Wednesday, May 22, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनकिच्चा सुदीप और अजय देवगन के विवाद पर बोले सोनू निगम - 'संविधान में...

किच्चा सुदीप और अजय देवगन के विवाद पर बोले सोनू निगम – ‘संविधान में नहीं लिखा हिंदी राष्ट्रभाषा है, तमिल सबसे पुरानी’

कई भाषाओं में गाने गा चुके सोनू निगम ने ये भी याद दिलाया कि भारत की अदालतें अधिकतर अंग्रेजी में ही अपने फैसले सुनाती हैं। उन्होंने कहा कि जिसे जिस भाषा में सुविधा है, उसे उसमें बात करने दी जानी चाहिए।

गायक सोनू निगम ने कन्नड़ अभिनेता किच्चा सुदीप और बॉलीवुड अभिनेता अजय देवगन के बीच हिंदी भाषा को लेकर हुए विवाद पर प्रतिक्रिया दी है। हिंदी भाषा में बातचीत की केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बयान के बाद दक्षिण भारतीय सिनेमा की कई हस्तियों ने इस पर प्रतिक्रिया दी है। सोनू निगम ने कहा कि संविधान में कहीं नहीं लिखा हुआ है कि हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है। उन्होंने तमिल को सबसे पुरानी भाषा करार दिया।

सोनू निगम ने कहा कि ये विवाद चलता रहता है कि संस्कृत और तमिल में ज्यादा पुरानी भाषा कौन सी है, लेकिन ज्यादातर लोग मानते हैं कि तमिल ही प्राचीनतम है। सोनू निगम ने सलाह दी कि नई समस्याओं और मुद्दों को शुरू करने से पहले ज़रूरी है कि देश में मौजूद समस्याओं को हल किया जाए। सोनू निगम ने पूछा कि आखिर तमिल वाले हिंदी क्यों बोलेंगे? साथ ही उन्होंने देश को धर्म और क्षेत्र के आधार पर विभाजित न करने की भी सलाह दी।

सोनू निगम ने कहा, “पड़ोसी देशों को देखिए। क्या हमारे पास पहले से कम समस्याएँ हैं जो हम नई खड़ी कर रहे हैं? लोगों को उस भाषा का इस्तेमाल करने दीजिए, जिसमें वो बोलते हैं। हम किसी को क्यों बोल रहे हैं कि तुम्हें फलाँ भाषा ही बोलनी है।” कई भाषाओं में गाने गा चुके सोनू निगम ने ये भी याद दिलाया कि भारत की अदालतें अधिकतर अंग्रेजी में ही अपने फैसले सुनाती हैं। उन्होंने कहा कि जिसे जिस भाषा में सुविधा है, उसे उसमें बात करने दी जानी चाहिए।

हाल ही में अजय देवगन ने किच्चा सुदीप से पूछा था, “आपके अनुसार अगर हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा नहीं है तो आप अपनी मातृभाषा की फ़िल्मों को हिंदी में डब करके क्यों रिलीज़ करते हैं? हिंदी हमारी मातृभाषा और राष्ट्रीय भाषा थी, है और हमेशा रहेगी। जन गण मन।” इस पर सुदीप ने जवाब दिया था, “इसे गलत संदर्भ में समझा गया। यह बयान किसी को चोट पहुँचाने, उकसाने या कोई बहस शुरू करने के लिए नहीं था। मैं अपने देश की हर भाषा से प्यार और सम्मान करता हूँ।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -