Monday, July 26, 2021
Homeविविध विषयअन्य...तब फ्रंटलाइन वर्कर्स को दिखाया था मिडिल फिंगर, अब कुणाल कामरा खुद हुआ कोरोना...

…तब फ्रंटलाइन वर्कर्स को दिखाया था मिडिल फिंगर, अब कुणाल कामरा खुद हुआ कोरोना पॉजिटिव

PM मोदी से नफरत के कारण कुणाल कामरा ने जनता कर्फ्यू के बाद फ्रंटलाइन वर्कर्स का मजाक उड़ाते हुए मिडिल फिंगर दिखाया था। अब उसने खुद के कोरोना+ होने की बात कह कर...

फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं का मजाक उड़ाने के एक साल बाद ‘कॉमेडियन ’कुणाल कामरा ने मंगलवार (अप्रैल 6, 2021) को बताया कि उन्हें और उनके माता-पिता को कोरोना वायरस के संक्रमण का पता चला है।

एक ट्वीट में, कामरा ने लिखा, “मेरे माता-पिता कोविड पॉजिटिव हैं और वे नजदीक के अस्पताल में हैं। मैं भी कोविड पॉजिटिव हूँ और घर में क्वारंटाइन हूँ। मैंने उन सभी से बात की, जिनसे मैं संपर्क में था। मैं और मेरा परिवार जल्द ही ठीक हो जाएगा।” उन्होंने आगे जोर दिया, “कृपया कोरोना के दूसरी लहर को बहुत गंभीरता से लें और सावधान रहें।”

गौरतलब है कि स्टैंड-अप कॉमेडियन ने पिछले साल मार्च में महामारी की शुरुआत के दौरान भारत के फ्रंटलाइन वर्कर्स का मजाक उड़ाया था। पिछले साल राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में, पीएम नरेंद्र मोदी ने 22 मार्च, 2020 को सुबह 7 से 9 बजे तक ‘जनता कर्फ्यू’ का आह्वान किया था। उन्होंने इस बात पर जोर दिया था कि इसका मतलब होगा कि बीमारी को फैलने से रोकने के लिए लोगों द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू।

तब युवा और बूढ़े, अमीर और गरीब, समाज के सभी वर्गों के लोग अपनी बालकनी और बरामदे से ताली बजाते और घंटी बजाते हुए निकले थे और महामारी से जूझ रहे फ्रंटलाइन योद्धाओं की सराहना की थी। हालाँकि, कुछ लोगों को यह रास नहीं आया था कि जनता राष्ट्र के साथ एकजुट है। ऐसे लोगों का तब इसका विरोध किया था।

ट्वीट का स्क्रीनशॉट

पीएम नरेंद्र मोदी के लिए कामरा का नफरत जगजाहिर है। कुणाल कामरा ने भाजपा पर निशाना साधने के लिए फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं को अपमानित करने की कोशिश की थी। एक ट्विटर पोस्ट में, उन्होंने लिखा था, ‘कल के लिए तैयारी’ और फ्रंटलाइन के वर्करों का मजाक उड़ाने के लिए मिडिल फिंगर दिखाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe