Wednesday, December 1, 2021
Homeविविध विषयअन्य'5 नहीं, ₹1.5 करोड़ की ही है घड़ी': हार्दिक पांड्या की सफाई- खुद देने...

‘5 नहीं, ₹1.5 करोड़ की ही है घड़ी’: हार्दिक पांड्या की सफाई- खुद देने गया था कस्टम, सारे दस्तावेज दूँगा

अपने बयान में हार्दिक ने कहा, "मैं देश के कानून का पालन करने वाला नागरिक हूँ। मैं सभी सरकारी एजेंसियों का सम्मान करता हूँ। मुझे मुंबई कस्टम विभाग से पूरा सहयोग मिला है, मैंने भी उन्हें अपना पूरा सहयोग देने का आश्वासन दिया है।"

क्रिकेटर हार्दिक पांड्या को लेकर कल (15 नवंबर 2021) मीडिया में खबरें आई कि उनकी 2 घड़ियों को इनवॉइस न होने के कारण एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग ने उनको (घड़ियों) जब्त कर लिया है। अब इसी मामले पर हार्दिक पांड्या ने अपनी पूरी सफाई दी है। उन्होंने साफ किया है कि उन्होंने खुद दुबई में खरीदी गई चीजों की घोषणा की थी। साथ ही जो कस्टम ड्यूटी चुकाने की जरूरी थी उसके भुगतान के लिए वो तैयार थे। उन्होंने ये भी बताया कि घड़ी ₹5 करोड़ की नहीं बल्कि ₹1.5 करोड़ की ही है।

हार्दिक पांड्या ने बयान में कहा,

“दुबई से मैं सोमवार की सुबह (15 नवंबर 2021) आया। एयरपोर्ट पर अपना सामान लेने के बाद मैं खुद से कस्टम विभाग के काउंटर पर गया। ऐसा इसलिए किया ताकि मैं खुद के द्वारा लाए गए सामानों से संबंधित सीमा शुल्क का भुगतान कर सकूँ। इस संबंध में मुंबई के एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग के पास मेरे द्वारा घोषित चीजों को लेकर सोशल मीडिया पर गलत धारणाएँ फैलाई जा रही हैं। इस बारे में कुछ चीजों को लेकर मैं स्थिति स्पष्ट करूँगा।

मैंने जो भी चीजें दुबई से खरीदी हैं, उन सभी वस्तुओं की घोषणा खुद से की थी। साथ ही जो भी कस्टम ड्यूटी चुकाने की जरूरत थी, उसका भुगतान करने के लिए भी मैं खुद से ही तैयार था। कस्टम विभाग ने सभी खरीदी गई वस्तुओं का संबंधित दस्तावेज माँगा था, जो मैंने उन्हें दे भी दिया था। इन सब चीजों का कस्टम विभाग उचित मूल्यांकन कर रहा है, और मैंने पहले ही इन सबको लेकर भुगतान करने की बात कह दी थी।

घड़ी की कीमत लगभग 1.5 करोड़ रुपए है। सोशल मीडिया पर 5 करोड़ रुपए वाली चल रही बात एक अफवाह है।

मैं देश के कानून का पालन करने वाला नागरिक हूँ। मैं सभी सरकारी एजेंसियों का सम्मान करता हूँ। मुझे मुंबई कस्टम विभाग से पूरा सहयोग मिला है, मैंने भी उन्हें अपना पूरा सहयोग देने का आश्वासन दिया है। इस मामले पर स्थिति स्पष्ट करने के लिए उन्हें जो भी दस्तावेज चाहिए होंगे, मैं उन्हें खुद दूँगा। कानून को लाँघ कर कुछ गलत करने जैसा जो भी मेरे खिलाफ आरोप हैं, वो सब पूरी तरह से निराधार हैं।”

बता दें कि लग्जरी लाइफ जीने वाले ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने इअगस्त में इंस्टाग्राम पर अपनी कई तस्वीरें एक साथ पोस्ट की थीं। क्रिकेटर ने अपनी कैप और धूप के चश्मे के साथ ली गई तस्वीरों के साथ Patek Philippe Nautilus Platinum 5711 की लग्जरी घड़ी की तस्वीर भी साझा की थी। इस घड़ी में पन्ना मढ़ा हुआ था। घड़ी की कीमत 5 करोड़ रुपए से अधिक बताई जाती है।

GQ India के अनुसार, महँगी घड़ियों के शौकीन पांड्या अपनी बेहद महँगी घड़ियों की कलेक्शन के कारण अभिनेता-कॉमेडियन केविन हार्ट और रैपर ड्रेक जैसी मशहूर हस्तियों के क्लब में शामिल हो गए हैं। यह पहली बार नहीं था, जब ऑलराउंडर का लग्जरी घड़ियों का शौक सबके सामने आया। साल 2019 में जब पांड्या चोटिल हो गए थे और उनकी सर्जरी हुई थी, तब उन्होंने एक चमकदार घड़ी पहने हुए अस्पताल के बिस्तर वाली अपनी तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट की थी। सोशल मीडिया यूजर्स ने उस दौरान दावा किया था कि यह घड़ी Patek Philippe Nautilus की है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe