Friday, July 30, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनअपने कर्म से अनिल कपूर के घर पैदा हुई, फायदा मिला: सोनम कपूर ने...

अपने कर्म से अनिल कपूर के घर पैदा हुई, फायदा मिला: सोनम कपूर ने नेपोटिज्म का किया बचाव

"आज फादर्स डे पर मैं एक बात कहना चाहूँगी। हाँ, मैं अपने पिता की बेटी हूँ और मैं उन्हीं की वजह से यहाँ हूँ। यह मेरा सौभाग्य है। यह कोई अपमान नहीं है। मेरे पिता ने मुझे यह सब देने के लिए कड़ी मेहनत की है और यह मेरे कर्म हैं, जहाँ मैं पैदा हुई हूँ और जिनके यहाँ पैदा हुई हूँ। मुझे गर्व है उनकी बेटी होने पर।"

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के बाद बॉलीवुड में नेपोटिज्म भाई-भतीजावाद को लेकर बहस छिड़ी हुई है। इसकी वजह से स्टार किड्स को होने वाले फायदों को लेकर लोग मुखर हैं। जिन लोगों को इस वजह से निशाना बनाया जा रहा उनमें एक नाम सोनम कपूर का भी है। ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफॉर्म पर लोग कह रहे हैं कि ‘भाई-भतीजावाद’ की वजह से ही सोनम फिल्म इंडस्ट्री का हिस्सा हैं।

इस बीच रविवार (जून 21, 2020) को सोनम कपूर ने फादर्स डे के मौके पर ट्विटर पर नेपोटिज्म का बचाव किया। उन्होंने कहा है कि अनिल कपूर की बेटी होने पर उन्हें गर्व है। उन्हें यह बात कहने में हिचक नहीं है कि अपने कर्म की वजह से वह उनके घर पैदा हुईं और इसका उन्हें फायदा हुआ।

‘स्टारकिड’ होने की वजह से इंडस्ट्री में टिके होने के आरोपों का जवाब देते हुए सोनम कपूर ने ट्वीट किया, “आज फादर्स डे पर मैं एक बात कहना चाहूँगी। हाँ, मैं अपने पिता की बेटी हूँ और मैं उन्हीं की वजह से यहाँ हूँ। यह मेरा सौभाग्य है। यह कोई अपमान नहीं है। मेरे पिता ने मुझे यह सब देने के लिए कड़ी मेहनत की है और यह मेरे कर्म हैं, जहाँ मैं पैदा हुई हूँ और जिनके यहाँ पैदा हुई हूँ। मुझे गर्व है उनकी बेटी होने पर।”

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद निर्माता, निर्देशकों, स्टारकिडों के एक समूह के खिलाफ नेपोटिज्म के आरोप का सोनम कपूर द्वारा बचाव करने के बाद भी सोशल मीडिया यूजर्स ने अभिनेत्री के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया था और कड़े सवाल उठाए।

सोनम कपूर भी इंडस्ट्री के कई कलाकारों में से एक थीं, जिन्हें सुशांत सिंह राजपूत की मौत के लिए दोषी ठहराया गया था। प्रशंसकों ने निर्माता, निर्देशक और स्टार किड्स के खिलाफ नाराजगी व्यक्त की, जिन्हें उन्होंने ‘इनसाइडर’ बताते हुए बाहरी लोगों को धमकाने और बिना किसी कारण के अलग-थलग करने के लिए जिम्मेदार ठहराया।

गौरतलब है कि बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के मौत के बाद बॉलीवुड के कुछ स्टार्स पर लोगों का गुस्सा फूट रहा है। सोशल मीडिया पर यूजर्स बॉलीवुड इंडस्ट्री पर निशाना साध रहे हैं कि यहाँ सिर्फ स्टार्स के बच्चों को मौका मिलता है और आउटसाइडर्स को नहीं।

इसके साथ ही सोशल मीडिया यूजर्स ने सोनम कपूर से जवाब माँगा। इसके बाद सोनम कपूर ने अपना कमेंट सेक्शन बंद कर दिया। फिर यूजर्स ने उनके मैसेज बॉक्स में जाकर जवाब माँगना शुरू कर दिया।

17 जून को सोनम ने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा था, “दोस्तों मैं आमतौर पर नफरत और नकारात्मकता से दूर नहीं भागती, क्योंकि मुझे उन लोगों पर तरस आती है, जिनके दिलों में इतनी नफरत है, क्योंकि यह उन्हें ज्यादा परेशान करता है। लेकिन यह मेरे दोस्तों और परिवार को ट्रिगर कर रहा है। मैं समझती हूँ। ये वे लोग हैं जो रूढ़िवादी दक्षिणपंथी एजेंडे को आगे बढ़ा रहे हैं। मैं अपने कमेंट्स सेक्शन को बंद कर रही हूँ।” इसे सोनम ने बाद में हटा दिया था। 

रविवार को सोनम कपूर ने ‘नेपोटिज्म’ का बचाव करने के साथ ही सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा किए गए कमेंट्स और मैसेज को शेयर करते हुए सोनम लिखती हैं, “ये कुछ कमेंट्स हैं जो मुझे सुनने को मिल रहे हैं। जो भी मीडिया और अन्य लोगों ने इस बात को बढ़ावा दिया है। मैं आप सबको इसका जिम्मेदार मानती हूँ। जो लोग दूसरों के साथ अच्छा बर्ताव करने का संदेश दे रहे हैं, वो खुद दूसरे का बुरा कर रहे हैं।”

जब एक यूजर ने कमेंट को बंद करने के बारे में पूछा तो सोनम ने कहा, “हाँ मैंने अपने और अपने माता-पिता के कमेंट सेक्शन को बंद कर दिया है, क्योंकि मैं नहीं चाहती कि मेरे 64 वर्षीय माता-पिता भी इससे गुजरें। उन्होंने कुछ नहीं किया और मैं ऐसा डर कर नहीं कर रही हूँ, बल्कि मैं अपने मानसिक स्वास्थ्य और मेरे माता-पिता के संरक्षण के लिए ऐसा कर रही हूँ।”

सोशल मीडिया पर एक पुराना वीडियो जमकर शेयर किया जा रहा है। इसमें सोनम कपूर, करण जौहर से कह रही हैं कि वे सुशांत सिंह राजपूत को नहीं जानती हैं। इस वीडियो को शेयर करके सुशांत के फैंस ने उन्हें सोशल मीडिया पर बुरी तरह ट्रोल किया है। सोनम ने लिखा कि लोग मेरे उस बच्चे की मौत की दुआ माँग रहे हैं, जो अभी पैदा भी नहीं हुआ। उन्होंने वीडियो पर सफाई देते हुए कहा कि ये वीडियो 7 साल पुराना है, जब उनकी एक फिल्म आई थी। वो उनको नहीं जानती थीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोज के ₹300, शराब के साथ शबाब भी: देह व्यापार का अड्डा बना टिकरी बॉर्डर, टेंट में नंगे पड़े रहते हैं ‘किसान’

किसान आंदोलन के नाम पर फर्जी किसान टीकरी बॉर्डर शराब और लड़कियों के साथ झाड़ियों के पीछे अय्याशी करते देखे जा सकते हैं।

‘तब तक आराम नहीं… जब तक ओलंपिक स्वर्ण नहीं’ – लवलिना बोरगोहेन ने चोट लगने पर कहा, अब मंजिल की ओर

टोक्यो ओलंपिक में लवलीना बोरगोहेन ने देश के लिए दूसरा मेडल पक्का कर लिया है। लवलीना ने क्वाटर फाइनल में ने चीनी ताइपे की बॉक्सर को हरा...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,980FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe