Friday, July 19, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'…इसीलिए UCC है जरूरी' : बिग बॉस OTT 3 में दो बीवी वाले अरमान...

‘…इसीलिए UCC है जरूरी’ : बिग बॉस OTT 3 में दो बीवी वाले अरमान मलिक को देख भड़कीं देवोलीना भट्टाचार्जी, बोलीं- ‘ये मनोरंजन नहीं, घिनौनापन है’

देवोलीना भट्टाचार्जी ने बिग बॉस में अरमान मलिक की एंट्री और उनकी शादी की कहानियों को मनोरंजन नहीं बल्कि गंदगी कहा है। देवोलीना का कहना है कि पता नहीं बिग बॉस को क्या हो गया है। क्या इतने बुरे दिन आ गए हैं कि ऐसा कंटेंट दिखाना पड़ जाए।

बिग बॉस ओटीटी-3 की शुरुआत हो चुकी है। इस बार ज्यादातर कंटेस्टेंट सोशल मीडिया इन्फ्लुंसर दिखाई दे रहे हैं। इनमें एक चर्चित नाम अरमान मलिक का भी है। अरमान अपनी दोनों पत्नियों के साथ इस बार शो में आए हैं। उनकी एंट्री पर शो के होस्ट अनिल कपूर ने उनसे कुछ सवाल किए, जहाँ कृतिका-पायल ने अपनी अरमान के साथ की लव स्टोरी बताई। उन्होंने बताया कि कैसे दोनों ही अरमान के साथ 6 दिन तक प्यार में पड़ने के बाद सातवें दिन शादी को तैयार हो गई थीं। इनकी एंट्री की यह वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। ऐसे में बिग बॉस 13 की कंटेस्टेंट रही देवोलीना भट्टाचार्जी ने इस पर बयान दिया है।

उन्होंने अपने एक्स पर ट्वीट करते हुए इस तरह के कंटेंट को गंदगी बताया। उन्होंने कहा, “क्या आपको लगता है कि ये मनोरंजन है? ये मनोरंजन नहीं, गंदगी है। इसे हल्के में लेने की गलती मत करिए क्योंकि ये सिर्फ रील नहीं है, ये रियल (हकीकत) है। मतलब, मुझे समझ में ही नहीं आता कि कोई इस बेशर्मी को मनोरंजन कैसे कह सकता है? मुझे तो ये सुनकर ही घिन आती है। यह एकदम घटियापन है। मतलब, सिर्फ 6/7 दिन में प्यार हुआ, शादी हुई और फिर पत्नी की बेस्ट फ्रेंड के साथ भी यही हुआ। ये मेरी कल्पना से भी परे है।”

एक्ट्रेस ने बिग बॉस कंटेंट पर भी सवाल उठाए। साथ ही समान नागरिक संहिता कानून आने को भी अनिवार्य कहा। उन्होंने लिखा- “और बिग बॉस, आपको क्या हो गया है? क्या इतने बुरे दिन चल रहे हैं आपके कि आपको बहुविवाह एंटरटेनिंग लगता है? जब आपने ऐसे कंटेस्टेंट्स को पेश किया तो आप क्या सोच रहे थे? इस शो को बच्चे से लेकर बूढ़े तक देखते हैं। आप नई पीढ़ी को क्या सिखाना चाहते हैं? कि वो 2-3-4 शादियाँ कर सकते हैं? सब लोग एक साथ खुशी-खुशी रह सकते हैं? जाकर उनसे पूछिए जो हर दिन ऐसी घटनाओं से पीड़ित हैं, दुख में अपना जीवन जी रहे हैं। इसलिए स्पेशल मैरिज एक्ट और UCC (समान नागरिक संहिता) अनिवार्य होना चाहिए। ताकि कानून सबके लिए एक जैसा हो और समाज ऐसी गंदगी से मुक्त हो सके। पहली पत्नी के होते हुए दूसरी पत्नी।”

देवोलीना परिस्थितियों के बारे में कल्पना करने को कहती हैं ताकि ऐसे कंटेंट दिखाने के दुष्परिणाम पता चल सकें। वो कहती हैं- “सोचिए अगर समानता के नाम पर पत्नियाँ 2-2 पति रखने लगें, तो क्या तब भी आपका मनोरंजन होगा? और मुझे समझ नहीं आता कि उनके फॉलोवर्स कौन हैं। और किस कारण से वो उनको फॉलो करते हैं? आपका दिमाग सही जगह पर है या नहीं, प्लीज पहले उसका इलाज करवाइए। अगर आपको यह बेशर्मी सही लगती है तो आपका जीवन बर्बाद है। आप इसके आगे कुछ नहीं सोच सकते और न ही इसके बारे में कुछ कर सकते हैं। आप नई पीढ़ी को क्या सिखाना चाहते हैं कि उन्हें कई शादियाँ करनी चाहिए? घिन आती है। यह सोचना ही इतना घिनौना है। और अगर 2-3 शादियां करना इतना ही जरूरी है तो करो और घर पर रहो। इस गंदी मानसिकता को दुनिया में मत फैलाओ। एक समाज के तौर पर हम सिर्फ विनाश की ओर बढ़ रहे हैं। सच में लोग पागल हो गए हैं। और बिग बॉस, मुझे नहीं पता कि आपको क्या हो गया है।”

देवोलीना के इस ट्वीट के बाद लोग उनकी मुखरता की तारीफ कर रहे हैं। कहा जा रहा है कि आज के समय में फॉलोवर इकट्ठा कर लेना बिग बॉस में आने का क्राइटेरिया बन गया है, लेकिन ये सोचना चाहिए कि टीवी पर कैसा कंटेंट दिखाया जाए। लोगों का कहना है कि देवोलीना ने एकदम सही मुद्दा उठाया है। देश में यूसीसी की बहुत ज्यादा जरूरत हो गई है। इसके अलावा लोग ये भी पूछ रहे हैं कि ये दोनों संदेश क्या देना चाहते हैं कि 6-7 दिन में प्यार होता है और फिर भागकर शादी हो जाती है।

बता दें कि अरमान मलिक एक यूट्यूबर हैं। आजकल वह व्लॉग्स आदि बनाते हैं। उनके मेन चैनल पर 7.69 मिलियन से ज्यादा सब्सक्राइबर्स हैं। इसके अलावा पायल, कृतिका के भी अलग-अलग अपने चैनल हैं। इसके अलावा इन तीनों ने अपने बच्चों के भी चैनल बनाए हुए है और अलग-अलग वीडियोज उनपर डाली जाती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -