Thursday, July 25, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'राधे योर मोस्ट वांटेड भाई' पर चली कैंची: 21 कट के बाद 3 मिनट...

‘राधे योर मोस्ट वांटेड भाई’ पर चली कैंची: 21 कट के बाद 3 मिनट 31 सेकंड छोटी हो गई फिल्म

"यह फिल्म डिजिटल पर भी आ रही है। कई लोग इसे अपने घरों में अपने परिवारों के साथ देखने जा रहे। इसीलिए मेकर्स ने सोचा होगा कि कुछ शॉट्स को हटाना बेहतर है, ताकि दर्शक असहज महसूस न करें।"

सलमान खान की ईद पर रिलीज होने जा रही बहुप्रतीक्षित फिल्म “राधे – योर मोस्ट वांटेड भाई” बिना किसी कट के पास कर दी गई थी। लेकिन सेंसर बोर्ड का सर्टिफिकेट मिलने के बाद निर्माताओं ने स्वेच्छा से फिल्म में 21 कट किए

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, “अभिनेता सलमान खान और निर्माताओं को लगा था कि फिल्म पारिवारिक मनोरंजन पर आधारित है। यह डिजिटल पर भी आ रही है। कई लोग इसे अपने घरों में अपने परिवारों के साथ देखने जा रहे हैं। इसीलिए मेकर्स ने शायद सोचा होगा कि कुछ शॉट्स को हटाना बेहतर है, ताकि दर्शक असहज महसूस न करें। फिल्म में से ड्रग्स का सेवन करने वाले युवा लड़कों के कुछ शॉट्स हटा दिए गए हैं। ड्रग्स के सेवन से पीड़ित लड़के का एक सेकंड का शॉट है। यहाँ तक ​​कि इस ब्लिंक-एंड-मिस शॉट को काट दिया गया। इसके अलावा चार स्थानों पर एक्शन शॉट्स को हटा दिया है, जो कि थोड़ा हिंसक था।”

मेकर्स ने फिल्म में कुछ सीन्स जोड़े भी हैं। फिल्म के अंत में पाँच सेकेंड का शहरों का सीन जोड़ा गया है। दिलचस्प बात यह है कि कट लिस्ट में हुए बदलाव के मुताबिक, “स्वच्छ मुंबई” को “स्वच्छ भारत” से बदल दिया गया है। साथ ही, “जय महाराष्ट्र” संवाद को भी उसी संवाद में हटा दिया गया।

कट लगने से पहले “राधे – योर मोस्ट वांटेड भाई” 117 मिनट और 55 सेकंड की थी। लेकिन सीन्स में कटौती के बाद अब यह घटकर ​​114 मिनट और 24 सेकंड रह गई है। यानी कि मेकर्स ने 3 मिनट 31 सेकंड के शॉट्स को हटा दिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

खालिस्तानी अमृतपाल के लिए संसद में पूर्व CM चन्नी की बैटिंग, सिख किसान नेताओं के साथ राहुल गाँधी की बैठक: क्या पका रही है...

बकौल चरणजीत सिंह चन्नी, अमृतपाल पर NSA लगाना 'अभिव्यक्ति की आज़ादी' के खिलाफ है। वो खालिस्तानी अमृतपाल सिंह की गिरफ़्तारी को आपातकाल बता रहे हैं।

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -