Monday, May 20, 2024
Homeविविध विषयअन्य17 साल के ग्रैंडमास्टर डी गुकेश ने तोड़ा 40 साल पुराना रिकॉर्ड: चेस में...

17 साल के ग्रैंडमास्टर डी गुकेश ने तोड़ा 40 साल पुराना रिकॉर्ड: चेस में बने सबसे युवा चैलेंजर, इनाम में ₹78.5 लाख, PM मोदी ने भी बधाई दी

अपनी जीत पर बात करते हुए गुकेश ने कहा कि उन्हें दुनिया की परवाह नहीं थी। वह कुछ तनाव भरे क्षणों के बाद अब तनावमुक्त और खुश हैं। उन्होंने कहा कि वो हर किसी का आभार व्यक्त करते हैं, जिन्होंने भी इस सफलता के लिए योगदान दिया।

भारत के डी गुकेश ने मात्र 17 साल की उम्र में कैंडीडेट्स शतरंज टूर्नामेंट जीतकर इतिहास रच दिया। उनकी इस जीत ने 40 वर्ष पुराना गैरी कास्पोरोव का रिकॉर्ड तोड़ा है। उन्होंने 14वें और आखिरी दौर में अमेरिका के हिकारू नाकामुरा से ड्रॉ खेलकर टूर्नामेंट अपने नाम किया और इसी के साथ वो विश्व चैंपियनशिप खिताब के सबसे युवा चैलेंजर बने।

कनाडा के टोरंटो में 3 अप्रैल से 22 अप्रैल 2024 तक चले टूर्नामेंट में गुकेश ने 14 में से 9 प्वाइंट जीतकर चैंपियनशिप पर कब्जा किया। अपनी जीत पर बात करते हुए गुकेश ने कहा कि उन्हें टूर्नामेंट के दौरान दुनिया की परवाह नहीं थी। वह कुछ तनाव भरे क्षणों के बाद अब तनावमुक्त और खुश हैं। उन्होंने कहा कि वो हर किसी का आभार व्यक्त करते हैं, जिन्होंने भी इस सफलता तक उनका साथ दिया।

जानकारी के मुताबिक, इस वर्ष के आखिर तक अब गुकेश विश्व चैंपियन चीन के डिंग लिरेन को चुनौती देंगे। अगर वह उस मैच को भी जीत जाएँगे तो दुनिया के सबसे युवा वर्ल्ड चैंपियन बन जाएँगे। इससे पहले मैगन्स कार्लसेन और गैरी कास्पोरव 22 साल के थे जब उन्होंने विश्व चैंपियनशिप जीती थी। इनका रिकॉर्ड तोड़ने के बाद गुकेश कहते हैं उन्हें देश को रिप्रेजेंट करने का मौका मिला यही उनके लिए बहुत बड़ी चीज है।

गुकेश को इस जीत के बाद 88500 यूरो (78.5 लाख रुपए) इनाम में मिले। इस टूर्नामेंट की कुल ईनामी राशि 5 लाख यूरो थी। इससे पहले इस प्रतिष्ठित चैंपियनशिप को विश्वनाथन आनंद ने जीता था। पाँच बार विश्व चैंपियन रहे आनंद ने 2014 में ये खिताब जीता था।

आनंद ने भी सोशल मीडिया पर गुकेश को बधाई दी है। उन्होंने कहा, “सबसे कम उम्र के चैलेंजर बनने के लिए गुकेश को बधाई। आपने जो किया है उस पर वाका चेस परिवार को बहुत गर्व है। आपने जिस तरह से खेला और कठिन तरीके से संभाला, मुझे निजी तौर पर बहुत गर्व है कि आपने किस तरह खेला और मुश्किल स्थिति को संभाला। इस पल का आनंद उठाएँ।”

इसके अलावा गुकेश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री एमके स्टालिन समेत कई हस्तियों ने बधाई दी है। ऐसे में गुकेश ने कहा है कि वो बधाई संदेश भेजने वालों से अभी बात नहीं कर पाएँ हैं लेकिन जल्द ही वह सबसे बातें करेंगे। उन्होंने बताया कि लगातार जीत के बाद वह काफी खुश थे लेकिन सातवें दौर में अलीरजा से हारने के बाद निराश हो गए थे। हालाँकि उसी मैच से उन्हें दोबारा से ताकत मिली।

पारिवारिक बैकग्राउंड की बात करें तो गुकेश के पिता ईएनटी सर्जन हैं और माँ माइक्रो बायोलॉजिस्ट हैं। गुकेश का जन्म 29 मई 2006 को चेन्नई में हुआ था। वह साल 2015 में अंडर 9 लेवल पर एशियन स्कूल शतरंज चैंपियनशिप जीतने के बाद सुर्खियों में आए। साल 2018 में गुकेश ने एशियन यूथ शतरंज चैंपियनशिप में 5 गोल्ड जीते। 2019 में वह ग्रैंडमास्टर बने। उस समय उनकी उम्र 12 साल 7 महीने और 17 दिन थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -