Friday, July 1, 2022
Homeविविध विषयअन्य'वरिष्ठ खिलाड़ियों से अच्छा व्यवहार नहीं करते विराट कोहली, कोच सलाह दे तो डाँटते...

‘वरिष्ठ खिलाड़ियों से अच्छा व्यवहार नहीं करते विराट कोहली, कोच सलाह दे तो डाँटते हैं’: BCCI की नाराजगी की वजह

नेट्स पर अभ्यास सत्र के दौरान उन्हें सुझाव देने वाले एक कोच बरस पड़े। उन्होंने वहाँ मौजूद बल्लेबाजों के सामने बेहद आक्रामक होते हुए कोच से कहा, ''मुझे कन्फ्यूज मत करो।''

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के टी-20 की कप्तानी छोड़ने की घोषणा के दो दिन बाद टेलीग्राफ ने अपनी रिपोर्ट में बड़ा खुलासा किया है। रिपोर्ट के अनुसार, ड्रेसिंग रूम में विराट कोहली के व्यवहार से कई सीनियर खिलाड़ी नाराज थे। विराट कोहली काफी लंबे समय से फॉर्म से बाहर चल रहे हैं। 32 वर्षीय खिलाड़ी ने टेस्ट, वनडे और टी20 में 53 पारियाँ खेली, लेकिन एक में भी शतक नहीं जड़ पाए।

टेलीग्राफ ने दावा किया, “बीसीसीआई को ड्रेसिंग रूम के अंदर चल रही गतिविधियों की भनक लग गई थी। अपने खराब फॉर्म के चलते उन्हें (विराट कोहली) यह निर्णय लेना पड़ा, क्योंकि खिलाड़ियों के साथ उनके संबंध प्रभावित हो रहे थे।” सूत्रों का हवाला देते हुए अंग्रेजी समाचार पत्र ने बताया कि एक वरिष्ठ खिलाड़ी ने कोहली के खिलाफ बीसीसीआई सचिव जय शाह से शिकायत की थी कि उनकी वजह से वह असुरक्षित महसूस करते हैं।

कथित तौर पर, विराट कोहली ने उस सीनियर क्रिकेटर पर साउथेम्प्टन में न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल के दौरान ‘no intent’ दिखाने का आरोप लगाया था। सूत्र ने द टेलीग्राफ को आगे बताया, “कोहली अपना आपा खोते जा रहे हैं। उन्होंने अपना सम्मान खो दिया है और कुछ खिलाड़ियों को उनका रवैया पसंद नहीं आ रहा है। वह अब एक बेहतरीन कप्तान नहीं हैं और ना ही खिलाड़ियों के सम्मान के लायक हैं। जब कोहली अपनी हद पार करते हैं, तो उनसे निपटने के लिए कई खिलाड़ी अपनी सीमाएँ लाँघ जाते हैं। कोहली अब लंबी पारी खेलने के लायक नहीं रहे, यह भी एक बड़ा मुद्दा है।”

द टेलीग्राफ के लेख का स्क्रीनशॉट

टेलीग्राफ ने बताया कि विराट कोहली नेट्स पर अभ्यास सत्र के दौरान उन्हें सुझाव देने वाले एक कोच बरस पड़े। उन्होंने वहाँ मौजूद बल्लेबाजों के सामने बेहद आक्रामक होते हुए कोच से कहा, ”मुझे कन्फ्यूज मत करो।” सूत्र ने इस बात पर भी जोर दिया कि विराट कोहली अपने निराशाजनक प्रदर्शन पर काबू पाने में असमर्थ दिखाई दे रहे थे, जिसका असर उनके व्यवहार पर दिखना शुरू हो गया है। बीसीसीआई कोहली पर दबाव कम करने और उन्हें अपनी बल्लेबाजी पर ध्यान केंद्रित करने के लिए पर्याप्त जगह मुहैया कराने पर विचार कर रहा है।

सूत्र ने अंग्रेजी दैनिक को बताया कि टीम के युवा खिलाड़ी रोहित शर्मा को वह अपने ‘बड़े भाई’ के जैसा मानते हैं और उन पर भरोसा करते हैं। हालाँकि, उन्होंने विराट कोहली की कप्तानी को चुनौती दी है। सूत्र ने टेलीग्राफ को आगे बताया, ”विराट जानते हैं कि वह अब शॉट नहीं लगा पा रहे हैं। उनमें पहले जैसा खेलने का जज्बा नहीं रहा। उनके व्यवहार पर सवाल उठाया जाएगा। इसमें कोई शक नहीं कि वह विश्व क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक हैं, लेकिन आप कप्तानी को अपनी बल्लेबाजी पर बोझ नहीं बनने दे सकते।”

बता दें कि 17 अक्टूबर 2021 से यूएई (UAE) में आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप का आगाज होने वाला है। इस टूर्नामेंट के खत्म होते ही भारतीय कप्तान विराट कोहली टी-20 की कप्तानी छोड़ देंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,261FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe