Tuesday, April 13, 2021
Home विविध विषय अन्य कोरोना संकट में रेलवे बना लाइफ़लाइन: 10 लाख टन खाद्यान्न आपूर्ति, 3.2 लाख आइसोलेशन...

कोरोना संकट में रेलवे बना लाइफ़लाइन: 10 लाख टन खाद्यान्न आपूर्ति, 3.2 लाख आइसोलेशन बेड की तैयारी, 1.4 लाख को हर रोज़ भोजन

"कोरोना वायरस के खिलाफ जारी लॉकडाउन में भारतीय रेलवे ने अब तक रिकॉर्ड 352 रेक द्वारा @FCI_India के 10 लाख टन खाद्यान्न की आपूर्ति देश भर में की है।" UN ने भी रेलवे के आइसोलेशन बेड आइडिया की तारीफ़ की।

भारतीय रेलवे एक ऐसा तंत्र है जिसके बिना आप देश को चलाने की कल्पना भी नहीं कर सकते। रेलवे केवल यातायात के लिए ही नहीं, बल्कि देश में जब गंभीर परिस्थितियाँ पैदा होती है तो देश सेवा में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। रेलवे की सेवा की तुलना किसी अन्य तंत्र से करना मुमकिन नहीं है। आज देश में कोरोना वायरस का प्रकोप फैला है जिससे देश पूरी तरह से बंद हो चुका है लेकिन इन गम्भीर व कठिन समय में भी रेलवे अपनी सेवाएँ देश को दे रहा है।

ज़रूरत के सामान की आपूर्ति: कोरोना वाइरस के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन का फ़ैसला लिया और आग्रह किया की लोग अपने घरों में रहे। अगर लोग घरों में रहेंगे तो सामान की ज़रूरत पड़ेगी, और ऐसे में जब देश की जनता अपने घरों में है तो उस समय भारतीय रेल अपने कार्य में लगी है।

रेलवे ने अपनी पैसेंजर ट्रेन तो बंद की लेकिन उसकी मालगाड़ी अभी भी चल रही है जो देश में ज़रूरी सामान की आपूर्ति को बनाए हुए है। लोगों की रोज़मर्रा का सामान जैसे सब्ज़ी, अनाज, दूध, चीनी, नमक आदि जैसी रोज़ उपयोग में आने वाली चीजों को देश के एक कोने से दूसरे कोने तक पहुँचाने का काम भारतीय रेल कर रही है।

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने ट्वीट करके बताया, “कोरोना वायरस के खिलाफ जारी लॉकडाउन में भारतीय रेलवे ने अब तक रिकॉर्ड 352 रेक द्वारा @FCI_India के 10 लाख टन खाद्यान्न की आपूर्ति देश भर में की है।”

ज़रूरतमंदो को भोजन : जब लॉकडाउन किया गया तो उस समय हज़ारों ऐसे लोगों को खाना न मिलने की स्थिति उत्पन्न हुई जो अपने घरों से दूर थे या रोज़ कमाने वाले थे। इसके समाधान के लिए IRCTC ने अपने किचन में खाना बनाना शुरू किया और 28 मार्च तक क़रीब 1.4 लाख लोगों को वो हर रोज़ भोजन की व्यवस्था कर चुके है।

आइसोलेशन बेड : रेलवे भारत की लाइफ़लाइन है इसका सबसे मज़बूत उदाहरण यह है कि रेलवे ने अपने ख़ाली 5,000 कोचेज को मॉडिफाई करने का काम शुरु कर दिया है। जिससे अभी 80,000 आइसोलेशन बेड की व्यवस्था होगी। भारतीय रेल के इस बहुत बड़े एवं महत्वपूर्ण सहयोग से कोरोना वायरस से बचाव के लिए रेलवे 3.2 लाख आइसोलेशन बेड तैयार करने की तैयारी में जुट चुका है। जो कि देश के लिए एक बहुत बड़ी मदद साबित होगी।

PPE’s बनाने में सहयोग: एक अन्य कार्य में भारतीय रेल की प्रोडक्शन यूनिट ने कोरोना से बचाव के लिए जरूरी सामान जैसे मास्क और इन हाउस सैनिटाइजर बनाने का कार्य भी शुरू कर दिया है। जिससे जरूरी PPE’s की सप्लाई भी वह देश के लिए कर सकेंगे। रेलवे की प्रोडक्शन यूनिट ने अस्पतालों के बेड, वेंटिलेटर आदि बनाने का भी ज़िम्मा उठाया है।

हेल्पलाइन नम्बर 138 व 139 : यात्रियों की मदद के लिए रेलवे ने पहले ऑटमैटिक टिकट कैन्सिल करने का निर्णय लिया, जिससे खिड़की से ली गई टिकट को स्टेशन पर आए बिना ही रेलवे ऑटोमैटिक कैन्सिल कर देगा। इसके साथ ही रेलवे बोर्ड के कंट्रोल सेल ने हेल्पलाइन नंबर 138 भी जारी किया है, जिससे यात्री जानकारी के लिए सीधे अपने लोकल डिविज़न से कनेक्ट हो पाएँगे व यात्रा से जुड़ी कोई भी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। इसके अलावा रेलवे ने एक ईमेल आईडी  railmadad@rb.railnet.gov.in भी जारी किया है। यह नागरिकों को सूचना, सहायता, और जानकारी देने के लिये शुरू किया गया है। 139 नम्बर वैसे ही काम करेगा जैसे पहले करता था।

PM-Cares फंड में रेलवे का योगदान : ना केवल अपनी सेवाओं से बल्कि रेलवे आर्थिक स्तर पर भी देश की मदद कर रहा है। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोरोना वायरस जैसी आपदा से निपटने व भविष्य में ऐसी कोई स्थिति पैदा हो तो उसके लिए देश आर्थिक स्तर पर तैयार रहे इसके लिए डोनेशन कैंपेन चलाया। जिसके माध्यम से छोटी से छोटी रकम भी एक आम आदमी दान दे सकता है।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट करके बताया कि उन्होंने व रेल राज्य मंत्री ने अपनी एक महीने की सैलरी व रेलवे के 13 लाख कर्मचारियों व PSU के सभी कर्मचारियों ने अपनी 1 दिन की सैलरी PM-CARES फंड में देने का निर्णय किया। इसका कुल योगदान 151 करोड़ हुआ।

इसके अलवा रेलवे अपने अन्य कई प्रकार के सहयोग से भी कोरोना वायरस से लड़ने में मदद कर रहा है। RPF द्वारा कई जगह पर सब्ज़ी मंडियाँ लगवाई जा रही है जो कि पूर्ण रूप से सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करके लगाई गई है।

रेलवे दिल खोलकर कोरोना वायरस से लड़ने में सहयोग कर रहा है, जो कि तारीफ़ के काबिल है। UN ने भी रेलवे के आइसोलेशन बेड आइडिया की तारीफ़ की। एक बार फिर रेलवे ने साबित कर दिया की वह देश कि लाइफ़लाइन है। जिसके बिना देश में कई चीजों की व्यवस्था की कल्पना भी नहीं की जा सकती।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Hitesh Bansal
Social Media | Writer| PR | Government policies |

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारतीय गणना ही सर्वोत्तम: विदेशी कैलेंडर गड़बड़ियों की तारीख से भरे, कभी 10 माह का साल तो कभी 10 दिन गायब

रोमन, जूलियन और ग्रेगेरियन कैलेंडरों में खासा कन्फ्यूजन था। अब भी है। कई त्रुटियाँ हुईं। किसी ने सूर्य को आधार माना तो किसी ने चन्द्रमा को। भारतीय प्राचीन कैलेंडर यूँ ही चला आ रहा है - सटीक।

मरकज से कुम्भ की तुलना पर CM तीरथ सिंह ने दिया ‘लिबरलों’ को करारा जवाब, कहा- एक हॉल और 16 घाट, इनकी तुलना कैसे?

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की तुलना तबलीगी जमात के मरकज से करने वालों को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने करारा जवाब दिया है।

यूपी पंचायत चुनाव लड़ रहे एक प्रत्याशी के घर से भारी मात्रा समोसे-जलेबी की जब्ती, दक्षिण भारत में छिड़ा घमासान

क्या ज़माना आ गया है। चुनाव के मौसम में छापे मारने पर समोसे और जलेबियाँ बरामद हो रही हैं! जब ज़माना अच्छा था और सब ख़ुशी से जीवनयापन करते थे तब चुनावी मौसम में पड़ने वाले छापे में शराब जैसे चुनावी पेय पदार्थ बरामद होते थे।

100 करोड़ की वसूली के मामले में अनिल देशमुख को CBI का समन, 14 अप्रैल को होगी ‘गहन पूछताछ’

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 100 करोड़ रुपए की वसूली मामले में पूछताछ के लिए समन जारी किया है। उन्हें 14 अप्रैल को जाँच एजेंसी के सामने पेश होना पड़ेगा।

आंध्र या कर्नाटक… कहाँ पैदा हुए रामभक्त हनुमान? जन्म स्थान को लेकर जानें क्यों छिड़ा है नया विवाद

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) द्वारा गठित एक विशेषज्ञ पैनल 21 अप्रैल को इस मामले पर अपनी रिपोर्ट सौंप सकता है। पैनल में वैदिक विद्वानों, पुरातत्वविदों और एक इसरो वैज्ञानिक भी शामिल हैं।

‘गुस्ताख-ए-नबी की इक सजा, सर तन से जुदा’: यति नरसिंहानंद के खिलाफ मुस्लिम बच्चों ने लगाए नारे, वीडियो वायरल

डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद के खिलाफ सोमवार को मुस्लिम बच्चों ने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाए। पिछले हफ्ते आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान ने अपने ट्विटर अकाउंट पर महंत की गर्दन काट देने की बात की थी।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

बालाघाट में यति नरसिंहानंद के पोस्टर लगाए, अपशब्दों का इस्तेमाल: 4 की गिरफ्तारी पर भड़की ओवैसी की AIMIM

बालाघाट पुलिस ने यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ पोस्टर लगाने के आरोप में मतीन अजहरी, कासिम खान, सोहेब खान और रजा खान को गिरफ्तार किया।

गुफरान ने 5 साल की दलित बच्ची का किया रेप, गला घोंट मार डाला: ‘बड़े सरकार की दरगाह’ पर परिवार के साथ आया था

गुफरान अपने परिवार के साथ 'बड़े सरकार की दरगाह' पर आया हुआ था। 30 वर्षीय आरोपित ने रेप के बाद गला घोंट कर बच्ची की हत्या की।

SHO अश्विनी की हत्या के लिए मस्जिद से जुटाई गई थी भीड़: बेटी की CBI जाँच की माँग, पत्नी ने कहा- सर्किल इंस्पेक्टर पर...

बिहार के किशनगंज जिला के नगर थाना प्रभारी अश्विनी कुमार की शनिवार को पश्चिम बंगाल में हत्या के मामले में उनकी बेटी ने इसे षड़यंत्र करार देते हुए सीबीआई जाँच की माँग की है। वहीं उनकी पत्नी ने सर्किल इंस्पेक्टर पर केस दर्ज करने की माँग की है।

‘भारत को इस्लामी मुल्क बनाने का लक्ष्य लेकर चल रहे सभी मुस्लिम, अब घोषित हो हिंदू राष्ट्र’: केरल के 7 बार के MLA ने...

"भारत को तुरंत 'हिन्दू राष्ट्र' घोषित किया जाना चाहिए, क्योंकि मुस्लिम समाज 2030 तक इसे इस्लामी मुल्क बनाने के काम पर लगा हुआ है।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,161FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe