Wednesday, September 22, 2021
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृति71 फुट की गदा वाले इस हनुमान जी को बनाने में लगे 8 साल,...

71 फुट की गदा वाले इस हनुमान जी को बनाने में लगे 8 साल, अब रिकॉर्ड बुक में होंगे शामिल

हनुमान जी की इस प्रतिमा के हाथ 21 फुट के हैं, लंगोट 41 फुट, कमर 31 फुट, पूँछ और दुपट्टा 101 फुट, गदा 71 फुट, मुकुट 31 फुट और कलाई 10 फुट है।

फरीदाबाद-गुड़गाँव रोड पर साल 2011 में त्रिवेणी हनुमान मंदिर ट्रस्ट की ओर से हनुमानजी की सबसे बड़ी मूर्ति बननी शुरू हुई थी, जिसका निर्माण कार्य 8 साल बाद 2019 में पूरा चुका है और अब इसे एशिया बुक ऑफ रेकॉर्ड्स और लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड्स में शामिल करवाने की तैयारी चल रही है।

हालाँकि, खड़े हुए हनुमान जी की मूर्तियाँ कई जगह इससे बड़ी-बड़ी हैं लेकिन इस पोज में बनी यह ऐसी पहली विशाल मूर्ति है। इस मूर्ति का निर्माण राजस्थान के आर्किटेक्ट नरेश ने किया है।

नवभारत में छपी रिपोर्ट के मुताबिक मंदिर के मुख्य पुजारी खेमचंद का कहना है कि हनुमान जी के इस मंदिर से बड़खल गाँव और शहर के श्रद्धालुओं की आस्था जुड़ी हुई है। साथ ही इस मंदिर के लिम्का बुक में शामिल होने से यहाँ आने वाले पर्यटक भी बढ़ेंगे।

8 साल में बनकर तैयार हुई हनुमान जी की मूर्ति

हनुमान जी की इस प्रतिमा के हाथ 21 फुट के हैं, लंगोट 41 फुट, कमर 31 फुट, पूँछ और दुपट्टा 101 फुट, गदा 71 फुट, मुकुट 31 फुट और कलाई 10 फुट है।

आन्ध्रप्रदेश में हनुमान जी

इसके साथ ही आपको बता दें कि खड़ी अवस्था में एशिया के सबसे ऊँचे हनुमानजी आन्ध्रप्रदेश में मौजूद हैं। आन्ध्र प्रदेश में मौजूद हनुमान जी की मूर्ति की ऊँचाई 135 फुट है और भक्त इन्हें वीर अभय अंजनी हनुमान स्वामी के नाम से पुकारते हैं। इनका निर्माण 6 साल पहले 2013 में हुआ था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘साड़ी स्मार्ट ड्रेस नहीं’- दिल्ली के अकीला रेस्टोरेंट ने महिला को रोका: ‘ओछी मानसिकता’ पर भड़के लोग, वीडियो वायरल

अकीला रेस्टोरेंट के स्टाफ ने महिला से कहा कि चूँकि साड़ी स्मार्ट आउटफिट नहीं है इसलिए वो उसे पहनने वाले लोगों को अंदर आने की अनुमति नहीं देते।

मौलाना कलीम सिद्दीकी को यूपी ATS ने मेरठ से किया गिरफ्तार, अवैध धर्मांतरण के लिए की हवाला के जरिए फंडिंग

यूपी पुलिस ने बताया कि मौलाना जामिया इमाम वलीउल्लाह ट्रस्ट चलाता है, जो कई मदरसों को फंड करता है। इसके लिए उसे विदेशों से भारी फंडिंग मिलती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,707FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe