Sunday, May 19, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनहिरोइन के जूता चाटने से व्यथित हुए जावेद अख्तर, गले पड़ी बेटे की 'मिर्जापुर'...

हिरोइन के जूता चाटने से व्यथित हुए जावेद अख्तर, गले पड़ी बेटे की ‘मिर्जापुर’ की गालियाँ: ‘एनिमल’ के डायरेक्टर ने आमिर खान की पूर्व बीवी को भी धोया

"जावेद अख्तर ने यही बात अपने बेटे फरहान अख्तर को नहीं बताई जब वह मिर्जापुर बना रहे थे। पूरी दुनिया भर में जितनी गालियाँ हैं वो मिर्जापुर में है। वह भी 2 मिनट के सीन में। वे अपने बेटे का काम क्यों नहीं देखते।"

एनिमल और कबीर सिंह जैसी फिल्मों के निर्देशक संदीप रेड्डी वांगा ने गीतकार जावेद अख्तर को लताड़ लगाई है। एनिमल की आलोचना को लेकर उन्होंने कहा है कि जावेद अख्तर अपने बेटे की बनाई फिल्मों को क्यों नहीं देखते हैं। उसमें तो भर-भर कर गालियाँ होती हैं।

संदीप रेड्डी वांगा ने एक इंटरव्यू के दौरान जावेद अख्तर को करारा जवाब दिया है। जावेद अख्तर ने हाल ही में उनकी फिल्मों को लेकर कुछ टिप्पणियाँ की थीं। विशेष तौर पर उस सीन को लेकर जिसमें हिरोइन को हीरो के जूते चाटते दिखाया गया है।

इसका जवाब देते हुए संदीप रेड्डी ने कहा, “यह तो साफ़ है कि जावेद अख्तर ने पूरी फिल्म नहीं देखी। अब जो बिना फिल्म देखे हुए बात करता है उसके बारे में क्या बात करना। वो कोई भी बेस्ट क्रिटिक (आलोचक) हो या फिर लेखक, वो मेरी फिल्म के बारे में बात कर रहे हैं ना, इससे आपको खराब लगता है।”

आगे उन्होंने कहा, “ऐसे में जो भी किसी की कलाकारी पर बात कर रहा है, वह पहले अपने आसपास की चीजों को क्योंकि नहीं चेक करते? अगर ये बातें महिला विरोधी चीजों को लेकर हैं, तो मैं नित्या मेनन जैसी अभिनेत्रियों की बात को सुनता भी, लेकिन जावेद जी ने यही बात अपने बेटे फरहान अख्तर को नहीं बताई जब वह मिर्जापुर बना रहे थे। पूरी दुनिया भर में जितनी गालियाँ हैं वो मिर्जापुर में है। वह भी 2 मिनट के सीन में। वे अपने बेटे का काम क्यों नहीं देखते।”

रेड्डी ने कहा कि वे चाहें तो जावेद अख्तर की 100 फिल्मों की आलोचना कर सकते हैं, लेकिन वे उनके पैदा होने से पहले रिलीज हुईं तो क्या मतलब है। उन्होंने अपनी फिल्मों की आलोचना पर सवाल उठाते हुए कहा कि ‘कबीर सिंह’ के साथ भी ऐसा ही हुआ था। कबीर सिंह और एनिमल के बीच कई फिल्में आईं। लेकिन उन्हें जिस तरह से निशाना बनाया जा रहा है, क्या यह किसी साजिश का हिस्सा है?

एनिमल के डायरेक्टर ने कहा कि फिल्म देखने के लिए लोगों को सिनेमाघर तक जाना पड़ता है, लेकिन मिर्जापुर जैसी सीरिज तो घर में घुस गई। हिंदी इंडस्ट्री में जितनी गालियाँ हैं, वह मिर्जापुर में डाल दी गई हैं। आप यह बातचीत 10:20 मिनट के बाद सुन सकते हैं।

गौरतलब है कि जावेद अख्तर ने एनिमल के एक सीन को लेकर कहा था, “मुझे लगता है कि यह नए फिल्म निर्माताओं के लिए बड़ा ही कठिन समय है, क्योंकि ना जाने वो कैसे पात्र अपनी फिल्मों में दिखाना चाहते हैं जिनकी समाज प्रशंसा करेगा। उदहारण के लिए, अगर एक ऐसी फिल्म है जिसमें एक पुरुष एक महिला से उसका जूता चाटने को कहता है और एक महिला को थप्पड़ मारना सही है और फिल्म भी सुपरडुपर हिट है तो यह बड़ा खतरनाक है।”

संदीप रेड्डी ने हाल ही में आमिर खान की पूर्व पत्नी किरण राव को भी आइना दिखाया था। किरण राव ने बाहुबली और एनिमल फिल्म को लेकर टिप्पणियाँ की थी और उन्हें स्त्री विरोधी बताया था। इसका जवाब देते हुए वांगा ने राव से पूछा था कि क्या उन्हें आमिर खान की फ़िल्में और गाने नहीं देखे हैं।

उन्होंने आमिर के गाने ‘खम्भे जैसी खड़ी है, लड़की है या फुलझड़ी है’ को लेकर प्रश्न पूछे और कहा कि उनको इसमें स्त्री विरोध क्यों नहीं दिखा। उन्होंने आमिर खान की फिल्म ‘दिल’ के एक सीन को लेकर भी प्रश्न उठाए जिसमें आमिर खान हिरोइन का बलात्कार करने की कोशिश करते हैं और बाद में दोनों के बीच प्रेम हो जाता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -