Thursday, July 29, 2021
Homeविविध विषयअन्यबिहार का राज्यपाल क्या एक 'कठपुतली' मात्र है- BPSC परीक्षा में पूछा गया विवादास्पद...

बिहार का राज्यपाल क्या एक ‘कठपुतली’ मात्र है- BPSC परीक्षा में पूछा गया विवादास्पद प्रश्न

“भारत में राज्य की राजनीति में राज्यपाल की भूमिका का आलोचनात्मक परीक्षण कीजिए, विशेष रूप से बिहार के संदर्भ में। क्या वह केवल एक कठपुतली हैं?”

बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) की मुख्य परीक्षा में एक विवादास्पद सवाल पूछे जाने की ख़बर सुर्खि़यों में है। दरअसल, रविवार (14 जुलाई 2019) को आयोजित BPSC की मुख्य परीक्षा के सामान्य ज्ञान के दूसरे पेपर में एक सवाल पूछा गया:

“भारत में राज्य की राजनीति में राज्यपाल की भूमिका का आलोचनात्मक परीक्षण कीजिए, विशेष रूप से बिहार के संदर्भ में। क्या वह केवल एक कठपुतली हैं?”

न केवल इस प्रश्न पर BPSC की चौतरफ़ा किरकिरी हो रही है और परीक्षा के बाद यह प्रश्न परीक्षार्थियों के बीच चर्चा का विषय बना रहा, बल्कि अधिकारियों ने भी माना कि राज्यपाल के संवैधानिक पद के लिए ‘कठपुतली’ शब्द का प्रयोग न होना बेहतर होता। लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह के सवाल तो पहले भी पूछे जाते रहे हैं। मीडिया से हुई बातचीत में BPSC के परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने यह भी जोड़ा कि आयोग के सदस्यों या अधिकारियों को इस बात की कोई जानकारी नहीं होती कि प्रश्न-पत्र में क्या-क्या सवाल पूछे जा रहे हैं।


बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) की मुख्य परीक्षा में पूछा गया विवादास्पद प्रश्न (तस्वीर सौजन्य: अमर उजाला)

बिहार के प्रतियोगी विशेषज्ञ डॉ एम रहमान ने भी हालाँकि इसकी तस्दीक की कि इस तरह के प्रश्न पहले भी पूछे जाते थे, मगर उनके भी मतानुसार विशेषकर बिहार लिखकर इंगित करने या राज्यपाल जैसे संवैधानिक पद के संदर्भ में ‘कठपुतली’ जैसे शब्द के इस्तेमाल से बचा जा सकता था। उन्होंने बताया कि ऐसे प्रारूप के प्रश्नों का मकसद छात्रों की अवधारणा को जानने का होता है। कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स, आर्टस एंड साइंस के प्राचार्य डॉ तपन कुमार शांडिल्य ने भी कहा कि राज्यपाल एक संवैधानिक पद है। BPSC द्वारा इस तरह का सवाल पूछा जाना उचित नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,735FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe