Monday, June 17, 2024
Homeविविध विषयअन्ययदि नाम बदल ले विकिपीडिया तो 1 अरब डॉलर देंगे एलन मस्क, जानिए ट्विटर...

यदि नाम बदल ले विकिपीडिया तो 1 अरब डॉलर देंगे एलन मस्क, जानिए ट्विटर के मालिक ने सुझाया कौन सा नाम

मस्क ने विकिपीडिया का नाम बदलकर 'डिकिपीडिया' करने पर एक अरब डॉलर की पेशकश की जानकारी को विकी पेज पर जोड़ने के लिए भी कहा है। उन्होंने कहा कि साइट का नाम बदलने की उनकी पेशकश 'सटीकता के लिए' है।

ट्विटर को खरीदकर उसे ‘एक्स (X)’ की पहचान देने वाले दिग्गज कारोबारी एलन मस्क (Elon Musk) ने विकिपीडिया (Wikipedia) को एक अरब डॉलर देने की पेशकश की है। लेकिन इसके लिए उन्होंने इस ऑनलाइन एनसाइक्लोपीडिया यानी विश्वकोश के सामने कुछ शर्तें रखी हैं। इसमें विकिपीडिया का नाम बदलकर ‘डिकिपीडिया (Dickipedia)’ करना शामिल है।

ये से किसी से छिपा नहीं है कि मस्क को लेफ्ट लिबरल मीडिया के आलोचक रहे हैं। ऑनलाइन एनसाइक्लोपीडिया का वामपंथी पूर्वाग्रह भी जगजाहिर है। वे पहले भी सूचनाओं में हेराफेरी और तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करने के लिए विकिपीडिया और उसके एजेंडाबाज संपादकों को लताड़ लगा चुके हैं।

विकिपीडिया लगातार डोनेशन की अपील करता रहता है। मस्क को यह भी नापसंद है। उन्होंने 22 अक्टूबर 2023 को अपने एक पुराने ट्वीट को रिट्वीट करते हुए क​हा कि अगर विकिपीडिया अपना नाम बदलकर ‘डिकिपीडिया’ कर ले तो वह उन्हें एक अरब डॉलर देंगे। पुराने ट्वीट में उन्होंने एक स्क्रीनशॉट शेयर किया था जिस पर लिखा था ‘विकिपीडिया बिक्री के लिए नहीं है’। स्लीपिंग फेस इमोजी के साथ मस्कर ने इसे ट्वीट किया था।

मस्क ने विकिपीडिया का नाम बदलकर ‘डिकिपीडिया’ करने पर एक अरब डॉलर की पेशकश की जानकारी को विकी पेज पर जोड़ने के लिए भी कहा है। उन्होंने कहा कि साइट का नाम बदलने की उनकी पेशकश ‘सटीकता के लिए’ है। यह बताती है कि विकिपीडिया के बारे में मस्क क्या राय रखते हैं।

जब पत्रकार एड क्रैसेनस्टीन ने विकिपीडिया से यह कहते हुए पेशकर स्वीकार करने के लिए कहा कि वे पैसे इकट्ठा करने के बाद वापस अपने नाम पर लौट सकते हैं, तो एलन मस्क ने कहा कि नया नाम कम से कम 1 साल तक रखना होगा। मस्क ने उन्हें जवाब दिया, “कम से कम एक साल। मेरा मतलब है, मैं मूर्ख नहीं हूँ।”

गौरतलब है कि एलन मस्क एक बिजनेस मैग्नेट हैं। वे इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला, अंतरिक्ष यान निर्माता स्पेसएक्स के चीफ हैं तो स्टारलिंक सैटेलाइट इंटरनेट सेवा, इंफ्रास्ट्रक्चर फर्म बोरिंग और सोशल मीडिया साइट एक्स (पहले ट्विटर) भी संचालित करते हैं। वे न्यूरालिंक, ओपनएआई और पे पाल के को फाउंडर भी हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -