी छोटी सी सेना के बल पर वो कैसे
सहस्त्रार्जुन से मुकाबला करेगा, ये इस पौराणिक उपन्यास का आधार बन जाता है। कह सकते हैं कि इसमें दो कथाएँ मिली हुई हैं। एक करुणा दर्शाती है तो दूसरी शौर्य।

वैश्वानर काफी मोटी सी किताब है, इसलिए इसे पढ़ने में समय लगेगा। मेरे खयाल से ये किताब रोचक है, इसके मोटे होने से डरने की जरुरत नहीं है। इसमें वेदों के कई संस्कृत वाक्य हैं, लेकिन उनके साथ ही उनका अर्थ मिल जाएगा, इसलिए कोई हिस्सा समझ नहीं आया, ऐसी शिकायत भी नहीं रहती। अगर कहीं मदालसा का नाम सुना हो, तो वो इस किताब की नायिका है, यानि धन्वन्तरि के परपोते प्रतर्दन की प्रेयसी। उसके होने से उपन्यास में नायिका की कमी या प्रेम का ना होना जैसी शिकायत भी जाती रहती है। 1996 में प्रकाशित ये उपन्यास कम चर्चा में क्यों है, हमें मालूम नहीं। बाकी काशी के बारे में कथेतर के बदले कथा ढूँढने निकलें तो इसे भी देखिएगा। ऐतिहासिक उपन्यासों में रुचि के लिए तो देखा ही जा सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

ख़ास ख़बरें

राम मंदिर के लिए कॉन्ग्रेस के समर्थन के बाद केरल में सहयोगी इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग ने बुलाई आपातकालीन बैठक

इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) ने राम मंदिर के पक्ष में कई कॉन्ग्रेस नेताओं के बयानों के बारे में जानने के बाद बुधवार को अपने शीर्ष अधिकारियों की एक आपातकालीन बैठक बुलाई है।

कॉन्ग्रेस नेताओं के भूमि पूजन से पहले सॉफ्ट हिंदुत्व दिखाने से भड़के लिबरल और मुस्लिम, कहा- वाह रे नेहरूवादी सेकुलरिज्म

उत्साही कॉन्ग्रेस समर्थकों और लिबरलों को मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस का ट्विटर प्रोफाइल पिक्चर रास नहीं आया। प्रोफाइल पिक्चर बदलने के तुरंत बाद ही उन्हें ट्रिगर करना शुरू कर दिया।

मरते हुए सड़क पर रक्त से लिखा सीताराम, मरने के बाद भी खोपड़ी में मारी गई 7 गोलियाँ… वो एक रामभक्त था

वो गोली लगते ही गिरे और अपने खून से लिखा "सीताराम"। शायद भगवान का स्मरण या अपना नाम! CRPF वाले ने 7 गोलियाँ और मार कर...

ऐसा होगा अयोध्या का भव्य राम मंदिर: इन 8 तस्वीरों में देखें अंदर से बाहर तक का अलौकिक दृश्य

अयोध्या भव्य, दिव्य और अलौकिक राम मंदिर कैसा होगा, इसे आप 8 आधिकारिक तस्वीरों के माध्यम से समझ सकते हैं जिसे ट्रस्ट द्वारा जारी किया गया है।

नहीं दिखेगी टाइम्स स्क्वायर पर भूमिपूजन की तस्वीर: मुस्लिम समूहों के विरोध के बाद कंपनी का फैसला, कट्टरपंथी खुश

मुस्लिम समूहों के विरोध के बाद एक ओर जहाँ ब्रांडेड सिटीज की ओर से यह फैसला आया है। वहीं ट्विटर पर कट्टरपंथी मुस्लिम इसे अपनी जीत मान रहे हैं।

मंदिर निर्माण एक धार्मिक घटना ही नहीं, संस्कृति का पुनर्जागरण है

जन्मभूमि से इतनी दिक्कत क्योंकि विदेशियों की फेंकी हुई बोटियों पर पलने वाले कुत्तों की दशकों की मेहनत पर ये एक झटके में पानी फेर देता है।

प्रचलित ख़बरें

‘इससे अल्लाह खुश होता है, तो शैतान किससे खुश होगा?’ गाय को क्रेन से लटकाया, पटका फिर काटा

पाकिस्तान का बताए जाने वाले इस वीडियो में देखा जा सकता है कि गाय को क्रेन से ऊपर उठाया गया है और कई लोग वहाँ तमाशा देख रहे हैं।

‘खड़े-खड़े रेप कर दूँगा, फाड़ कर चार कर दूँगा’ – ‘देवांशी’ को समीर अहमद की धमकी, दिल्ली दंगों वाला इलाका

"अपने कुत्ते को यहाँ पेशाब मत करवाना नहीं तो मैं तुझे फाड़ कर चार कर दूँगा, तेरा यहीं खड़े-खड़े रेप कर दूँगा।" - समीर ने 'देवांशी' को यही कहा था।

‘इंशाअल्लाह, न कभी भूलेंगे, न माफ करेंगे’: भूमि पूजन से पहले जामिया वाली लदीदा ने दिखाई नफरत

जामिया में लदीदा के जिहाद के आह्वान के बाद हिंसा भड़की थी। अब उसने भूमि पूजन से पहले हिंदुओं के प्रति नफरत दिखाते हुए पोस्ट किया है।

‘राम-राम नहीं, जय भीम बोलो’: दरोगा रमेश राम ने माँ का श्राद्ध कर रहे परिजनों को जम कर पीटा, CM योगी ने लिया संज्ञान

जातिवादी टिप्पणी करते हुए दरोगा रमेश राम ने कहा कि वो ब्राह्मणों और ठाकुरों को सबक सिखाने के लिए ही पुलिस में भर्ती हुआ है। घायलों में सेना का जवान भी शामिल।

मरते हुए सड़क पर रक्त से लिखा सीताराम, मरने के बाद भी खोपड़ी में मारी गई 7 गोलियाँ… वो एक रामभक्त था

वो गोली लगते ही गिरे और अपने खून से लिखा "सीताराम"। शायद भगवान का स्मरण या अपना नाम! CRPF वाले ने 7 गोलियाँ और मार कर...

‘खुदा करे ये मर जाए… इस बार अमित शाह मरना चाहिए… सब दुआ करो’ – शाहीन बाग वाली रिजवी का जहरीला वीडियो

"ये वही है, जिसने गोधरा ट्रेन करवाया, कारसेवकों को मरवाया। फिर उसी के नाम पर गुजरात जलवाया। अल्लाह पाक बद्दुआएँ लगाए, ये तड़ीपार मर जाए।"

राम मंदिर के लिए कॉन्ग्रेस के समर्थन के बाद केरल में सहयोगी इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग ने बुलाई आपातकालीन बैठक

इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) ने राम मंदिर के पक्ष में कई कॉन्ग्रेस नेताओं के बयानों के बारे में जानने के बाद बुधवार को अपने शीर्ष अधिकारियों की एक आपातकालीन बैठक बुलाई है।

दिल्ली दंगों को लेकर DU प्रोफेसर अपूर्वानंद से स्पेशल सेल ने 5 घंटे पूछताछ के बाद मोबाइल किया ज़ब्त

DU के प्रोफेसर अपूर्वानंद ने कहा कि यह देखना दुखद है कि नागरिकता अधिनियम विरोध प्रदर्शन के समर्थकों को हिंसा का स्रोत माना जा रहा है और उम्मीद करते हैं कि पुलिस निष्पक्ष होकर इस मामले की जाँच करेगी।

बाबर रोड का नाम बदलकर किया जाए ‘5 अगस्त मार्ग’, BJP नेता विजय गोयल ने की गृह मंत्रालय से माँग

भाजपा नेता विजय गोयल ने गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर दिल्ली स्थित बाबर रोड का नाम बदलकर '5 अगस्त मार्ग' करने की माँग की है।

मुगल वंशज प्रिंस तुसी ने ओवैसी को ‘जोकर’ कहते हुए जताई श्रीराम मंदिर निर्माण देखने की इच्छा

बहादुर शाह ज़फ़र के परपोते प्रिंस तुसी ने AIMIM नेता ओवैसी को जोकर बताते हुए कहा कि उनके परिवार की अयोध्या में बने राम मंदिर को देखने की इच्छा है।

कॉन्ग्रेस नेताओं के भूमि पूजन से पहले सॉफ्ट हिंदुत्व दिखाने से भड़के लिबरल और मुस्लिम, कहा- वाह रे नेहरूवादी सेकुलरिज्म

उत्साही कॉन्ग्रेस समर्थकों और लिबरलों को मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस का ट्विटर प्रोफाइल पिक्चर रास नहीं आया। प्रोफाइल पिक्चर बदलने के तुरंत बाद ही उन्हें ट्रिगर करना शुरू कर दिया।

370 का बदला: पाकिस्तान ने नया ‘ऐतिहासिक नक्शा’ जारी कर सियाचिन, J&K के साथ गुजरात के हिस्सों पर भी जताया अपना दावा

पाकिस्तान ने एकबार फिर भारत की सीमा को अपने नक़्शे में दिखाया है लेकिन इस बार पाकिस्तान ने सिर्फ जम्मू-कश्मीर ही नहीं बल्कि गुजरात के एक हिस्से पर भी अपना अधिकार जताया है।

अनु बन कर अनवर ने हिन्दू युवती को प्रेम के जाल में फँसाया: महीनों तक किया बलात्कार, ₹6.5 लाख भी हड़पे

मुस्लिम युवक अनवर ने अपने मजहब की पहचान छिपा कर छद्म हिन्दू नाम अनु रखा और युवती को अपने प्रेम के जाल में फँसा कर महीनों बलात्कार करता रहा।

जामिया हिंसा: याचिकाकर्ताओं के बचाव में इंदिरा जयसिंह की दलील- पत्थर और बोतलें नहीं होतीं हथियार

वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने अदालत में अपनी एक दलील में कहा कि पत्थर और बोतलें आग बरसाने के हथियार नहीं होते हैं और पुलिस ने जो किया वह बर्बरता थी।

25,000 लावारिस शवों का अंतिम संस्कार करने वाले मो. शरीफ को भूमि पूजन पर निमंत्रण, कहा- सेहत ने साथ दिया तो जरूर जाऊँगा

शरीफ वही व्यक्ति हैं जिन्हें नरेंद्र मोदी सरकार में पद्मश्री से नवाजा गया। उन्होंने अब तक 25 हजार से ज्यादा लावारिस शवों का रीति-रिवाज के साथ अंतिम संस्कार करवाया है।

ओवैसी ने ‘बाबरी विध्वंस’ के लिए प्रियंका पर साधा निशाना, कहा- खुशी है कि अब नाटक नहीं कर रहे

असदुद्दीन ओवैसी ने प्रियंका के इस ट्वीट को लेकर उनकी खिंचाई की। ओवैसी ने कॉन्ग्रेस पार्टी पर उस 'आंदोलन में योगदान देने का आरोप लगाया जिसने बाबरी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया।'

संबंधित ख़बरें

हमसे जुड़ें

243,869FansLike
64,374FollowersFollow
289,000SubscribersSubscribe
Advertisements