ईरान के बाद अब वेनेजुएला पर अमेरिकी प्रतिबंध, निर्मला सीतारमण ने कहा- नहीं कुर्बान कर सकते भारतीय हित

वित्त मंत्री ने मंगलवार को समाचार एजेंसी से कहा, "हम अमेरिका के साथ अपने रिश्तों की कदर करते हैं, लेकिन हमें उतनी ही आज़ादी एक सशक्त अर्थव्यवस्था बनने की भी होनी चाहिए।"

रॉयटर्स को दिए गए एक हालिया साक्षात्कार में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने साफ़ कर दिया कि भारत के आर्थिक हितों को अमेरिकी प्रतिबंधों के लिए कुर्बान नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि वेनेज़ुएला और रूस जैसे देशों पर लगाए गए वैश्विक प्रतिबंधों का भारत पालन करना चाहता है, लेकिन उसे अपने रणनीतिक हितों और शक्ति को भी बनाए रखने की आवश्यकता है। उन्होंने यह भी बताया कि भारतीय सरकार ने अमेरिका को अपने निर्णय से अवगत करा दिया है।

अमेरिका को ताकतवर सहयोगी चाहिए या कमज़ोर?

वित्त मंत्री ने मंगलवार को समाचार एजेंसी से कहा, “हम अमेरिका के साथ अपने रिश्तों की कदर करते हैं, लेकिन हमें उतनी ही आज़ादी एक सशक्त अर्थव्यवस्था बनने की भी होनी चाहिए।” गौरतलब है कि वेनेज़ुएला के कच्चे तेल व्यापार की कमर तोड़ने के लिए अमेरिका ने जनवरी में उस पर कड़े प्रतिबंध लगा दिए थे। इससे उसके कुछ ग्राहक देश तो ठिठके, लेकिन प्रभावी विकल्प के अभाव में रिलायंस इंडस्ट्रीज़ 4 महीने तक रूसी कंपनी रोसनेफ्ट से खरीदारी करने के बाद फिर से वेनेज़ुएला का रुख करने की तैयारी में है।

“वो मुद्दे विशेष जो भारत के रणनीतिक हितों के लिए महत्वपूर्ण हैं, उनको लेकर के हमने अमेरिका को यह समझाया है कि भारत अमेरिका का रणनीतिक साझेदार है, और आप अपने रणनीतिक सहयोगी को शक्तिशाली चाहेंगे, न कि कमज़ोर।”

ईरान पर प्रतिबंध पहले ही सिरदर्द

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

भारत पहले ही अमेरिकी प्रतिबंधों की आर्थिक कीमत चुका रहा है। गिरती अर्थव्यवस्था के बीच पिछले एक साल से ईरान से सस्ता मिल रहा क्रूड भी भारत ने खरीदना कम कर दिया है। पहले ईरान भारत को तीसरा सबसे बड़ा तेल निर्यातक था, अब वह पहले दस से भी बाहर है। तिस पर से सऊदी अरब के अरामको तेल संयंत्रों पर हुए हमलों के बाद अचानक से आई दामों में तेज़ी ने भारत के लिए और परेशानी बढ़ा दी थी। ऐसे में अब वेनेज़ुएला प्रतिबंध को और झेलना भारत के लिए मुश्किल लग रहा है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सोनिया गाँधी
शिवसेना हिन्दुत्व के एजेंडे से पीछे हटने को तैयार है फिर भी सोनिया दुविधा में हैं। शिवसेना को समर्थन पर कॉन्ग्रेस के भीतर भी मतभेद है। ऐसे में एनसीपी सुप्रीमो के साथ उनकी आज की बैठक निर्णायक साबित हो सकती है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,489फैंसलाइक करें
23,092फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: