Tuesday, September 28, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजन'...तो बिना कपड़ों के जाती': उर्फी जावेद ने ब्रा दिखाने का किया बचाव, कभी...

‘…तो बिना कपड़ों के जाती’: उर्फी जावेद ने ब्रा दिखाने का किया बचाव, कभी कहा था – ‘लोग समझते थे पोर्न स्टार’

उर्फी जावेद ने बताया कि अडल्ट साइट पर उनकी तस्वीरें अपलोड होने के बाद उन्हें परिवार का कोई सपोर्ट नहीं मिला था। इसकी वजह से रिश्तेदार उन्हें पोर्न स्टार समझने लगे थे।

बिग बॉस ओटीटी की एक्स कंटेस्टेंट उर्फी जावेद को हाल ही में मुंबई एयरपोर्ट पर ब्रा फ्लॉन्ट करने पर जमकर ट्रोल किया गया। नेटिजन्स ने उर्फी के फैशन सेंस और स्टाइल पर सवाल उठाते हुए इसे पब्लिसिटी स्टंट बताया था। इसको लेकर अब उर्फी ने अपनी सफाई दी है।

टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में उर्फी ने कहा, ”अगर मुझे पब्लिसिटी ही चाहिए होती तो मैं एयरपोर्ट पर बिना कपड़ों के जाती।” साथ ही उन्होंने इस बात पर भी नाराजगी जताई कि लोग उनके बारे में बात करने की बजाए उनके आउटफिट्स के बारे में ही बात करते हैं।

वे कहती हैं कि मेरे कपड़ों से ज्यादा मैं महत्व रखती हूँ, आखिर क्यों लोग मेरे बारे में बात नहीं करते। मैंने देखा है कि मैं कुछ भी पोस्ट करूँ लोग उस पर कुछ ना कुछ जरूर कहेंगे। चाहे मैं बिकिनी पहनूँ या सलवार सूट, लोग घटिया कमेंट्स करते ही हैं।

सोशल मीडिया पर खासा एक्टिव रहने वाली उर्फी ने इंस्टाग्राम पर अपनी एयरपोर्ट वाली फोटो शेयर की है। इसमें उर्फी की जैकेट फ्रंट से इतनी छोटी थी कि उनकी ब्रा फ्लॉन्ट हो रही थी। इसको लेकर ट्रोलर्स ने सोशल मीडिया पर उनका काफी मजाक भी उड़ाया था।

गौरतलब है कि अगस्त में ‘बिग बॉस’ के घर से बाहर आने के बाद टीवी एक्ट्रेस ने अपनी निजी जिंदगी से जुड़े कई राज खोले थे। उर्फी ने बताया कि अडल्ट साइट पर उनकी तस्वीरें अपलोड होने के बाद उन्हें परिवार का कोई सपोर्ट नहीं मिला था। इसकी वजह से रिश्तेदार उन्हें पोर्न स्टार समझने लगे थे।

एक्ट्रेस ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनके अब्बू ने उन्हें ‘मानसिक और शारीरिक रूप से’ प्रताड़ित किया था। उनके रिश्तेदार उनका बैंक अकाउंट चे​क करना चाहते थे। हिंदुस्तान टाईम्स के मुताबिक, सिद्धार्थ कनन को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि उस वक्त मैं 11वीं क्लास में पढ़ती थी। उस दौरान मैं बहुत ही मुश्किल दौर से गुजरी थी, क्योंकि मुझे मेरे परिवार का सपोर्ट नहीं मिला था। वे मुझे ही दोष दे रहे थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,823FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe