Tuesday, February 7, 2023
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिआ गई राम मंदिर के भूमि पूजन की तारीख, PM मोदी को बुलावा: 161...

आ गई राम मंदिर के भूमि पूजन की तारीख, PM मोदी को बुलावा: 161 फीट होगी ऊँचाई, बनेंगे 5 गुम्बद

ट्रस्ट के सदस्य चंपत राय ने जानकारी दी कि गुजरात के भव्य सोमनाथ मंदिर का निर्माण करने वाले सोमपुरा मार्बल ब्रिक्स को ही राम मंदिर के निर्माण के लिए जिम्मेदारी दी जाएगी। मंदिर बनाने के लिए 10 करोड़ परिवारों द्वारा दान दिया जाएगा, ऐसा बताया गया है। ट्रस्ट ने कहा है कि राम मंदिर निर्माण में वित्त की कमी नहीं होगी।

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने अयोध्या में राम मंदिर के भूमि-पूजन के लिए दो तारीख की है, जिनमें से किसी एक पर पीएम मोदी मुहर लगाएँगे और मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसके लिए 3 अगस्त और 5 अगस्त की तारीख भेजी गई है, जिनमें से किसी एक को PMO फाइनल करेगा। सामरिक मसलों, प्रधानमंत्री मोदी के व्यस्त शेड्यूल और नए कारकों को ध्यान में रखते हुए अंतिम फैसला लिया जाएगा।

ट्रस्ट के सदस्य चंपत राय ने जानकारी दी कि गुजरात के भव्य सोमनाथ मंदिर का निर्माण करने वाले सोमपुरा मार्बल ब्रिक्स को ही राम मंदिर के निर्माण के लिए जिम्मेदारी दी जाएगी। मंदिर बनाने के लिए 10 करोड़ परिवारों द्वारा दान दिया जाएगा, ऐसा बताया गया है। ट्रस्ट ने कहा है कि राम मंदिर निर्माण में वित्त की कमी नहीं होगी। मंदिर की नींव का निर्माण मिट्टी की क्षमता के आधार पर 60 मीटर नीचे किया जाएगा।

लार्सन ऐंड टुब्रो कंपनी को जिम्मेदारी दी गई है कि वो मिट्टी के परीक्षण के लिए नमूने जुटाए। नक्शे के आधार पर जल्द ही नींव रखने का काम भी शुरू कर दिया जाएगा। सर्किट हाउस मे हुई बैठक में महंत नृत्य गोपाल दास सहित तमाम ट्रस्टी मौजूद रहे। शनिवार (जुलाई 18, 2020) की शाम 4 बजे शुरू हुई बैठक से पहले विश्व हिन्दू परिषद और आरएसएस के लोगों ने संतों के साथ मुलाकात कर इस विषय में बातचीत की।

बताया गया है कि राम मंदिर मे कुल 5 गुलम्बद होंगे और मंदिर की ऊँचाई 161 फीट होगी। चंपत राय ने बताया कि देश की सीमा पर कई समस्याएँ चल रही हैं, ऐसे में पीएम मोदी के आने या न आने पर अंतिम फैसला PMO ही करेगा। उन्हें महंत दास ने निमंत्रण भेजा है। ट्रस्ट के सभी सदस्यों ने अब तक के समतलीकरण के कार्यों पर संतुष्टि जताते हुए बताया कि 3 वर्षों मे राम मंदिर का निर्माण पूरा हो जाने की उम्मीद है।

उधर बाबरी मस्जिद के पैरोकार रहे इकबाल अंसारी ने भी कहा कि वो अयोध्या में प्रधानमंत्री का स्वागत करने के लिए तैयार है। इकबाल ने सुर बदलते हुए कहा कि जो संत समाज की इच्छा है, वही उसकी भी है। सभी संतों ने दोहराया कि जल्द से जल्द मंदिर का निर्माण शुरू कराया जाए। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव रहे नृपेन्द्र मिश्रा ने भी अयोध्या का दौरा किया था और व्यवस्थाओं का जायज लिया था।

इस दौरान श्रीराम जन्मभूमि से जुड़ी कुछ अफवाहें भी सामने आने लगीं थीl जैसे राम मंदिर निर्माण का समय नज़दीक आ रहा है वैसे इस मामले से संबंधित अफ़वाहों का बाज़ार भी गर्म हो रहा हैl एक समाचार पत्र में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक़ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अयोध्या में सर्व धर्म स्थल बनाना चाहते हैं। सच्चाई ये है कि अयोध्या में राम मंदिर ही बनेगा। सर्व धर्म स्थल बनाने का पीएम का कोई इरादा नहीं है। अयोध्या में सर्व धर्म स्थल बनाने से राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने अफवाहों की बातों से इनकार किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जो आपने देखा, वो तो दूसरा हिस्सा था… प्रीक्वल होगी ‘कांतारा’ सीरीज की अगली फिल्म, ऋषभ शेट्टी ने किया ऐलान: रहस्यों पर रिसर्च में...

सितंबर 2022 में आई कन्नड़ फिल्म 'कांतारा' के लेखक-निर्देशक-मुख्य अभिनेता ऋषभ शेट्टी ने इसके प्रीक्वल का ऐलान किया है। 2024 में होगी रिलीज़।

SC ने खारिज की राणा अयूब की याचिका, लटकी गिरफ्तारी की तलवार: गरीबों के नाम पर करोड़ों खाने का आरोप, खुद को बताती हैं...

मनी लॉन्ड्रिंग केस में सुप्रीम कोर्ट ने राणा अयूब की याचिका ख़ारिज कर दी है। अब उन्हें गाजियाबाद स्पेशल कोर्ट में हाजिर होना ही पड़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
244,232FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe