Sunday, October 17, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनपैगंबर की फिल्म से भावनाएँ होंगी आहत, YouTube, फेसबुक, Instagram सब जगह करो बैन:...

पैगंबर की फिल्म से भावनाएँ होंगी आहत, YouTube, फेसबुक, Instagram सब जगह करो बैन: महाराष्ट्र सरकार

महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री को पत्र लिखकर कहा है कि उनके पास फिल्‍म के खिलाफ सूफी सुन्नी संगठन रज़ा एकेडमी की तरफ से शिकायत आई है। शिकायतकर्ता की तरफ से कहा गया है कि इस फिल्‍म की वजह से कानून व्यवस्था खराब हो सकती है। ऐसे में, उन डिजिटल प्लेटफॉर्म्स से इसे सस्‍पेंड करने के.........

इस्लाम धर्म के पैगंबर हजरत मुहम्मद के जीवन पर आधारित ईरानी फिल्म ‘मुहम्मद दी मेसेंजर ऑफ गॉड’ (Muhammad: The Messenger of God) पर प्रतिबंध लगाने को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा है।

महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री को पत्र लिखकर कहा है कि उनके पास फिल्‍म के खिलाफ सूफी सुन्नी संगठन रज़ा एकेडमी (Raza Academy) की तरफ से शिकायत आई है।

फ़िल्म पर बैन की माँग को लेकर महाराष्ट्र सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा है।

दरअसल, सूफी सुन्नी संगठन रज़ा एकेडमी ने इस सबंध में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद ही महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कैबिनेट मंत्री सूचना और प्रौद्योगिकी को पत्र लिख इस फिल्म को बैन करने के साथ ही यूट्यूब सहित फेसबुक, इन्स्टाग्राम जैसे सभी डिजिटल प्लैटफ़ार्म पर इसे बैन करने और इसका यूआरएल ब्लॉक करने के लिए पत्र लिखा है।

शिकायतकर्ता की तरफ से कहा गया है कि इस फिल्‍म की वजह से कानून व्यवस्था खराब हो सकती है। ऐसे में, उन डिजिटल प्लेटफॉर्म्स से इसे सस्‍पेंड करने के लिए कहा गया है जिन पर यह फिल्‍म आगामी 21 जुलाई को रिलीज होनी है। माजिद मजीदी कि इस फिल्म यानी, ‘मुहम्मद: द मैसेंजर ऑफ गॉड’ में एआर रहमान ने संगीत दिया है।

इसके साथ ही पत्र में अपील की गई है कि यूट्यूब, फेसबुक जैसे सभी प्‍लैटफॉर्म्‍स को इसे लेकर निर्देश जारी किए जाएँ। शिकायतकर्ता ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि यह फिल्‍म धार्मिक भावनाओं को आहत करेगी और इससे सामाजिक विद्वेष फैल सकता है।

गौरतलब है कि इस फिल्म को लेकर देशभर के मुस्लिमों में नाराजगी देखी गई है। दरअसल, फिल्म में पैगंबर हजरत मुहम्मद के किरदार को फिल्माया गया है। जबकि, इस्लाम में पैगंबर हजरत मुहम्मद के किसी भी तरह के चित्र बनाने की इजाजत नहीं है।

यह फिल्‍म छठी सेंचुरी पर आधारित है और इसकी कहानी पैगंबर मुहम्मद के बचपन के इर्द-गिर्द घूमती है। बताया जा रहा है कि ईरानी सिनेमा की यह अब तक की सबसे बड़े बजट की फिल्‍म है। फिल्‍म का डायरेक्‍शन माजिद मजीदी ने किया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe