Saturday, November 28, 2020
Home विविध विषय भारत की बात मोढेरा सूर्य मंदिर, PM मोदी ने शेयर की जिसकी वीडियो: प्रतिमा पर सबसे पहले...

मोढेरा सूर्य मंदिर, PM मोदी ने शेयर की जिसकी वीडियो: प्रतिमा पर सबसे पहले पड़ती थी सूर्य की किरणें, गजनी-खिलजी ने किया था खंडित

इसे ओडिशा के कोणार्क में स्थित सूर्य मंदिर से भी पहले बनाया गया था। लेकिन कई ऐसी चीजें थीं, जिसे महमूद गजनी के आक्रमण ने नष्ट कर दिया था - भगवान सूर्य की प्रतिमा भी! इन सबके बावजूद दीवारों पर बनीं भगवान सूर्य के 12 महीने के 12 स्वरूपों की कलाकृतियाँ...

भारत के मंदिर शिल्पकला का एक बेहतरीन उदाहरण पेश करते हैं, जिनकी चर्चा पूरी दुनिया में होती है। लेकिन, हमारे अपने ही देश में उन्हें वो सम्मान नहीं दिया जाता, जिनके वो अधिकारी हैं। जहाँ दक्षिण भारत के मंदिरों की चर्चा अक्सर होती आ रही है, शेष भारत में भी ऐसे-ऐसे मंदिर हैं, जो शिल्पकला का उत्कृष्ट नमूना पेश करते हैं। उन्हें में से एक है, गुजरात के पाटन से 30 किलोमीटर दक्षिण में स्थित मोढेरा सूर्य मंदिर।

गुजरात के मोढेरा सूर्य मंदिर का भूगोल

यही वो मंदिर है, जिसका वीडियो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार (अगस्त 26, 2020) को शेयर किया। उन्होंने ट्विटर पर इसका वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि मोढेरा का प्रतिष्ठित सूर्य मंदिर बारिश के दिनों में शानदार दिखता है, एक नजर डालिए। इसके बाद से ही इसे लेकर चर्चा शुरू हो गई। यहाँ हम आपको बताते हैं कि इस मंदिर का इतिहास क्या है और ये कहाँ स्थित है। साथ ही इसके शिल्पकला के बारे में भी।

‘गुजरात टूरिज्म’ की वेबसाइट के अनुसार, कोई भी व्यक्ति जब गुजरात की लम्बाई-चौड़ाई को मापने निकलता है तो उसका सामना सोलंकी वंश द्वारा बनवाई गई भव्य संरचनाओं से होता है, जो शिल्पकला की लिगेसी का बेहतरीन नमूना पेश करते हैं। उन स्मारकों को देख कर लोग मुग्ध हो जाते हैं। मेहसाणा से बहुचारजी देवी मंदिर की ओर जब आप बढ़ते हैं तो 35 किलोमीटर जाने पर मोढेरा गाँव से आपका सामना होता है।

गुजरात स्थित मोढेरा का सूर्य मंदिर (फोटो साभार: गुजरात टूरिज्म)

ये ऐसा क्षेत्र है, जो पुष्पवती नदी के किनारे बसा हुआ है और चारों तरफ से बगीचों से घिरा हुआ है। वैदिक देवी-देवताओं के दृश्य आपको भावविह्वल कर देंगे। बता दें कि ये मंदिर भी सोलंकी वंश के शासनकाल में बना था, जिसे राज्य का स्वर्ण युग कहा जाता है। मंदिर परिसर में दीवारों पर उकेरी गई कलाकृतियाँ और अंदर स्थित कुंड आपको किसी अलग ही दुनिया में ले जाते हैं। शायद इसीलिए पीएम मोदी भी इसे शेयर करने से खुद को रोक नहीं पाए।

कैसी हैं यहाँ की कलाकृतियाँ?

पूरे मंदिर को बनाने में हजारों कारीगर लगे थे। कई ऐसी चीजें थीं, जिसे महमूद गजनी के आक्रमण ने नष्ट कर दिया था। आप ये जान कर चौंक जाएँगे कि इसे ओडिशा के कोणार्क में स्थित सूर्य मंदिर से भी पहले बनाया गया था, जो काफी चर्चित है। पूरे मंदिर को कमल के फूल के आकर के पिलर के ऊपर बनाया गया है। इसके हर एक भाग पर आपको महीन और बारीकी से की हुई कलाकृतियाँ मिलेंगी।

पूरे मंदिर को तीन भागों में विभाजित किया गया है। मंदिर के सामने ही सूर्य कुंड (या राम कुंड) स्थित है। इसका इस्तेमाल प्राचीन काल में शुद्ध जल को जमा करने में किया जाता था। हालाँकि, आजकल तो इसमें बारिश का पानी ही जमा हो जाता है लेकिन पहले के जमाने में इसमें अंडरग्राउंड स्प्रिंग लगा हुआ था, ऐसा बताया जाता है। इन सबके अलावा एक सभा मंडल है, जहाँ पहले लोग जमा होते थे और श्रद्धालु जुटते थे।

सभा मंडप में लोगों के बैठने और आराम करने की भी व्यवस्था की गई थी। इसके बाद कई स्तम्भों को पार कर के आप प्रमुख मंडप के पास पहुँचेंगे, जो और भी भव्य हैं। यहीं पर भगवान सूर्य की प्रतिमा स्थित थी, जिसे महमूद गजनी ने खंडित कर दिया और तोड़ डाला। इन सबके बावजूद दीवारों पर बनीं भगवान सूर्य के 12 महीने के 12 स्वरूपों की कलाकृतियाँ आपको मुग्ध कर देने के लिए काफी है।

इसे आप मृत्यु से मोक्ष की यात्रा के रूप में समझ सकते हैं, जैसा कि प्राचीन काल में माना जाता था। कुंड से गुडा मंडप तक की यात्रा को इसी रूप में देखा जाता रहा है। इसे चालुक्य या सोलंकी वंश के भीमदेव प्रथम (भीम-1) के राज में बनवाया गया था। 11वीं शताब्दी के प्रारम्भ में बने इस मंदिर की चर्चा स्कन्द पुराण और ब्रह्म पुराण में भी है। कहा जाता है कि भगवान श्रीराम यहाँ आए थे। इस क्षेत्र को पहले धर्मारण्य के रूप में भी जाना जाता था, अर्थात- धर्म का वन।

आजकल इस मंदिर को ASI ने अपने नियंत्रण में रखा हुआ है, जो इसके जीर्णोद्धार और देखरेख के काम में लगी हुई है। 2014 में तो यूनेस्को ने भी इसे वर्ल्ड हेरिटेज की कैटेगरी में डाला था। अब बात विज्ञान की। साल में दो बार ऐसा होता है, जब पृथ्वी की भूमध्य रेखा से सूर्य के केंद्र का आमना-सामना होता है। इसे Equinox कहते हैं। 20 मार्च और 23 सितम्बर के आसपास हर साल यह होता है।

गुजरात: मोढेरा के सूर्य मंदिर के स्तम्भों पर कलाकृतियाँ

सीधे शब्दों में कहें तो यही वो मौका होता है जब सूर्य का केंद्र सीधा भूमध्य रेखा के ऊपर होता है। अब आप सोच रहे होंगे कि ये तो आजकल की बातें हैं, इसका गुजरात के मोढेरा सूर्य मंदिर से क्या लेना-देना? दरअसल, ऐसा नहीं है। जब Equinox के दिन सूर्योदय होता था तो सूर्य की किरणें सबसे पहले यहाँ सूर्य की प्रतिमा के सिर पर स्थित हीरे के ऊपर पड़ती थी। इसके बाद पूरा मंदिर स्वर्ण प्रकाश से नहा जाता था। ‘इनक्रेडिबल इंडिया’ की वेबसाइट के अनुसार:

“सूर्य भगवान को समर्पित यह मंदिर मोढेरा गांव में है, जो गुजरात के अहमदाबाद शहर से 101 किलोमीटर दूर पुष्पावती नदी के किनारे पर स्थित है। वर्तमान में इस मंदिर में पूजा-अर्चना नहीं होती। इसका संरक्षण भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधीन है तथा यह यूनेस्को विश्व विरासत धरोहर की सूची में शामिल है। इस मंदिर का निर्माण शिल्प एवं वास्तुशास्त्र के सिद्धांतों को ध्यान में रखकर किया गया था, जो वास्तुकला व बनावट का प्राचीन विज्ञान है। संपूर्ण मंदिर देखने में ऐसा लगता है मानो जल में कमल खिल रहा हो। इसका मुख्य परिसर तीन भागों में विभाजित है। मंदिर का प्रवेशद्वार जो सभा मंडप कहलाता है, अंतराल जो गलियार है तथा गर्भगृह इसका पवित्र स्थल है। मंदिर परिसर एवं मूर्तियों से सुसज्जित जलकुंड सोलंकी राजाओं के काल में बने भवनों के उत्कृष्ट उदाहरण हैं।”

इतना ही नहीं, मंदिर का निर्माण इस तरीके से हुआ था कि सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक सूर्य कहीं भी हो, गर्भगृह के पास स्थित दो स्तम्भ हमेशा उसके प्रकाश से नहाए रहते थे। ये था हमारे पूर्वजों का विज्ञान, जिसकी आज हम सिर्फ कल्पना ही कर सकते हैं। सभा मंडप में जो 52 स्तम्भ हैं, वो साल के 52 सप्ताह की ओर इशारा करते हैं। सूर्य के साथ वायु, जल, पृथ्वी और अंतरिक्ष को दर्शाई गई कलाकृतियाँ आज भी मौजूद है।

मंदिर का इतिहास: गजनी व खिलजी ने कर दिया था खंडित

सोमनाथ मंदिर पर महमूद गजनी के हमले को लेकर तो काफी कुछ लिखा जा चुका है लेकिन मोढेरा में उसके हमले और मंदिर को तहस-नहस किए जाने को लेकर बहुत कम वर्णन मिलता है। सोलंकी सूर्यवंशी राजा थे और सूर्य की पूजा वो अपने कुलदेवता के रूप में करते थे। यही कारण था कि सूर्य को लेकर उनकी श्रद्धा अगाध थी। इस मंदिर पर अल्लाउद्दीन खिलजी ने भी हमला किया था।

मान्यता है कि रावण वध के पश्चात भगवान श्रीराम ने खुद को ब्रह्महत्या का दोषी माना था और उन्होंने ऋषि-मुनियों से इसके प्रायश्चित का विधान पूछा था। इसी दौरान उन्होंने गुरु वशिष्ठ से आत्मशुद्धि के लिए एक ऐसा स्थल बताने को कहा जो उपयुक्त हो। गुरु वशिष्ठ ने श्रीराम को यहीं आने की सलाह दी थी, जिसके बाद ये स्थल रामायण से भी जुड़ गया। मंदिर को इस्लामी आक्रांताओं द्वारा खंडित किए जाने के कारण यहाँ पूजा नहीं होती।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बंगाल में हम बहुसंख्यक, क्योंकि आदिवासी और दलित हिन्दू नहीं होते’: मौलाना अब्बास सिद्दीकी और ओवैसी साथ लड़ेंगे चुनाव

बड़ी मुस्लिम जनसंख्या वाले जिलों मुर्शिदाबाद (67%), मालदा (52%) और नॉर्थ दिनाजपुर में असदुद्दीन ओवैसी को बड़ा समर्थन मिल रहा है।

‘हमारी माँगटीका में चमक रही हैं स्वरा भास्कर’: यूजर्स बोले- आम्रपाली ज्वेलर्स से अब कभी कुछ नहीं खरीदेंगे

स्वरा भास्कर को ब्रांड एम्बेसडर बनाने के बाद आम्रपाली ज्वेलर्स को सोशल मीडिया में यूजर्स का कड़ा विरोध झेलना पड़ा है।

कोरोना संक्रमण पर लगातार चेताते रहे, लेकिन दिल्ली सरकार ने कदम नहीं उठाए: सुप्रीम कोर्ट से केंद्र

दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने बताया है कि रोकथाम के लिए केजरीवाल सरकार ने प्रभावी कदम नहीं उठाए।

क्या घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को RAW में बहाल करने जा रही है भारत सरकार?

एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को रॉ में बहाल करने जा रही है। जानिए, क्या है इस दावे की सच्चाई?

‘नॉटी, दो टके के लोग’: कंगना पर फट पड़ीं मुंबई की मेयर, ऑफिस तोड़ने पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाई थी फटकार

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कंगना रनौत के लिए 'नॉटी' का इस्तेमाल किया है। शिवसेना सांसद संजय राउत के लिए इस शब्द का अर्थ 'हरामखोर' है।

जहाँ ममता बनर्जी ने खोदी थी वामपंथ की कब्र, वहीं उनकी सियासत को दफनाने की तैयारी में शुभेंदु अधिकारी

सिंगूर और नंदीग्राम के आंदोलन से ममता बनर्जी को सत्ता मिली। अब नंदीग्राम के शुभेंदु अधिकारी के बागी तेवरों ने उन्हें मुश्किल में डाल दिया है।

प्रचलित ख़बरें

मैं नपुंसक नहीं.. हिंदुत्व का मतलब पूजा-पाठ या मंदिर का घंटा बजाना नहीं, फ़ोर्स किया तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊँगा: उद्धव ठाकरे

साक्षत्कार में उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें विरोधियों के पीछे पड़ने को मजबूर ना किया जाए। इसके साथ ही ठाकरे ने कहा कि हिंदुत्व का मतलब मंदिर का घंटा बजाना नहीं है।

‘उसे मत मारो, वही तो सबूत है’: हिंदुओं संजय गोविलकर का एहसान मानो वरना 26/11 तुम्हारे सिर डाला जाता

जब कसाब ने तुकाराम को गोलियों से छलनी कर दिया तो साथी पुलिसकर्मी आवेश में आ गए। वे कसाब को मार गिराना चाहते थे। लेकिन, इंस्पेक्टर गोविलकर ने ऐसा नहीं करने की सलाह दी। यदि गोविलकर ने उस दिन ऐसा नहीं किया होता तो दुनिया कसाब को समीर चौधरी के नाम से जानती।

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

ये कौन से किसान हैं जो कह रहे ‘इंदिरा को ठोका, मोदी को भी ठोक देंगे’, मिले खालिस्तानी समर्थन के प्रमाण

मीटिंग 3 दिसंबर को तय की गई है और हम तब तक यहीं पर रहने वाले हैं। अगर उस मीटिंग में कुछ हल नहीं निकला तो बैरिकेड तो क्या हम तो इनको (शासन प्रशासन) ऐसे ही मिटा देंगे।

दिल्ली के बेगमपुर में शिवशक्ति मंदिर में दर्जनों मूर्तियों का सिर कलम, लोगों ने कहते सुना- ‘सिर काट दिया, सिर काट दिया’

"शिव शक्ति मंदिर में लगभग दर्जन भर देवी-देवताओं का सर कलम करने वाले विधर्मी दुष्ट का दूसरे दिन भी कोई अता-पता नहीं। हिंदुओं की सहिष्णुता की कृपया और परीक्षा ना लें।”

’26/11 RSS की साजिश’: जानें कैसे कॉन्ग्रेस के चहेते पत्रकार ने PAK को क्लिन चिट देकर हमले का आरोप मढ़ा था भारतीय सेना पर

साल 2007 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अजीज़ को उसके उर्दू भाषा अखबार रोजनामा राष्ट्रीय सहारा के लिए उत्कृष्ट अवार्ड दिया था। कॉन्ग्रेस में अजीज़ को सेकुलरिज्म का चमचमाता प्रतीक माना जाता था।

‘बंगाल में हम बहुसंख्यक, क्योंकि आदिवासी और दलित हिन्दू नहीं होते’: मौलाना अब्बास सिद्दीकी और ओवैसी साथ लड़ेंगे चुनाव

बड़ी मुस्लिम जनसंख्या वाले जिलों मुर्शिदाबाद (67%), मालदा (52%) और नॉर्थ दिनाजपुर में असदुद्दीन ओवैसी को बड़ा समर्थन मिल रहा है।

‘हमारी माँगटीका में चमक रही हैं स्वरा भास्कर’: यूजर्स बोले- आम्रपाली ज्वेलर्स से अब कभी कुछ नहीं खरीदेंगे

स्वरा भास्कर को ब्रांड एम्बेसडर बनाने के बाद आम्रपाली ज्वेलर्स को सोशल मीडिया में यूजर्स का कड़ा विरोध झेलना पड़ा है।

उमेश बन सलमान ने मंदिर में रचाई शादी, अब धर्मांतरण के लिए कर रहा प्रताड़ित: पीड़िता ने बताया- कमलनाथ राज में नहीं हुई कार्रवाई

सलमान पिछले कई हफ़्तों से उसे धर्म परिवर्तन करने के लिए न सिर्फ प्रताड़ित कर रहा है, बल्कि उसने बच्चे को भी जान से मार डालने की कोशिश की।

कोरोना संक्रमण पर लगातार चेताते रहे, लेकिन दिल्ली सरकार ने कदम नहीं उठाए: सुप्रीम कोर्ट से केंद्र

दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने बताया है कि रोकथाम के लिए केजरीवाल सरकार ने प्रभावी कदम नहीं उठाए।

क्या घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को RAW में बहाल करने जा रही है भारत सरकार?

एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को रॉ में बहाल करने जा रही है। जानिए, क्या है इस दावे की सच्चाई?

‘नॉटी, दो टके के लोग’: कंगना पर फट पड़ीं मुंबई की मेयर, ऑफिस तोड़ने पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाई थी फटकार

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कंगना रनौत के लिए 'नॉटी' का इस्तेमाल किया है। शिवसेना सांसद संजय राउत के लिए इस शब्द का अर्थ 'हरामखोर' है।

गाजीपुर में सड़क पर पड़े मिले गायों के कटे सिर: लोगों का आरोप- पहले डेयरी फार्म से गायब होती हैं गायें, फिर काट कर...

गाजीपुर की सड़कों पर गायों के कटे हुए सिर मिलने के बाद स्थानीय लोग काफी गुस्से में हैं। उन्होंने पुलिस पर मिलीभगत का आरोप लगाया है।

बंगाल: ममता के MLA मिहिर गोस्वामी बीजेपी में शामिल, शनिवार को शुभेंदु अधिकारी के आने की अटकलें

TMC के असंतुष्ट विधायक मिहिर गोस्वामी बीजेपी में शामिल हो गए हैं। शुभेंदु अधिकारी के भी शनिवार को बीजेपी में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही है।

जहाँ ममता बनर्जी ने खोदी थी वामपंथ की कब्र, वहीं उनकी सियासत को दफनाने की तैयारी में शुभेंदु अधिकारी

सिंगूर और नंदीग्राम के आंदोलन से ममता बनर्जी को सत्ता मिली। अब नंदीग्राम के शुभेंदु अधिकारी के बागी तेवरों ने उन्हें मुश्किल में डाल दिया है।

गरीब कल्याण रोजगार अभियान: प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने में UP की योगी सरकार सबसे आगे

प्रवासी श्रमिकों को काम मुहैया कराने के लिए केंद्र सरकार ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान शुरू किया था। उत्तर प्रदेश ने उल्लेखनीय प्रदर्शन किया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,428FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe