Monday, June 24, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनजॉनी लीवर को पेशाब पिलाने पर अड़ गए थे आमिर खान, सेट पर ही...

जॉनी लीवर को पेशाब पिलाने पर अड़ गए थे आमिर खान, सेट पर ही रोने लगे थे ‘मेला’ के डायरेक्टर: काजोल ने ठुकरा दी थी फिल्म

धर्मेश दर्शन ने बताया कि फिल्म मेला की शूटिंग के दौरान आमिर खान ने जॉनी लीवर के साथ 'यूरिन थेरेपी सीन (पेशाब पीने वाला दृश्य)' करने की जिद्द पकड़ ली थी। यह यह सीन उन्होंने हॉलीवुड की एक फिल्म 'डम्ब एंड डम्बर' में देखा था।

शूटिंग के दौरान हिरोइनों की हाथ पर थूकने वाले अभिनेता आमिर खान फिल्म ‘मेला’ में अश्लील सीन करने पर अड़ गए थे। यह सीन उनके और जॉनी लीवर पर फिल्माया गया था। इसमें जॉनी लीवर को शराब समझकर पेशाब पीते दिखाया गया था। यह खुलासा ‘मेला’ के डायरेक्टर धर्मेश दर्शन ने किया है।

मेला साल 2000 में रिलीज हुई थी। बॉक्स आफिस पर फिल्म फ्लॉप साबित हुई थी। बकौल धर्मेश दर्शन मेला की शूटिंग के समय आमिर खान फिल्म ‘राजा हिन्दुस्तानी’ सुपरहिट होने के कारण बड़ा नाम बन चुके थे। वे किसी की सुन नहीं रहे थे। वे मेला के जरिए अपने भाई फैसल खान का करियर बनाना चाहते थे।

‘लहरें रेट्रो’ को दिए इंटरव्यू में धर्मेश दर्शन ने बताया कि शूटिंग के दौरान आमिर खान ने जॉनी लीवर के साथ ‘यूरिन थेरेपी सीन (पेशाब पीने वाला दृश्य)’ करने की जिद्द पकड़ ली थी। यह यह सीन उन्होंने हॉलीवुड की एक फिल्म ‘डम्ब एंड डम्बर’ में देखा था। धर्मेश दर्शन के मना करने के बावजूद आमिर यह सीन फिल्म में करना चाहते थे।

बकौल धर्मेश दर्शन उन्होंने अभिनेता को समझाया था कि जनता उन्हें इस तरह का सीन करते हुए नहीं देखना चाहेगी। लेकिन वे नहीं माने। उन्होंने कहा कि इस सीन की शूटिंग के बाद उन्हें फिल्म के सेट पर रोना आ गया था। नीचे लगे वीडियो में आप फिल्म का वह दृश्य देख सकते हैं;

इस इंटरव्यू में धर्मेश दर्शन ने यह भी बताया है कि मेला पहले काजोल को ऑफर हुई थी। लेकिन उन्होंने मना कर दिया, क्योंकि आमिर एक सीन को पूरा करने में कई टेक लेते थे। वहीं काजोल एक टेक में सीन पूरा करती थींं। इसलिए वह आमिर खान के साथ काम नहीं करना चाहती थीं। नीचे लगे वीडियो पर क्लिक कर आप धर्मेश दर्शन का इंटरव्यू ​देख सकते हैं;

बाद में ट्विंकल खन्ना को इस फिल्म में आमिर के साथ लिया गया। आमिर के साथ इस फिल्म में उनके भाई फैसल खान भी थे। आमिर इस फिल्म के माध्यम से फैसल का करियर बनाना चाहते थे। उनका पूरा फोकस इसी पर था। हालाँकि, आमिर अपने भाई फैसल का करियर नहीं बचा सके। मेला बुरी तरह असफल रहीं। वहीं लगान जैसी फिल्मों की सफलता ने आमिर खान के करियर को बचा लिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘काश निर्भया की जगह तुम होती, एहसान मानो अभी तक जिंदा हो…’: स्वर्ण मंदिर में योग करने वाली लड़की को मिल रही रेप-हत्या की...

स्वर्ण मंदिर के सामने शीर्षासन करने वाली इन्फ्लुएंसर को सोशल मीडिया पर धमकियाँ मिल रही थीं। अब वडोदरा पुलिस ने उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई है।

चर्च में फायरिंग, यहूदियों के धर्मस्थल को जलाया, पादरी का काटा गला: आतंकी हमले में रूस के 15 पुलिसकर्मियों की मौत, 6 आतंकवादी भी...

रूस में हुए आतंकी हमले में 15 से ज्यादा पुलिसकर्मियों की मौत हो गई, पादरी का सिर कलम कर दिया गया और 25 से ज्यादा घायल बताए जा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -