Tuesday, June 25, 2024
Homeविविध विषयअन्यदिल्ली में सबसे ज्यादा गुम/चोरी होते हैं मोबाइल फोन, खोया हुआ मोबाइल पाना भी...

दिल्ली में सबसे ज्यादा गुम/चोरी होते हैं मोबाइल फोन, खोया हुआ मोबाइल पाना भी देश में सबसे मुश्किल दिल्ली में ही: जानिए क्या कहता है डाटा

दिल्ली में खोए हुए 5.45 लाख फोन में से मात्र 4,893 फोन ही बरामद हुए। यानी दिल्ली में खोए हुए फोन में से केवल 0.90% फोन ही बरामद हुए। दिल्ली वह, राज्य भी है जहाँ देश में सबसे अधिक मोबाइल गायब होते हैं।

राजधानी दिल्ली में आपका मोबाइल फोन खो जाए तो उसके मिलने की उम्मीद सबसे कम है। दिल्ली में 1% से भी कम फोन वापस उनके यूजर्स को मिलते हैं। दिल्ली के अलावा मिजोरम, ओडिशा पंजाब और त्रिपुरा जैसे राज्यों में भी फोन खोने पर वापस मिलने की काफी कम संभावना काफी होती है।

यह आँकड़ा भारत सरकार के संचार सारथी पोर्टल से आया है। संचार सारथी पोर्टल के अनुसार, दिल्ली में खोए हुए 5.45 लाख फोन में से मात्र 4,893 फोन ही बरामद हुए। यानी दिल्ली में खोए हुए फोन में से केवल 0.90% फोन ही बरामद हुए। दिल्ली वह, राज्य भी है जहाँ देश में सबसे अधिक मोबाइल गायब होते हैं। दिल्ली के अलावा मिज़ोरम में फोन वापस मिलने की दर 1.75, ओडिशा में 4.91 और पंजाब में फोन वापस मिलने की दर मात्र 5.02% है।

दिल्ली के बाद कर्नाटक में सबसे अधिक मोबाइल गायब होते हैं। हालाँकि, कर्नाटक में मोबाइल के वापस मिलने की दर थोड़ी अच्छी है। कर्नाटक में 2.35 लाख खोए हुए मोबाइल में से 38,067 मोबाइल वापस मिल सके। मोबाइल खोने के मामले में देश का सबसे अधिक जनसंख्या वाला राज्य उत्तर प्रदेश पाँचवे नम्बर पर है, जहाँ 62,178 मोबाइल चोरी होने की घटनाएँ हुईं।

पंजाब में 41,176 खोए हुए मोबाइल फोन में से मात्र 2066 फोन बरामद हुए जबकि उत्तर प्रदेश में यह आँकड़ा 62,178 में से 5871 का रहा। इसी तरह तमिलनाडु में 35,539 में से मात्र 3490 मोबाइल फोन ही बरामद हो सके।

कैसे बरामद करें खोया फोन

यदि आपका मोबाइल फोन खो गया है, तो इसे IMEI नंबर और केंद्रीय दूरसंचार मंत्रालय की CEIR योजना के तहत पता लगाया जा सकता है और बाद में वापस किया जा सकता है। गौरतलब है कि हर मोबाइल फोन फिंगरप्रिंट की तरह एक IMEI नंबर होता है। फोन में भले ही सिम कार्ड बदल दिया गया हो, फिर भी IMEI के जरिए उसका पता लगाया जा सकता है। आप पुलिस स्टेशन में FIR कराने के बाद पोर्टल sancharsathi.gov.in के माध्यम से IMEI नंबर को ब्लॉक करने का अनुरोध कर सकते हैं।

एक बार यह पूरा हो जाने के बाद, सिम कार्ड के बावजूद फोन का उपयोग किसी भी नेटवर्क पर नहीं किया जा सकता है। पुलिस नेटवर्क को शामिल करके और लोकेशन ट्रैक करके आपके फोन को ट्रैक कर सकती है। CEIR इसी में काम आता है।

दिलचस्प बात ये है कि भारत के बाजार में मिलने वाले सस्ते और बिना ब्रांड वाले चीनी फोन में 16 अंकों वाले IMEI नंबर नहीं होते, जिससे ऐसे मोबाइल फोन को ट्रैक करना और वापस पाना असंभव हो जाता है। यह बात साफ़ नहीं है कि है कि क्या दिल्ली में खोए और चोरी हुए फोन की खराब रिकवरी दर दिल्ली के निवासियों द्वारा ऐसे चीनी फोन के बड़े पैमाने पर उपयोग के कारण है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

शराब घोटाले में जेल में ही बंद रहेंगे दिल्ली के CM केजरीवाल, हाई कोर्ट ने जमानत पर लगाई रोक: निचली अदालत के फैसले पर...

हाई कोर्ट ने कहा कि निचली अदालत ने मामले के पूरे कागजों पर जोर नहीं दिया जो कि पूरी तरह से अनुचित है और दिखाता है कि अदालत ने मामले के सबूतों पर पूरा दिमाग नहीं लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -