Tuesday, January 26, 2021
Home विविध विषय अन्य पहली बार प्रधानमंत्री बने काशी की ‘देव दीपावली' का हिस्सा, जानिए इस महापर्व का...

पहली बार प्रधानमंत्री बने काशी की ‘देव दीपावली’ का हिस्सा, जानिए इस महापर्व का इतिहास…

ऐसा कहा जाता है कि काशी की उत्तर वाहिनी गंगा के तट पर कार्तिक पूर्णिमा को मनाई जाने वाली देव दीपावली को पूरा देवलोक धरती पर होता है। काशी के घाट पर मनाई जाने वाली देव दीपावली का इतिहास लगभग साढ़े तीन दशक पुराना है। शुरुआत हुई थी काशी के ही पंचगंगा घाट से और तब सिर्फ स्थानीय लोग घाट पर दीया जलाते थे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार (30 नवंबर 2020) को दीप प्रज्वलित कर कशी में देव दीपावली महोत्सव का शुभारंभ किया। इस दौरान उनके साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी थे।

देश समेत पूरी दुनिया की निगाहें आज काशी के इस भव्य आयोजन पर टिकी हुई हैं। इस अवसर पर बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “कोरोना काल ने भले ही बहुत कुछ बदल दिया है लेकिन काशी की ये ऊर्जा, काशी की ये भक्ति, ये शक्ति उसको थोड़े कोई बदल सकता है।” प्रधानमंत्री मोदी ने इसके अलावा संस्कृति, आस्था और मूल्यों को विरासत बताते हुए कई अहम बातें कहीं। यह भारत के इतिहास में पहला ऐसा मौक़ा है जब देश का कोई प्रधानमंत्री देव दीपावली के अवसर पर काशी में मौजूद है।

ऐसा कहा जाता है कि काशी की उत्तर वाहिनी गंगा के तट पर कार्तिक पूर्णिमा को मनाई जाने वाली देव दीपावली को पूरा देवलोक धरती पर होता है। काशी के घाट पर मनाई जाने वाली देव दीपावली का इतिहास लगभग साढ़े तीन दशक पुराना है। शुरुआत हुई थी काशी के ही पंचगंगा घाट से और तब सिर्फ स्थानीय लोग घाट पर दीया जलाते थे, लेकिन पहली बार साल 1985 के दौरान मंगला गौरी मंदिर के महंत नारायण गुरु ने देव दीपावली को विस्तृत करने का प्रयास किया। अस्सी के दशक में भी स्वच्छता गंगा के घाटों के लिए बड़ी समस्या थी जिसको मद्देनज़र रखते हुए महंत नारायण गुरु ने कहा कि घाटों पर दिया जलाया जाना चाहिए। उन्होंने पंचगंगा के अलावा कुल 5 घाटों पर दीप प्रज्वलित करना शुरू किया। 

(साभार – सोशल मीडिया)

नारायण गुरु ने इस आयोजन के लिए लोगों से सहयोग माँगना भी शुरू किया, दुकानदारों से तेल और घी माँगा। धीरे-धीरे जनता इस आयोजन की सार्थकता को देखते हुए सहयोग के लिए आगे आई। एक समाचार समूह में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक नारायण गुरु का कहना था कि उस दौर में 100 दीयों पर लगभग 12 रुपए खर्च होते थे। कालान्तर में इस आयोजन का दायरा 6 घाटों से बढ़ कर मुख्य घाटों तक बढ़ गया। मंगला गौरी मंदिर के महंत नारायण गुरु की अगुवाई में 90 के दशक तक देव दीपावली का यह आयोजन काशी के 84 में से 31 घाटों तक विस्तृत हो गया था। 

इसके बाद एक और मुहिम छेड़ी गई जिसके तहत इसे काशी के हर घाट पर आयोजित करने का प्रयास हुआ और केंद्रीय देव दीपावली महासमिति का गठन हुआ। आने वाले कुछ वर्षों में काशी की देव दीपावली का स्वरूप दिव्य हो गया। इसी बीच काशी के तालाबों और जलाशयों पर भी देव दीपावली मनाने की शुरुआत हुई। कथित तौर पर 1992 के दौरान विवादित ढाँचा गिराए जाने के बाद भी काशी की देव दीपावली का विस्तार हुआ और नब्बे का दशक ख़त्म होते होते इस आयोजन की ख्याति पूरे विश्व में प्रचलित ही गई। एक मान्यता के अनुसार देवता भी देव दीपावली में शामिल होते हैं और इसके पीछे की पौराणिक कथा भी बेहद चर्चित है।

(साभार – सोशल मीडिया)

कहा जाता है कि भगवान शिव के ज्येष्ठ पुत्र और देवताओं के सेनापति कार्तिकेय ने तारकासुर का वध कर दिया था। इसके बाद उसके तीनों बेटों तारकाक्ष, कमलाक्ष और विद्युन्माली (त्रिपुरासुर) ने देवताओं से प्रतिशोध लेने का प्रण किया। उन्होंने कठोर तपस्या की और तपस्या के बाद ब्रह्मा प्रकट हुए तब उनसे अमरता का वरदान माँगा। ब्रह्मा ने कहा यह संभव नहीं है कुछ और माँगो। तब त्रिपुरासुर ने कहा हमारे लिए तीन पुरी (नगर) का निर्माण कर दें। यह तीनों पुरी जब अभिजित नक्षत्र में एक पंक्ति में खड़ी हों और कोई क्रोधजित अत्यंत शांत अवस्था में असंभव रथ और असंभव बाण का सहारा लेकर हमारा वध करना चाहे तभी हमारी मृत्यु हो। ब्रह्मा ने उन्हें यह वरदान दे दिया। 

वरदान के अनुसार त्रिपुरासुर को तीन पुरी प्रदान की गई। तारकाक्ष के लिए स्वर्णपुरी, कमलाक्ष के लिए रजतपुरी और विद्युन्माली के लिए लौहपुरी। इसके बाद तीनों ने ऋषि-मुनियों और देवताओं पर अत्याचार करना शुरू कर दिया, देवता भी इनका कुछ नहीं कर पाए। सभी देवता शिव की शरण में गए और उन्होंने देवताओं के कहा कि सब मिल कर प्रयास क्यों नहीं करते हैं? देवताओं ने कहा हम ऐसा कर चुके हैं लेकिन हम असफल रहे हैं। फिर शिव ने त्रिपुरासुर के वध का संकल्प लिया और देवताओं ने उन्हें अपना आधा बल दे दिया। शिव ने पृथ्वी को रथ बनाया, सूर्य और चंद्रमा इस रथ के पहिये बने, सृष्टा सारथी बने, विष्णु बाण, मेरुपर्वत धनुष और वासुकी बने धनुष की डोर। 

(साभार – सोशल मीडिया)

अंत में शिव ने उस असंभव रथ पर सवार होकर धनुष चढ़ाया और अभिजित नक्षत्र में तीनों पुरी के एक पंक्ति में आते ही कठोर प्रहार किया। प्रहार के ठीक बाद तीनों पुरी जल कर भस्म हो गई और त्रिपुरासुर का भी अंत हो गया। ऐसा माना जाता है कि यह दिन कार्तिक पूर्णिमा का था। त्रिपुरासुर का अंत होते ही सभी देवता प्रफुल्लित होकर शिव की नगरी काशी पहुँचे और सभी ने गंगा के घाट पर दीप प्रज्वलित किए। यह भी एक कारण है कि कार्तिक पूर्णिमा को त्रिपुरारी पूर्णिमा भी कहा जाता है। इस बार की देव दीपावली कई मायनों में विशेष है, जिसमें सबसे उल्लेखनीय है कि पहली बार देश के प्रधानमंत्री इस महापर्व का हिस्सा बन रहे हैं।   

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गणतंत्र दिवस पर लिब्रांडुओं के नैरेटिव के लिए आप तैयार हैं?

कल की मीडिया में वामपंथियों और लिब्रांडुओं के नैरेटिव की झलक आज देख लीजिए ताकि आपको झटका न लगे!

10 को पद्म भूषण, 7 को पद्म विभूषण और 102 को पद्म श्री: पाने वालों में विदेशी राजनेता से लेकर धर्मगुरु तक

जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे, गायक एसपी बालासुब्रमण्यम (मरणोपरांत), सैंड कलाकार सुदर्शन साहू, पुरातत्वविद बीबी लाल को पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाएगा।

कल तक ‘कसम राम की’ कहने वाली शिवसेना भी ‘जय श्री राम’ पर हुई सेकुलर, बताया- राजनीतिक एजेंडा

कल तक 'कसम राम की' कहने वाली शिवसेना को अब जय श्री राम के नारे में धार्मिक अलगावाद दिखता है। राजनीतिक एजेंडा लगता है।

‘कोहराम मचा दो… मोदी को जला कर राख कर देगी’: किसानों के नाम पर अबू आजमी ने उगला जहर, सुनते रहे पवार

किसानों के नाम पर मुंबई में सपा विधायक अबू आजमी ने प्रदर्शनकारियों को उकसाने की कोशिश की। शरद पवार भी उस समय वहीं थे।

आर्थिक सुधारों के पूरक हैं नए कृषि कानून: राष्ट्रपति के संदेश में किसान, जवान और आत्मनिर्भर भारत पर फोकस

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार (जनवरी 25, 2021) को 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर शाम 7 बजे राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं।

ऐसे लोगों को छोड़ा नहीं जाना चाहिए: मुनव्वर फारूकी पर जस्टिस रोहित आर्य, कुंडली निकालने में जुटा लिब्रांडु गिरोह

हिन्दू देवी-देवताओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले मुनव्वर फारूकी की याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति रोहित आर्य ने कहा कि ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाना चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

निकिता तोमर को गोली मारते कैमरे में कैद हुआ था तौसीफ, HC से कहा- मैं निर्दोष, यह ऑनर किलिंग

निकिता तोमर हत्याकांड के मुख्य आरोपित तौसीफ ने हाई कोर्ट से घटना की दोबारा जाँच की माँग की है। उसने कहा कि यह मामला ऑनर किलिंग का है।

‘जिस लिफ्ट में ऑस्ट्रेलियन, उसमें हमें घुसने भी नहीं देते थे’ – IND Vs AUS सीरीज की सबसे ‘गंदी’ कहानी, वीडियो वायरल

भारतीय क्रिकेटरों को सिडनी में लिफ्ट में प्रवेश करने की अनुमति सिर्फ तब थी, अगर उसके अंदर पहले से कोई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी न हो। एक भी...

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।
- विज्ञापन -

 

‘गजनवी फोर्स’ से जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर हमले की फिराक में पाकिस्तान, सैन्य प्रतिष्ठान भी आतंकी निशाने पर

जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर आतंकी हमलों की फिराक में हैं। सैन्य प्रतिष्ठान भी निशाने पर हैं।
00:25:31

गणतंत्र दिवस पर लिब्रांडुओं के नैरेटिव के लिए आप तैयार हैं?

कल की मीडिया में वामपंथियों और लिब्रांडुओं के नैरेटिव की झलक आज देख लीजिए ताकि आपको झटका न लगे!

‘ऐसे बयान हमारी मातृभूमि के लिए खतरा’: आर्मी वेटरन बोले- माफी माँगे राहुल गाँधी

आर्मी वेटरंस ने कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी के उस बयान की निंदा की है, जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘सेना की कोई आवश्यकता नहीं’ है।

10 को पद्म भूषण, 7 को पद्म विभूषण और 102 को पद्म श्री: पाने वालों में विदेशी राजनेता से लेकर धर्मगुरु तक

जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे, गायक एसपी बालासुब्रमण्यम (मरणोपरांत), सैंड कलाकार सुदर्शन साहू, पुरातत्वविद बीबी लाल को पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाएगा।

‘1 फरवरी को हम संसद तक पैदल मार्च निकालेंगे’: ट्रैक्टर रैली से पहले ‘किसान’ संगठनों का नया ऐलान

गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली की अनुमति मिलने के बाद अब 'किसान' संगठन बजट सत्र को बाधित करने की कोशिश में हैं। संसद मार्च का ऐलान किया है।

कल तक ‘कसम राम की’ कहने वाली शिवसेना भी ‘जय श्री राम’ पर हुई सेकुलर, बताया- राजनीतिक एजेंडा

कल तक 'कसम राम की' कहने वाली शिवसेना को अब जय श्री राम के नारे में धार्मिक अलगावाद दिखता है। राजनीतिक एजेंडा लगता है।

अशोका यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर ने भगवान राम का उड़ाया मजाक, राष्ट्रपति को कर रहा था ट्रोल

अशोका यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर नीलांजन सरकार ने अपना दावा झूठा निकलने पर भगवान राम का उपहास किया।

‘कोहराम मचा दो… मोदी को जला कर राख कर देगी’: किसानों के नाम पर अबू आजमी ने उगला जहर, सुनते रहे पवार

किसानों के नाम पर मुंबई में सपा विधायक अबू आजमी ने प्रदर्शनकारियों को उकसाने की कोशिश की। शरद पवार भी उस समय वहीं थे।

बॉम्बे HC के ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट के खिलाफ अपील करें: महाराष्ट्र सरकार से NCPCR

NCPCR ने महाराष्ट्र सरकार से कहा है कि वह यौन शोषण के मामले से जुड़े बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ तत्काल अपील दायर करे।

आर्थिक सुधारों के पूरक हैं नए कृषि कानून: राष्ट्रपति के संदेश में किसान, जवान और आत्मनिर्भर भारत पर फोकस

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार (जनवरी 25, 2021) को 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर शाम 7 बजे राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe