Tuesday, July 23, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'द केरल स्टोरी' की तरह खटकने लगी अदा शर्मा की 'बस्तर' फिल्म...: रिपोर्ट्स में...

‘द केरल स्टोरी’ की तरह खटकने लगी अदा शर्मा की ‘बस्तर’ फिल्म…: रिपोर्ट्स में दावा- स्क्रीनिंग हो रहीं रद्द, एक्ट्रेस को भेजा जा सकता है समन

फिल्म अभिनेत्री अदा शर्मा के पास इस संबंध में अदालती समन भेजने की तैयारी भी चल रही है। साथ ही फिल्म में दिखाए गए सीन्स पर प्रतिबंध लगाने की माँग उठने की भी चर्चा है।

‘द केरल स्टोरी’ फिल्म के जरिए अपनी एक्टिंग से दर्शकों का दिल जीतने वाली एक्ट्रेस अदा शर्मा की नई फिल्म ‘द नक्सल स्टोरी-बस्तर’ रिलीज होते ही विवादों में आ गई। मीडिया खबरों में बताया जा रहा है कि कर्नाटक और अन्य भारतीय राज्यों में फिल्म की स्क्रीनिंग को रद्द कर दिया गया है। इसके अलावा अदा शर्मा के पास इस संबंध में अदालती समन भेजने की तैयारी भी चल रही है। साथ ही फिल्म में दिखाए गए सीन्स पर प्रतिबंध लगाने की माँग उठने की भी चर्चा है।

रिपोर्ट्स के अनुसार दो घंटे और चार मिनट की इस फिल्म की कथित तौर पर कुछ संवादों के चलते आलोचना हो रही है। साथ ही कहा जा रहा है कि इसमें कुछ राजनेताओं को बदनाम किया गया है। अब ये संवाद और राजनेता कौन हैं अभी इसका पता नहीं चल पाया है। दर्शकों ने जो सीन उन्हें आपत्तिजनक लगे उसे हटाने की माँग की है।

बस्तर फिल्म की कहानी

बस्तर फिल्म की कहानी में भी माओवादी द्वारा की गई हिंसा को दिखाया गया है। कहानी में अदा शर्मा को आईपीएस के तौर पर दिखाया गया है जिन पर निर्दोष जनजातियों के एनकाउंटर करने का मामला चलता दिखाया जाता है। सोशल मीडिया पर मौजूद प्रतिक्रिया बताती है कि अदा शर्मा की एक्टिंग लोगों को बहुत पसंद आई। वहीं फिल्म को लेकर ओपिनियन मिक्स हैं।

बता दें कि अदा शर्मा की इस फिल्म को ‘द केरल स्टोरी’ के फिल्म निर्माता, सुदीप्तो सेन द्वारा निर्देशित किया गया है। 15 मार्च 2024 को ये सिनेमाघरों में रिलीज़ हुई थी। फिल्म में अदा शर्मा मुख्य भूमिका में हैं। फिल्म में उनके अलावा यशपाल शर्मा, नमन जैन, इंदिरा तिवारी और शिल्पा शुक्ला भी हैं।

‘द केरल स्टोरी’ पर भी उठी थी बैन की माँग

गौरतलब है कि पिछले साल जब अदा शर्मा की द केरल स्टोरी फिल्म आई थी उस समय भी कई राज्यों में इसे न चलाने की बात उठी थी। बंगाल सरकार ने तो फिल्म को तथ्यहीन और समाज में वैमनस्यता फैलाने का हवाला देकर उसपर प्रतिबंध लगवा दिया था। लेकिन बाद में जब मामला सुप्रीम कोर्ट पहुँचा तो उच्चतम न्यायालय ने यह फैसला पलट दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -