Thursday, August 5, 2021
Homeविविध विषयअन्य'चमगादड़, कुत्ते, बिल्लियाँ खा रहे, उनका खून-पेशाब पीते हैं' - कोरोना पर अख्तर का...

‘चमगादड़, कुत्ते, बिल्लियाँ खा रहे, उनका खून-पेशाब पीते हैं’ – कोरोना पर अख्तर का गुस्सा, चीन वाली बात पर घिघियाए

"मुझे समझ नहीं आता कि आपको चमगादड़ जैसी चीजें क्यों खानी पड़ती हैं, उनका खून और पेशाब पीना पड़ता है और आप वायरस पूरी दुनिया में फैला देते हैं... मैं चीनी लोगों की बात कर रहा हूँ। उन्होंने पूरी दुनिया को खतरे में डाल दिया है।"

पूरा विश्व इस समय कोरोना वायरस के आतंक से भयभीत है। खेल से लेकर अर्थव्यवस्था पर इसका बहुत ही बुरा प्रभाव देखा जा रहा है। ऐसे में आईपीएल के भविष्य से लेकर ऐसे ही तमाम अन्य टूर्नामेंट पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। इसी के चलते पाकिस्तान के पूर्व गेंदबाज शोएब अख्तर भी अपनी प्रतिक्रिया देने से नहीं रोक पाए और उनका गुस्सा चीन पर उतरा है। दरअसल, पाकिस्तान की टी20 लीग पाकिस्तान सुपर लीग पर भी कोरोना वायरस का असर पड़ा है। यही कारण है कि शोएब अख्तर ने पीएसएल के बंद होने पर चीन पर अपनी भड़ास निकाली।

शोएब अख्तर ने कोरोना वायरस फैलाने के लिए चीन पर अपना गुस्सा निकालते हुए कहा कि जब ऊपर वाले ने खाने के लिए इतनी सारी चीजें बनाई हैं तो फिर आप चमगादड़ और कुत्ते कैसे खा सकते हैं? कोरोना की वजह से पाकिस्तान सुपर लीग से विदेशी खिलाड़ी लौट रहे हैं और मैचों को खाली स्टेडियम में कराया जा रहा है।

नाराज शोएब अख्तर ने कहा, “ऊपर वाले ने जब खाने के लिए इतनी सारी चीजें बनाई हैं तो फिर आपको क्या जरूरी है ऐसी अजीब चीजें खाने की। कभी चमगादड़ खा रहे हैं, कुत्ते खा रहे हैं तो कभी बिल्लियाँ खा रहे हैं तो कभी क्या खा रहे हैं। मुझे तो बिल्कुल समझ नहीं आता इन सब चीजों को खाने की जरूरत ही क्या है। पूरी दुनिया रिस्क पर आ गई है, हर चीज खराब हो गई है। 50 अरब डॉलर का नुकसान हो चुका है टूरिजम इंडस्ट्री को।”

अख्तर ने कहा, “मुझे समझ नहीं आता कि आपको चमगादड़ जैसी चीजें क्यों खानी पड़ती हैं, उनका खून और पेशाब पीना पड़ता है और आप वायरस पूरी दुनिया में फैला देते हैं… मैं चीनी लोगों की बात कर रहा हूँ। उन्होंने पूरी दुनिया को खतरे में डाल दिया है। मुझे सच में समझ नहीं आता कि आप चमगादड़, कुत्ते और बिल्ली कैसे खा सकते हैं। मैं सच में गुस्से में हूँ।

हालाँकि, अपने बयान पर लोगों की प्रतिक्रियाओं से घबराते हुए उन्होंने बाद में स्पष्ट भी किया कि उनका बयान चीन के लोगों के खिलाफ नहीं बल्कि जानवरों के कानून के बारे में था। उन्होंने कहा कि मैं जानता हूँ कि यह आपका कल्चर है लेकिन इससे आपकी मदद नहीं हो रही है।

कोरोना के कारण पीएसएल पर पड़े असर पर शोएब ने कहा, “मुझे गुस्सा सबसे ज्यादा इस चीज का है कि पहले तो बड़ी मुश्किल से पाकिस्तान में पीएसएल आई, अब बो भी बंद हो गई है। प्लेयर्स वापस जा रहे हैं। प्लेयर्स इसलिए वापस जा रहे हैं क्योंकि कोरोना वायरस की वजह से इतने केस बढ़ रहे हैं। मुझे इस बात का गुस्सा है कि कोरोना वायरस की वजह से पीएसएल खत्म होने जा रहा है। खत्म तो नहीं होगा लेकिन खाली स्टेडियम में होगा और आगे जो विदेशी खिलाड़ी हैं, वो जा रहे हैं।”

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के डर से पिछले तीन दिन में कई बड़े टूर्नामेंट और सीरीज को स्थगित करने का फैसला लिया जा चुका है। बीसीसीआई ने भारत और साउथ अफ्रीका वनडे सीरीज के आखिरी दो मुकाबले रद्द कर दिए तो वहीं इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) को 15 अप्रैल तक स्थगित करने का फैसला लिया। ऑस्ट्रेलिया की महिला टीम का साउथ अफ्रीका दौरा रद करना पड़ा जबकि न्यूजीलैंड के साथ पुरुष टीम के दो वनडे मुकाबलों को भी स्थगित कर दिया गया।

चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस अब तक 100 से ज्यादा देशों में फैल चुका है और इससे 1 लाख 20 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं और 5 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में अब तक कोरोना के 83 मामले सामने आए हैं। भारत में अब तक COVID 19 से दो की मौत हुई है।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,042FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe