Monday, July 26, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनआमिर खान भी थूकते थे... वो भी हिरोइन के हाथों पर: जानिए पकड़े जाने...

आमिर खान भी थूकते थे… वो भी हिरोइन के हाथों पर: जानिए पकड़े जाने पर क्या दिया था तर्क

"आमिर सभी के साथ ऐसा करते थे और वह अभी भी ऐसा कर रहे हैं। वह कहते हैं मुझे अपना हाथ पढ़ने के लिए दो और फिर उस पर थूक देते हैं।"

बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान और उनके प्रैंक्स के बारे में फराह खान ने एक दिलचस्प खुलासा किया है। हाल ही में जियो मामी मुंबई फिल्म फेस्टिवल (Jio MAMI Mumbai Film Festival) में ‘जो जीता वही सिकंदर’ फिल्म की टीम एक बार फिर से एकजुट हुई।

इस दौरान कोरियोग्राफर-फिल्ममेकर फराह खान ने एक पुराना वाकया शेयर करते हुए कहा, “आमिर सभी के साथ ऐसा करते थे और वह अभी भी ऐसा कर रहे हैं। वह कहते हैं मुझे अपना हाथ पढ़ने के लिए दो और फिर उस पर थूक देते हैं।”

इस पर ‘गजनी’ फिल्म के अभिनेता ने मजाकिया अंदाज में सफाई देते हुए कहा, “मैंने जिस हीरोइन के हाथ पर थूका है वो नंबर वन बन गई।” इसी बीच पूजा बेदी ने भी चुटकी लेते हुए कहा, “मैं अपनी बेटी आलिया से कहूँगी कि आप जाकर आमिर अंकल से मिलो उन्हें आपके हाथों पर थूकने की जरूरत है।”

बता दें कि बुधवार (24 मार्च) को आमिर खान कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। कोविड-19 टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद आमिर ने खुद को होम क्वारंटाइन कर लिया है। और उन्होंने दूसरों से भी दूरी बनाए रखने के लिए कहा।

आमिर के प्रवक्ता ने कहा, “आमिर कोरोना संक्रमित हो गए हैं। उन्होंने खुद को होम क्वारंटाइन कर लिया है। वे सभी प्रोटोकॉल को फॉलो भी कर रहे हैं। उन्होंने गुजारिश की है कि जो भी लोग बीते कुछ दिनों में उनके संपर्क में आए हैं, वे सभी अपना कोविड-19 टेस्ट करवा लें। आप सभी की शुभकामनाओं और चिंता के लिए धन्यवाद।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,200FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe