Tuesday, October 19, 2021
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिकहीं बूढ़े महंत ने दिया दान तो कहीं पशु-पक्षियों को भोजन: 5 छोटे मंदिर...

कहीं बूढ़े महंत ने दिया दान तो कहीं पशु-पक्षियों को भोजन: 5 छोटे मंदिर जो कोरोना आपदा के बीच कर रहे बड़े काम

उत्तराखंड के पौड़ी में स्थित कंडोलिया मंदिर पर। कंडोलिया मंदिर ने सीएम राहत कोष में 2.11 लाख रुपए की मदद की है। मंदिर समिति के अध्यक्ष जसपाल सिंह नेगी ने कहा कि जब इस समय पूरा देश कोरोना की चपेट में आया हुआ है और कई ज़रूरतमंद फँसे हुए हैं, लॉकडाउन में केंद्र व राज्य सरकार अच्छे से क़दम उठा रही है।

कोरोना वायरस की आपदा के बीच भारत के सारे मंदिर और मठ एक ही ध्येय लेकर चल रहे हैं और वो है जनसेवा, यानी राहत-कार्य। यहाँ हम आपको 5 ऐसे मंदिरों के बारे में बताएँगे, जिनके बारे में लोगों को ज्यादा नहीं पता लेकिन वो लोगों की भलाई, दान और समाजसेवा के मामले में उत्कृष्ट कार्य कर रहे हैं। इससे पहले हम आपको उन बड़े मंदिरों के बारे में बता चुके हैं, जिन्होंने आगे बढ़ कर इस विकट परिस्थिति में जनता व सरकार की मदद की।

जम्मू के अखनूर में स्थित है ‘पूली वाले मंदिर’, जिसके महंत हैं गणेश दास। उन्होंने कारगिल युद्ध और बाढ़ आपदा के दौरान भी 11-11 हज़ार रुपए की धनराशि दान दी थी। छोटे से मंदिर के बड़े दिल वाले महंत ने इस बार भी इतनी ही राशि पीएम केयर्स फण्ड में दान दी है। उन्होंने भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष शामलाल शर्मा को चेक सौंपा। मंहत गणेश दास ने कहा कोरोना वायरस महामारी से लोगों को हिदायतों का पालन करना होगा और गरीब परिवार की मदद के लिए आगे आना होगा

अब आते हैं उत्तराखंड के पौड़ी में स्थित कंडोलिया मंदिर पर। कंडोलिया मंदिर ने सीएम राहत कोष में 2.11 लाख रुपए की मदद की है। मंदिर समिति के अध्यक्ष जसपाल सिंह नेगी ने कहा कि जब इस समय पूरा देश कोरोना की चपेट में आया हुआ है और कई ज़रूरतमंद फँसे हुए हैं, लॉकडाउन में केंद्र व राज्य सरकार अच्छे से क़दम उठा रही है। उन्होंने कहा कि मंदिर द्वारा दान की गई राशि जनता की बेहतरी में ख़र्च की जाएगी।

राजधानी दिल्ली की बात करें तो यहाँ का झंडेवालान मंदिर तो लगातार जनसेवा कर रहा है, लक्ष्मी नगर के शुभाष चौक स्थित ‘श्री दुर्गा एवं श्याम मंदिर’ द्वारा संचालित ‘श्याम रसोई’ के माध्यम से गरीबों को खाना खिलाया जा रहा है। मंदिर के संचालक आचार्य दिनेश शर्मा का कहना है कि श्याम बाबा की कृपा से लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए रोजाना राशन किट वितरण का कार्य किया जा रहा है। मंदिर ने कहा है कि किसी को भी भोजन की कमी हो तो वो संपर्क करे।

मध्य प्रदेश के होशंगाबाद स्थित आमला में तो आम आदमी के अलावा पशु-पक्षियों का भी ध्यान रखा जा रहा है। यहाँ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और रेलवे कॉलोनी स्थित छोटे से हनुमान मंदिर की समिति पशु-पक्षियों के भोजन का जुगाड़ कर रही है। यहाँ आरएसएस लगभग 1 महीने से जनसेवा के कार्य में रत है। नगर और अंचल के 10 हज़ार से भी अधिक लोगों के खाने का इंतजाम अब तक किया जा चुका है।

होशंगाबाद में ही शिवनी मालवा में ‘राम जानकी राधा कृष्ण मंदिर’ स्थित है, जहाँ हो रहे राहत कार्य का जायजा लेने ख़ुद न्यायाधीश यशवंत मालवीय पहुँचे और वो क़ाफी प्रभावित भी नज़र आए। वहाँ ‘जनता रसोई’ चल रही है, जिसके माध्यम से कार्यकर्ता घर-घर जाकर भोजन का वितरण कर रहे हैं। जस्टिस मालवीय ने न सिर्फ़ वित्तीय मदद की बल्कि आगे भी सहायता का आश्वासन दिया। यहाँ भी सोशल डिस्टन्सिंग का पूरा पालन किया जा रहा है।

इसकी तुलना आप कई मस्जिदों से कर सकते हैं। दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज़ मस्जिद ने दान देना तो दूर, उल्टा लॉकडाउन का उल्लंघन कर पूरे देश में महामारी फैला दी। एक वायरल वीडियो के अनुसार, जब पुलिस ने एक मस्जिद में जाकर मौलवी से आग्रह किया कि वो मस्जिद के माइक से कोरोना के ख़तरों के प्रति लोगों को आगाह करें तो उसने इनकार करते हुए कहा कि ये अल्लाह का घर है और कभी बंद नहीं होगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

सूरत में मंदिरों-घर की छत पर लाउडस्पीकर, सुबह-शाम हनुमान चालीसा; शनिवार को सत्संग भी: धर्म के लिए हिंदू हुए लामबंद

सूरत में आठ महीने पहले लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा की हुई शुरुआत ने कैसे हिंदुओं को जोड़ा, इसका संदेश कितना गहरा हुआ, पढ़िए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe