Wednesday, June 19, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'कश्मीर फाइल्स' को लेकर ट्विंकल खन्ना ने उड़ाया मजाक: कहा- बड़े शहरों के नाम...

‘कश्मीर फाइल्स’ को लेकर ट्विंकल खन्ना ने उड़ाया मजाक: कहा- बड़े शहरों के नाम बुक, अब अंधेरी फाइल्स और खार फाइल्स पर बनेंगी फिल्म

'द कश्मीर फाइल्स' 1990 में हुए कश्मीरी पंडितों के साथ अत्याचार, उनके दर्द और पलायन के बाद के संघर्ष की कहानी है। 1990 के दशक में घाटी में इस्लामिक आतंकियों के जेहाद के नाम पर घाटी के पंडितों का कत्लेआम मचा दिया था।

कश्मीरी हिंदुओं (Kashmiri Hindus) के नरसंहार और पलायन पर बनी फिल्म कश्मीर फाइल्स (The Kashmir Files) की अपार सफलता के बाद बॉलीवुड अभिनेत्री से लेखिका बनी अभिनेता अक्षय कुमार की पत्नी ट्विंकल खन्ना ने तंज कसा है। उन्होंने इस तरह की फिल्म बनाने वाले फिल्म निर्माताओं को क्लर्क की संज्ञा दी।

ट्विंकल खन्ना ने कहा कि कश्मीर फाइल्स की सफलता के बाद फिल्म निर्माता ‘अंधेरी फाइल्स’, साउथ ‘बॉम्बे फाइल्स’ नाम पंजीकृत कराने के लिए भाग-दौड़ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बड़े शहरों के नाम पहले ही रजिस्टर्ड किए जा चुके हैं। इसलिए अब छोटे-छोटे मुहल्लों का विकल्प बचा है।

टाइम्स ऑफ इंडिया के लिए लिखे अपने कॉलम में ट्विंकल ने कहा, “एक निर्माता के कार्यालय में हुई एक बैठक में मुझे बताया गया कि द कश्मीर फाइल्स की देखादेखी में फिल्मों के ऐसे शीर्षकों की बाढ़-सी आई हुई है।”

इस तरह के फिल्म बनाने वाले निर्माताओं पर तंज कसते हुए ट्विंकल ने आगे कहा, “मैं बस सोच रही हूँ कि क्या मेरे सहयोगी अभी भी खुद को फिल्म निर्माता मान रहे हैं या इन सब ‘फाइल्स’ के साथ वे असली राष्ट्रवादी मनोज कुमार की तरह क्लर्क बन गए हैं।”

ट्विंकल ने मजाक उड़ाते हुए आगे कहा कि उन्होंने ‘नेल फाइल’ नाम से फिल्म बनाने की बात कही और इसका जिक्र उन्होंने अपनी माँ डिंपल कपाड़िया से भी किया। इस पर जब डिंपल ने पूछा कि क्या यह एक घटिया मैनीक्योर के बारे में होगा तो ट्विंकल ने जवाब दिया, “हो सकता है, लेकिन कम से कम यह सांप्रदायिक ताबूत में अंतिम कील लगाने से बेहतर है।”

‘द कश्मीर फाइल्स’ 1990 में हुए कश्मीरी पंडितों के साथ अत्याचार, उनके दर्द और पलायन के बाद के संघर्ष की कहानी है। 1990 के दशक में घाटी में इस्लामिक आतंकियों ने जेहाद के नाम पर घाटी के पंडितों का कत्लेआम मचा दिया था। औरतों के साथ बलात्कार और हत्या आम बात सी हो गई थी।

इस फिल्म को निर्माता विवेक अग्निहोत्री ने अपनी पत्नी पल्लवी जोशी के साथ मिलकर बनाया है। इसमें मुख्य भूमिका अनुपम खेर, मिथुन चक्रवर्ती, पल्लवी जोशी और चिन्मय मंडलेकर ने निभाई है। हालाँकि, फिल्म को लेकर राजनीतिक घमासान भी मचा हुआ है, फिर भी फिल्म बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त कमाई कर रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -