Wednesday, August 4, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनअपहरण, यौन हिंसा, जबरन इस्लामीकरण: डॉक्यूमेंट्री 'स्टेटलेस' दिखाती है, पाकिस्तान में हिन्दुओं का भयावह...

अपहरण, यौन हिंसा, जबरन इस्लामीकरण: डॉक्यूमेंट्री ‘स्टेटलेस’ दिखाती है, पाकिस्तान में हिन्दुओं का भयावह जीवन

अभिनेता अनुपम खेर 11 जुलाई 2021 को ‘Stateless: Story of India’s returning children’ नामक डॉक्यूमेंट्री जारी करेंगे। इसमें इस बात को दर्शाया जाएगा कि इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ पाकिस्तान में एक हिंदू का जीवन कैसा होता है।

अभिनेता अनुपम खेर 11 जुलाई 2021 को ‘Stateless: Story of India’s returning children’ नामक डॉक्यूमेंट्री जारी करेंगे। इसमें इस बात को दर्शाया जाएगा कि इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ पाकिस्तान में एक हिंदू का जीवन कैसा होता है।

दिसंबर 2019 में, भारत सरकार ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) पारित किया, जो पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान तीन पड़ोसी इस्लामिक देशों में सताए गए धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए भारतीय नागरिकता की प्रक्रिया को तेज करता है। ये सताए गए धार्मिक अल्पसंख्यक हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, बौद्ध और पारसी हैं, जिन्हें इन तीन इस्लामी देशों में केवल उनके धर्म के कारण निशाना बनाया जा रहा है। इस उत्पीड़न में जबरन धर्म परिवर्तन, बलात्कार, घरों को नष्ट करना, हत्या और अन्य प्रकार की हिंसा शामिल है, लेकिन यह यहीं तक सीमित नहीं है।

ये सताए हुए लोग अक्सर ऐसी जगह शरण लेने के लिए भारत भाग गए हैं जहाँ गैर-इस्लामिक धर्मों के सभी लोग खुद का घर कह सकते हैं। हालाँकि, उनकी कहानियों को या तो बताया नहीं जाता है या विरोध प्रदर्शनों से दबा दिया जाता है। अधिनियम पारित होने के तुरंत बाद, लाखों मुसलमानों ने नए संशोधित कानून के विरोध में सड़क पर उतर आए। उनका सवाल था कि मुस्लिम राष्ट्रों के मुसलमानों को अलग क्यों किया गया। इन देशों के मुसलमान जो भारतीय नागरिकता चाहते हैं, सामान्य प्रावधान के अनुसार ऐसा कर सकते हैं। लेकिन यह अधिनियम विशेष रूप से इन तीन देशों के सताए गए धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए था।

यही कारण है कि फिल्म निर्माता निखिल सिंह राजपूत ने मानवेंद्र सिंह शेखावत के साथ मिलकर दुनिया को उन कहानियों को बताया जो अभी तक नहीं बताई गई हैं। इसी का ऑनलाइन प्रीमियर 11 जुलाई, 2021 को अनुपम खेर के साथ indicdialogue.org की पहल के तहत मुख्य अतिथि के रूप में होगा। आप यहाँ स्क्रीनिंग और बाद की चर्चा के लिए पंजीकरण कर सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राणा अयूब बनीं ट्रोलिंग टूल, कश्मीर पर प्रोपेगेंडा चलाने के लिए आ रहीं पाकिस्तान के काम: जानें क्या है मामला

पाकिस्तान के सूचना मंत्रालय से जुड़े लोग ऑन टीवी राणा अयूब की तारीफ करते हैं। वह उन्हें मोदी सरकार का पर्दाफाश करने वाली ;मुस्लिम पत्रकार' के तौर पर जानते हैं।

राहुल गाँधी ने POCSO एक्ट का किया उल्लंघन, NCPCR ने ट्वीट हटाने के दिए निर्देश: दिल्ली की पीड़िता के माता-पिता की फोटो शेयर की...

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने राहुल गाँधी के ट्वीट पर संज्ञान लिया है और ट्विटर से इसके खिलाफ कार्रवाई करने की माँग की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,975FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe