Tuesday, May 21, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिहिंदू धर्म-अध्यात्म की खोज में स्विट्जरलैंड से भारत पैदल: 18 देश, 6000 km... नंगे...

हिंदू धर्म-अध्यात्म की खोज में स्विट्जरलैंड से भारत पैदल: 18 देश, 6000 km… नंगे पाँव, जहाँ थके वहीं सोए

स्विट्जरलैंड से भारत तक पहुँचने के लिए 6000 किमी से अधिक का सफर पैदल तय किया। तुर्की, ईरान, आर्मेनिया, जॉर्जिया, रूस, किर्गिस्तान, उज्बेकिस्तान, चीन और पाकिस्तान समेत 18 देशों की सीमाओं को पार कर भारत आए।

भारत का सनातन धर्म सदैव से ही दूसरे देशों में रहने वाले खोजी प्रवृत्ति के लोगों को आकर्षित करता आया है। भारत के योग, ध्यान और अध्यात्म से प्रेरित होकर न जाने कितने ही विदेशी भारत आते हैं। उनमें से एक हैं बेन बाबा, जो स्विट्जरलैंड के रहने वाले हैं और पेशे से वेब डेवलपर हैं।

हरिद्वार के महाकुंभ से बेन बाबा का वीडियो वायरल हो रहा है। बेन स्विट्जरलैंड से पैदल ही भारत के लिए निकल पड़े और 18 देशों को पार करके 4 साल बाद भारत पहुँचे हैं। फिलहाल बेन हिमाचल प्रदेश में रहते हैं। ट्विटर पर भी उनका एक वीडियो शेयर किया जा रहा है, जिसमें वह अपनी यात्रा के बारे में बताते हैं।

वेब डिजाइनर से बेन बाबा तक का सफर

33 वर्षीय बेन स्विट्जरलैंड में वेब डिजाइनर थे और वहाँ अच्छी खासी कमाई भी करते थे लेकिन उन्होंने बताया कि उन्हें वहाँ कभी सुख की प्राप्ति नहीं हुई। भौतिक सुख तो उनके पास बहुत था किन्तु बेन आध्यात्मिक और आत्मिक सुख प्राप्त करना चाहते थे। जिस सुख की तलाश बेन कर रहे थे उन्हें वह भारतीय संस्कृति, सभ्यता, योग और अध्यात्म के माध्यम से प्राप्त हुआ।

इसी सुख को प्राप्त करने के लिए बेन स्विट्जरलैंड की आराम भरी जिंदगी छोड़ कर भारत की ओर निकाल पड़े। 4 साल के लंबे सफर और 18 देशों की सीमाओं को नापकर बेन भारत पहुँचे और यहाँ उन्होंने सनातन धर्म और योग का प्रचार-प्रसार प्रारंभ कर दिया और बन गए ‘बेन बाबा’।

6000 किमी का सफर और 18 देश

बेन बाबा ने बताया कि उन्होंने स्विट्जरलैंड से भारत तक पहुँचने के लिए 6 हजार किमी से अधिक का सफर पैदल ही तय किया। उनकी इस यात्रा में उन्होंने तुर्की, ईरान, आर्मेनिया, जॉर्जिया, रूस, किर्गिस्तान, उज्बेकिस्तान, चीन और पाकिस्तान समेत 18 देशों की सीमाओं को पार किया।

भारतीय संस्कृति, योग और ध्यान से है प्रेम

बेन बाबा ने बताया कि उन्होंने स्विट्जरलैंड में ही भारतीय संस्कृति, योग, ध्यान और अध्यात्म के विषय में पढ़ना प्रारंभ कर दिया था। इसमें उन्हें जिस सुख की अनुभूति हुई, उसके कारण उन्होंने स्विट्जरलैंड और वहाँ की विलासितापूर्ण जिंदगी को छोड़ दिया। बेन बाबा भारत में भ्रमण करके मंदिरों, मठों और धर्मस्थलों में भारतीय संस्कृति और सनातन धर्म का अध्ययन कर रहे हैं। बेन पतंजलि संस्थान से योग भी सीख रहे हैं। बेन न केवल फर्राटेदार हिन्दी बोलते हैं बल्कि उन्हें गंगा आरती करते हुए देखा जा सकता है।

पूरा सन्यासियों का जीवन जीते हैं बेन बाबा

बेन बाबा का कोई ठिकाना नहीं है। जहाँ भी थक जाते हैं, वहीं अपना डेरा जमा लेते हैं। जंगल, फुटपाथ और निर्जन स्थानों पर भी रात बिता चुके हैं। बाबा भिक्षा माँग कर अपना पेट भरते हैं। नंगे पैर ही सफर करते हैं। हरिद्वार में भी वो गंगा के किनारे टहलते हुए दिखाई दिए।

किताबों के उपयोग से हिन्दी सीखने वाले बेन बाबा भारत में धर्म और अध्यात्म में रमे हुए हैं लेकिन उनके जीवन का उद्देश्य है सनातन धर्म और योग का प्रचार करना। उनका कहना है कि भविष्य में वह अपने देश स्विट्जरलैंड लौट कर अपने लोगों को धर्म और अध्यात्म के मार्ग पर ले जाने का प्रयास करेंगे।  

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -