Saturday, May 18, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'हिंदू संस्कृति का मजाक बनाकर रख दिया': आदिपुरुष रिलीज होते ही दिल्ली HC में...

‘हिंदू संस्कृति का मजाक बनाकर रख दिया’: आदिपुरुष रिलीज होते ही दिल्ली HC में PIL दायर, हिंदू सेना ने ‘आपत्तिजनक दृश्यों’ को हटाने की उठाई माँग

रावण को ब्राह्मण बताते हुए याचिका में कहा गया है, "फिल्म में सैफ अली खान द्वारा निभाए गए रावण के किरदार का दाढ़ी वाला लुक हिंदू समुदाय की भावनाओं को आहत कर रहा है, क्योंकि ब्राह्मण रावण को गलत तरीके से भयानक चेहरा बनाते हुए दिखाया गया है, जो हिंदू सभ्यता, हिंदू धार्मिक हस्तियों एवं आदर्शों का घोर अपमान है।"

रामायण पर आधारित प्रभास और कृति सैनन अभिनीत फिल्म आदिपुरुष (Adipurush) विवादों में घिर गई है। फिल्म के स्तरहीन संवाद और सिनेमोटोग्राफी को लेकर दर्शक नाराज है। इसको लेकर हिंदू सेना फिल्म के खिलाफ एक जनहित याचिका (PIL) दायर की है। इस याचिका में भगवान राम, माता सीता, भगवान हनुमान आदि की छवि से छेड़छाड़ का आरोप लगाया गया है।

हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi High Court) में याचिका दायर कर ओम राउत की फिल्म आदिपुरुष से रावण, भगवान राम, हनुमान, माता सीता से संबंधित कुछ ‘आपत्तिजनक दृश्यों’ को हटाने की माँग की है। बता दें कि आदिपुरुष शुक्रवार (16 जून 2023) को देश भर के सिनेमाघरों में रिलीज हुई है।

विष्णु गुप्त द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि फिल्म में धार्मिक चरित्रों का फिल्मांकन रामायण में किए गए चित्रण के विपरीत हैं। फिल्म के दृश्यों में हिंदू सभ्यता, हिंदू धार्मिक शख्सियतों और मूर्तियों का अपमान करते हुए धार्मिक चरित्रों को खराब स्वाद में दिखाया गया है।

याचिका में कहा गया है, “हिंदुओं का भगवान राम, सीता और हनुमान की छवि के बारे में एक विशेष दृष्टिकोण है और फिल्म निर्माताओं, निर्देशकों और अभिनेताओं द्वारा उनकी दिव्य छवि में किया गया बदलाव/छेड़छाड़ उनके मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है।” याचिकाकर्ता का कहना है कि इस फिल्म की वजह से देश की संस्कृति का मजाक बन रहा है।

आगे कहा गया है, “महाकाव्यों में बनाई गई छवि के अनुसार हेयर स्टाइल, दाढ़ी और ड्रेसिंग को अच्छी तरह से परिभाषित किया गया है। फिल्म निर्माताओं, निर्देशकों और अभिनेताओं द्वारा कोई भी बदलाव निश्चित रूप से उपासकों, भक्तों और धार्मिक विश्वासियों की भावनाओं को ठेस पहुँचाएगा।”

रावण को ब्राह्मण बताते हुए कहा गया है, “फिल्म में सैफ अली खान द्वारा निभाए गए रावण के किरदार का दाढ़ी वाला लुक हिंदू समुदाय की भावनाओं को आहत कर रहा है, क्योंकि ब्राह्मण रावण को गलत तरीके से भयानक चेहरा बनाते हुए दिखाया गया है, जो हिंदू सभ्यता, हिंदू धार्मिक हस्तियों एवं आदर्शों का घोर अपमान है।”

याचिकाकर्ता ने कहा है कि फिल्म निर्माताओं और निर्देशकों से फिल्म में ‘सुधारात्मक उपाय’ करने की माँग की गई है। इसमें कहा गया है, “आदिपुरुष फिल्म द्वारा हिंदू धार्मिक शख्सियतों का विकृत सार्वजनिक प्रदर्शन अंतरात्मा और अभ्यास की स्वतंत्रता का स्पष्ट उल्लंघन है। यह अनुच्छेद 26 के तहत धार्मिक मामलों के प्रबंधन की स्वतंत्रता का भी उल्लंघन है।”

पिछले साल फिल्म का टीजर रिलीज होने के बाद आदिपुरुष को काफी आलोचना झेलनी पड़ी थी। हिंदू संगठनों, अयोध्या के राम मंदिर के पुजारी ने महाकाव्य के पात्रों के चित्रण पर आपत्ति जताई थी। फिल्म के निर्माताओं ने आश्वासन दिया कि किसी भी धार्मिक भावना को आहत नहीं किया जाएगा।

बाता दें कि फिल्म ‘आदिपुरुष’ में प्रभास ने भगवान राम, सनी सिंह ने लक्ष्मण, कृति सेनन ने माता सीता का रोल निभाया है। वहीं, सैफ अली खान ने रावण और दवदत्त नागे ने हनुमान जी की भूमिका निभाई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -