Friday, July 1, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजन'वेलकम 2 में अपनी गर्लफ्रेंड को डाल दिया': मल्लिका शेरावत से कभी हीरो कहते...

‘वेलकम 2 में अपनी गर्लफ्रेंड को डाल दिया’: मल्लिका शेरावत से कभी हीरो कहते थे- ऑनस्क्रीन करती हो तो मेरे साथ क्यों नहीं?

"मैं न तो किसी डायरेक्टर या प्रोड्यूसर के कमरे में रात के समय मिलने गई और न ही बॉलीवुड की पार्टियों में गई। मैंने खुद को इन सभी चीजों से हमेशा दूर रखने की कोशिश की। मैं सोचती थी कि जो भी मेरी किस्मत में होगा वो मुझे मिलेगा ही।"

मल्लिका शेरावत इन दिनों अपनी वेब सीरिज नकाब को लेकर चर्चा में हैं। हाल में उन्होंने कई इंटरव्यू दिए हैं जिनमें बॉलीवुड में कॉस्टिंग काउच से लेकर फिल्म इंडस्ट्री में खुद की एंट्री तक पर बात की है। पिंकविला को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा है कि वेलकम के सीक्वल में वे इसलिए नजर नहीं आईं क्योंकि, डायरेक्टर ने अपनी गर्लफ्रेंड को फिल्म में ले लिया।

कुछ साल पहले पीटीआई को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने अपने हाथ से प्रोजेक्ट निकलने के लिए अभिनेताओं को भी जिम्मेदार ठहराया था। तब उन्होंने कहा था, “मुझे फिल्मों से इसलिए बाहर फेंक दिया गया क्योंकि हीरो कहते थे तुम मेरे साथ इंटिमेट क्यों नहीं हो सकती? तुम ऑनस्क्रीन यह सब कर सकती हो तो फिर मेरे साथ अकेले में क्यों नहीं? इस चक्कर में मैंने बहुत प्रोजेक्ट खोए।”

पिंकविला से बातचीत में मल्लिका ने कहा है, “वेलकम का सीक्वल बनेगा तो डायरेक्टर अपनी गर्लफ्रेंड को ही डालेगा उसमें। वेलकम 2 बना तो उसमें अपनी गर्लफ्रेंड को डाल दिया बताओ, अब मैं क्या करूँ?” उन्होंने कहा कि वे किसी का नाम नहीं लेना चाहतीं पर सच्चाई यही है। जब सीक्वल बनाया जाता है तो वे अपनी गर्लफ्रेंड, हीरो के गर्लफ्रेंड को फिल्म में डाल देते हैं। ऐसे में वे क्या कर सकती हैं। मल्लिका ने कहा, “बॉलीवुड में मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है। मैं कभी किसी हीरो, डायरेक्टर या प्रोड्यूसर के साथ रिश्ते में नहीं रही। यदि कोई मुझे अपने प्रोजेक्ट का हिस्सा बनाना चाहेगा तो मुझे उससे जुड़कर खुशी होगी। लेकिन यदि कोई डायरेक्टर या प्रोड्यूसर या हीरो यदि अपनी गर्लफ्रेंड को लेना चाहता है तो ये उनकी च्वाइस है।”

वहीं ‘बॉलीवुड बबल’ को दिए इंटरव्यू में मल्लिका ने कास्टिंग काउच के मुद्दे पर कहा, “मैंने भी फिल्म इंडस्ट्री में इस तरह की चीजों का सामना किया है। लेकिन मेरे साथ ये उतना अधिक नहीं हो पाया। मुझे लगता है कि वो लोग मुझे किसी भी तरह का प्रपोजल देने से पहले काफी नर्वस हो जाते थे। उन्हें लगता था कि ये लड़की किसी से भी डरती नहीं है, बहुत बोल्ड है तो किसी से भी कुछ भी बोल सकती है। वास्तव में मैं बहुत ही बोल्ड और बिंदास टाइप की हूँ। जाट हूँ न इसलिए विद्रोहीपन मेरे अंदर पहले से है।”

मल्लिका ने बताया कि सभी लोगों की नजर में उनकी इमेज एक बोल्ड और बिंदास लड़की की थी। इसी चीज ने उन्हें कास्टिंग काउच से बचाने में मदद की। एक्ट्रेस ने कहा, “मैं न तो किसी डायरेक्टर या प्रोड्यूसर के कमरे में रात के समय मिलने गई और न ही बॉलीवुड की पार्टियों में गई। मैंने खुद को इन सभी चीजों से हमेशा दूर रखने की कोशिश की। मैं सोचती थी कि जो भी मेरी किस्मत में होगा वो मुझे मिलेगा ही।”

उन्होंने आगे बताया कि कई बार लोगों ने उन्हें कपड़े के चलते जज करने की कोशिश की। अगर आप शॉर्ट स्कर्ट पहनती हैं और ऑन स्क्रीन चुम्बन लेती हैं तो आपको चरित्रहीन माना जाता है। ऐसा कई बार मेरे साथ हुआ। जब स्टार्स के साथ वास्तविक जीवन में इंटीमेट नहीं होने के कारण मुझे कई प्रोजेक्ट्स खोने पड़े थे।

एक्ट्रेस बनने के लिए घर से भागना पड़ा

मूलरूप से हरियाणा की रहने वाली एक्ट्रेस ने बताया कि वह शुरू से एक्टिंग में अपना कैरियर बनाना चाहती थीं। लेकिन उनके माता-पिता इसको लेकर राजी नहीं थे। स्वामी विवेकानंद के बारे में पढ़ने के बाद उनमें हिम्मत आई। मल्लिका ने कहा, “मुझे लगा कि मैं तो घर से भागकर एक्ट्रेस बन जाऊँगी औऱ मैं भाग गई। जाट थी इसलिए जिद्दीपना मेरे अंदर था। हरियाणा में परिवार के लोग अपने बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर और टीचर बनाना ज्यादा पसंद करते हैं, लेकिन एक्टर नहीं। मैं मानती हूँ कि व्यक्ति को अपने सपने पूरे करने चाहिए, क्योंकि अगर आप खुश रहेंगे तो आप सभी को खुश रख पाएँगे। मुबई आने के बाद मेरे परिवार को लगता था उनका नाम न खराब हो इसलिए मैंने अपना नाम हिमा लांबा से बदलकर अपनी माँ के नाम शेरावत से ‘मल्लिका शेरावत’ रख लिया।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe