Saturday, January 22, 2022
Homeविविध विषयअन्यजिसने मोदी के लिए माँगी मौत, उसे BookMyShow ने किया प्रमोट, ऐप अनइंस्टॉल कर...

जिसने मोदी के लिए माँगी मौत, उसे BookMyShow ने किया प्रमोट, ऐप अनइंस्टॉल कर यूजर्स जता रहे विरोध

कौर ने एक बार नरेंद्र मोदी का मजाक उड़ाने की कोशिश में कहा था कि महात्मा गाँधी और नरेंद्र मोदी में एक ही समानता हो सकती है यदि कोई मोदी की हत्या कर दे।

प्रधानमंत्री मोदी के लिए मौत की प्रार्थना करने वाली हिन्दूफ़ोबिक चरमपंथी लेफ्टिस्ट ट्रोल को अपने प्लेटफॉर्म पर जगह देने के कारण भारतीय ऑनलाइन टिकट प्लेटफॉर्म ‘बुक माय शो’ के कारण आज एक बड़ा विवाद पैदा हो गया।

रविवार को ऑनलाइन टिकटिंग प्लेटफॉर्म ने चरमपंथी लेफ्टिस्ट ट्रोल हरनिध कौर के इवेंट को प्रोमोट करते हुए एक ट्वीट शेयर किया। हरनिध कौर वही ट्रोल है, जो @pedestrianpoet नामक ट्विटर हैंडिल का प्रयोग करती है।

बुक माय शो ने इस ट्रोल के शो का प्रमोशन करते हुए ट्वीट किया, “वो स्त्री जो भारत की डिजिटल क्रांति को ड्राइव कर रही है, @PedestrianPoet आज अपने इंस्टाग्राम अकाउंट के जरिए प्रत्येक से अनौपचारिक बातचीत करने आ रही है।”

इससे सोशल मीडिया यूजर्स काफी नाराज हुए क्योंकि कौर अपने हिन्दूफोबिक विचारों के लिए बेहद कुख्यात है। वह प्रधानमंत्री के लिए मौत तक की प्रार्थना कर चुकी है।

कौर ने एक बार नरेंद्र मोदी का मजाक उड़ाने की कोशिश में कहा था कि महात्मा गाँधी और नरेंद्र मोदी में एक ही समानता हो सकती है यदि कोई मोदी की हत्या कर दे। यहाँ यह बताना जरूरी है कि कौर शेखर गुप्ता के ‘द प्रिंट’ के लिए लिखती है।

बुक माय शो द्वारा इस हिन्दूफ़ोबिक ट्रोल का प्रोमोशन करने के बाद, सोशल मीडिया यूजर्स ने इस बात को लेकर कड़ा एतराज जताया। लोगों ने आरोप लगाया कि ऑनलाइन टिकटिंग प्लेटफॉर्म लगातार हिन्दूफ़ोबिक तत्वों को अपने यहाँ जगह देता जा रहा है। आज की घटना हुसैन हैदरी जैसे कट्टर इस्लामिस्ट को अपना मंच देने के एक दिन बाद घटित हुई है।

सोशल मीडिया यूजर्स ने ‘बुक माय शो’ से Pedestrianpoet को प्रमोट करने के लिए जिम्मेदारी तय करने की माँग की है। यूजर्स ने एंटी हिन्दू मानसिकता को प्रमोट करने के विरोध स्वरूप ‘बुक माय शो’ के app को अपने मोबाइलों से अनइंस्टॉल करना भी शुरू कर दिया है।

कुछ सोशल मीडिया यूजर्स ने इस ऐप का बहिष्कार करने का एलान करते हुए कहा कि वे अब कभी इसका इस्तेमाल नहीं करेंगे।

हाल में एक ट्रेंड शुरू हुआ है, जिसमें लिबरल सेक्युलर मीडिया हिन्दूफ़ोबिक तत्वों को प्रमोट करती नजर आती है, ऐसा लगता है जैसे ऑनलाइन कॉमर्शियल प्लेटफॉर्म भी हिन्दुओं के प्रति घृणा से भरी इस होड़ में शामिल हो गए हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केस ढोते-ढोते पिता भी चल बसे, माँ रहती हैं बीमार : दिल्ली दंगों में पहली सज़ा दिनेश यादव को, गरीब परिवार ने कहा –...

दिल्ली हिन्दू विरोधी दंगों में दिनेश यादव की गिरफ्तारी के बाद उनके पिता की मौत हो गई थी। पुलिस पर लगा रिश्वत न देने पर फँसाने का आरोप।

‘ईसाई बनने को कहा, मना करने पर टॉयलेट साफ़ करने को मजबूर किया’: तमिलनाडु में 17 साल की लड़की की आत्महत्या, माता-पिता ने बताई...

परिजनों ने आरोप लगाया कि हॉस्टल वॉर्डन द्वारा लावण्या प्रताड़ित किया गया था और मारा-पीटा गया था, क्योंकि उसने ईसाई मजहब में धर्मांतरण से इनकार किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,725FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe